मुख्यपृष्ठनए समाचारमहाराष्ट्र में समय पर आएगा मानसून ...पांच दिनों में पहुंचेगा अंडमान निकोबार...

महाराष्ट्र में समय पर आएगा मानसून …पांच दिनों में पहुंचेगा अंडमान निकोबार …मौसम विभाग ने दी महत्वपूर्ण जानकारी

सामना संवाददाता / मुंबई
महाराष्ट्र में पिछले दो दिनों से कई हिस्सों में मूसलाधार बारिश हुई है। मुंबई के साथ-साथ ठाणे, नई मुंबई, रायगड में सोमवार को तेज हवाओं के साथ भारी बारिश हुई। ऐसे में कई लोगों का कहना है कि जब इस गर्मी के मौसम में बारिश हो रही है तो मानसून की बारिश कब होगी? इसे लेकर अब मौसम विभाग की ओर से एक अहम पूर्वानुमान की घोषणा की गई है। वरिष्ठ मौसम विशेषज्ञों के मुताबिक, दक्षिण-पश्चिम की तरफ से मानसून रविवार को अंडमान निकोबार में प्रवेश करेगा। फिर हिंदुस्थान में मानसून केरल में प्रवेश करेगा। मौसम विभाग ने अभी तक केरल में मानसून के आगमन की तारीख की घोषणा नहीं की है। हालांकि, प्रदेश में पिछले साल की तुलना में जल्द यानी ६ जून तक मानसून सक्रिय होने के संकेत मिल रहे हैं। साथ ही यह भी अनुमान लगाया गया है कि १९ मई के बाद राज्य में बेमौसम बारिश कम हो जाएगी। इससे किसानों के चेहरों पर खुशियों की लकीर साफ तौर पर दिखाई देने लगी है।
उल्लेखनीय है कि २१ मई के आस-पास अंडमान में मानसून का आगमन होता है। अंडमान में करीब २४ घंटे की बारिश के बाद दक्षिण-पश्चिम मानसून को सक्रिय घोषित कर दिया जाता है। हालांकि, इस साल अंडमान में पहले ही मानसून सक्रिय होने की संभावना है। इसके बाद मानसून का आगे का रुख बंगाल की खाड़ी में वायुमंडलीय स्थितियों पर निर्भर करता है। परिणामस्वरूप, यदि मानसून के दौरान कोई बाधा नहीं आई, तो मानसून एक जून के आस-पास केरल में प्रवेश करेगा। इसके साथ ही महाराष्ट्र में ८ जून के आस-पास मानसून सक्रिय हो जाएगा। पिछले साल मानसून ने १६ जून को राज्य में प्रवेश किया था, लेकिन ऐसी संभावना है कि इस साल कोकण में बारिश जल्दी होगी।
अप्रैल माह से तापमान में हुई है बढ़ोतरी
अप्रैल माह से ही राज्य में तापमान में जबरदस्त बढ़ोतरी हुई है। कई हिस्सों में तापमान रिकॉर्ड ऊंचाई पर पहुंच गया है। मुंबई और कोकण इलाके में गर्मी से नागरिक परेशान हैं। ऐसे में अब हर कोई सोच रहा है कि मानसून की बारिश कब होगी। इसके अलावा राज्य के अधिकांश किसान अपनी फसलों के लिए वर्षा जल पर निर्भर हैं। उनके अनुसार, वर्षा ऋतु बहुत महत्वपूर्ण है। राज्य में वर्षा का प्रतिशत वर्ष के दौरान कृषि की मात्रा पर निर्भर करता है।
यहां टकरा सकता है मानसून
आईएमडी के पूर्व प्रमुख माणिकराव खुले ने कहा कि शनिवार को दक्षिण-पश्चिम मानसून के बंगाल की खाड़ी इंडोनेशिया के पश्चिमी तट और सुमात्रा द्वीप से टकराने की संभावना है। दक्षिण-पश्चिम मानसून एक जून को केरल में पहुंचने के बाद निर्धारित होगा। फिलहाल, अभी भी इसमें तीन हफ्ते बाकी हैं।

मानसून का अंडमान में आगमन  
वर्ष मानसून          आगमन
२०१८               २५ मई
२०१९               १८ मई
२०२०               १७ मई
२०२१               २१ मई
२०२२              १६ मई
२०२३              १९ मई
२०२४              १९ मई

अन्य समाचार