मुख्यपृष्ठखबरेंमच्छरों की सुपारी लेंगे `मच्छर'! मलेरिया से बचाएंगे टेस्ट `ट्यूब मच्छर', ब्रिटेन...

मच्छरों की सुपारी लेंगे `मच्छर’! मलेरिया से बचाएंगे टेस्ट `ट्यूब मच्छर’, ब्रिटेन की लैब में चल रही है तैयारी

एजेंसी / नई दिल्ली
बरसात के मौसम में कई बीमारियों का प्रकोप बढ़ जाता है। इन बीमारियों में विशेषकर डेंगू, मलेरिया और चिकनगुनिया हैं। ये बीमारियां मच्छरों की वजह से फैलती हैं। सरकार द्वारा इन बीमारियों से बचने के तमाम उपाय किए जाते हैं। मच्छर पैदा न हों इसके लिए जगह-जगह पर जागरूकता फैलाने के साथ छिड़काव किए जाते हैं। अब इन मच्छरों से छुटकारा मिलने वाला है। इन मच्छरों की सुपारी `मच्छर’ ही लेंगे। दरअसल, ब्रिटेन की एक लैब में `टेस्ट ट्यूब मच्छरों’ के जरिए मलेरिया जैसी खतरनाक बीमारी के खात्मे की तैयारी हो रही है। ब्रिटेन की बायोटेक कंपनी ऑक्सीटेक ने एक `सुपर मच्छर’ तैयार किया है, जो बीमारी फैलाने वाले मच्छरों को टक्कर दे सकता है।
मिली जानकारी के अनुसार, ऑक्सीटेक ने जिन मच्छरों को तैयार किया है, वो सभी नर हैं। इन मच्छरों की खासियत यह है कि इनमें एक खास तरह का जीन मौजूद है, जो मादा मच्छरों को ज्यादा दिनों तक जिंदा रहने से रोकता है। जब सुपर नर मच्छर मादा मच्छरों के साथ संबंध बनाते हैं तो जीन उनमें ट्रांसफर हो जाते हैं, इससे मादा मच्छरों की मौत हो जाती है। इंसानों को सिर्फ मादा मच्छर ही काटती हैं। इनकी वजह से ही मलेरिया होता है, जबकि नर मच्छर न तो इंसानी खून पीते हैं और न ही मलेरिया फैलाते हैं। सुपर मच्छरों की वजह से दुनिया में नर मच्छरों की तादाद बढ़ जाएगी, जबकि मादा मच्छर की संख्या कम होने लगेगी। इस तरह धीरे-धीरे दुनिया से मलेरिया का खात्मा हो जाएगा।
एक अरब नर मच्छरों को छोड़ा गया
ऑक्सीटेक के रिसर्च से पता चला है कि सुपर नर मच्छर पर्यावरण और इंसान दोनों के लिए ही खतरा नहीं हैं। अभी तक दुनियाभर में एक अरब नर मच्छरों को छोड़ा गया है। इनकी वजह से किसी भी तरह का नकारात्मक प्रभाव भी नहीं देखने को मिला है। ऑक्सीटेक का दावा है कि जिन मच्छरों को तैयार किया गया है, वो मच्छरों की तादाद को कंट्रोल करने के लिए गेम-चेंजिंग हैं।

अन्य समाचार

लालमलाल!