मुख्यपृष्ठसमाचारमां का दूध अनमोल! ...बचाई हजारों की जान

मां का दूध अनमोल! …बचाई हजारों की जान

• ठाणे के `स्तन दूध बैंक’ की अनोखी पहल
• १६,४२६ माताओं ने स्वेच्छा से किया दान
• १० वर्ष में ७९३ लीटर दूध का संकलन

सामना संवाददाता / ठाणे
नवजात शिशुओं के लिए मां का दूध अमृत के समान होता है। नवजात शिशु के शरीर और मस्तिष्क विकास के लिए यह बेहद जरूरी होता है लेकिन कुछ मामलों में बच्चों को उनकी मां दूध नहीं पिला पाती या फिर कई नवजात शिशु खुद ब खुद मां का दूध पीना छोड़ देते हैं। ऐसे मामलों में बच्चों की जान न जाए इसलिए `स्तन दूध बैंक’ की शुरुआत की गई थी। इस पहल का अच्छा खासा फायदा देखने को मिला है। दस वर्ष से शुरू इस स्तन बैंक ने इस दौरान कुल ७९३ लीटर मां के दूध का संकलन किया है। ७९३ लीटर दूध की मदद से अब तक कुल २,७०४ बच्चों की जान बचाई है। मतलब मां के दूध का कोई मोल नहीं है, यह अनमोल है।

बता दें कि नवजात शिशु के विकास के लिए मां का ही दूध बेहतर माना जाता है। मां का दूध पीकर नवजात शिशु का स्वास्थ्य बेहतर होता है। कुछ मामलों में नवजात शिशु अपनी मां का दूध पीना छोड़ देते हैं जबकि कुछ मामलों में मां अपने बच्चों को अपना दूध नहीं पिला पाती हैं, जिस वजह से बच्चों की सेहत बिगड़ जाती है। कई मामलों में तो नवजात बच्चों की जान चली जाती है। ऐसे नवजात शिशुओं की जान बचाई जा सके इसलिए १० वर्ष पहले हिंदुस्थान में १०वें और ठाणे में पहले `स्तन दूध बैंक’ की शुरुआत की गई थी। इन १० वर्षों के दौरान १६ हजार ४२६ माताओं ने स्वेच्छा से स्तन दूध दान किया। इन माताओं द्वारा कुल ७९३ लीटर स्तन दूध जमा किया गया और कुल २,७०४ नवजात शिशुओं को देकर उनकी जान बचाई गई। उक्त संकल्पना कंसल्टेंट पीडियाट्रिक सर्जन व रोटेरियन डॉ. लक्ष्मीकांत कसाट के अनुसार बच्चों की कीमती जान को बचाने के लिए उक्त बैंक शुरू किया गया था। इसका लाभ आम जनता को मिल रहा है, जानकर बेहद खुशी होती है।

कौन दान कर सकता है दूध?
स्तन दूध बैंक में नवजात शिशु की माताएं स्वेच्छा से दूध दान कर सकती हैं। स्तन पंप के माध्यम से दूध का संकलन किया जाता है। दूध पर विभिन्न वैज्ञानिक प्रक्रिया कर दूध को शुद्ध और सुरक्षित रखा जाता है।
आवेदन करिए, मुफ्त में पाइए
जरूरतमंद बच्चों के रिश्तेदार रोजाना दूध लेने के लिए आवेदन फॉर्म भरकर मुफ्त में दूध पा सकते हैं। इसके लिए पैसा नहीं देना होता है।

अन्य समाचार