मुख्यपृष्ठनए समाचारदुनिया के सबसे धीमे शहरों में मुंबई शामिल ... ट्रैफिक जाम में...

दुनिया के सबसे धीमे शहरों में मुंबई शामिल … ट्रैफिक जाम में पांचवें स्थान पर भिवंडी!

•  ११वें स्थान पर आरा
•  एनबीईआर की रिपोर्ट जारी

सामना संवाददाता / ठाणे
मुंबई से सटे ठाणे के भिवंडी शहर को गोदामों का शहर कहा जाता है। लेकिन अब यह शहर ट्रैफिक जाम की वजह से विश्व सूची में दर्ज हो गया है। अमेरिका की एक संस्था द्वारा कराए गए सर्वे के मुताबिक, भिवंडी दुनिया के सबसे धीमे शहरों की सूची में पांचवें स्थान पर है। अध्ययन में कोलकाता छठे स्थान पर और आरा सातवें स्थान पर है।
क्या है एनबीईआर की रिपोर्ट में?
अमेरिका स्थित एक गैर-सरकारी संगठन की रिपोर्ट के मुताबिक, ट्रैफिक गति सूचकांक में कोलकाता, महाराष्ट्र के भिवंडी और बिहार के आरा को दुनिया के १० सबसे धीमे शहरों में शामिल किया गया है। इस रिपोर्ट के अनुसार, अमेरिका के फ्लिंट शहर में वाहनों की गति सबसे अधिक तथा बांग्लादेश की राजधानी ढाका में सबसे कम है। बोगोटा (कोलंबिया) को सबसे अधिक भीड़भाड़ वाला शहर बताया गया। सबसे कम गति वाले १० शहरों में नौ बांग्लादेश, भारत और नाइजीरिया में हैं। इसमें बिहार शरीफ को ११वां स्थान, मुंबई को १३वां, आइजोल को १८वां स्थान, बेंगलुरु को १९वां स्थान और शिलांग को २०वां स्थान मिला। दुनिया के सबसे अधिक भीड़भाड़ वाले शहरों में बेंगलुरु को ८वां स्थान मिला। इसके बाद मुंबई (१३वां) और दिल्ली (२०वां) का स्थान रहा। शोधकर्ताओं ने इस अध्ययन के लिए १२ जून से पांच नवंबर २०१९ बीच के गूगल मैप के आंकड़ों का इस्तेमाल किया था। निजी संस्था ‘नेशनल ब्यूरो ऑफ इकोनॉमिक रिसर्च इन अमेरिका’ ने १५२ देशों के १ हजार २०० शहरों का सर्वे किया। सर्वेक्षण १२ जून से ५ नवंबर, २०१९ तक आयोजित किया गया था।
भिवंडी में शहरीकरण से बढ़ी परेशानी
भिवंडी शहर में बढ़ते गोदामों की संख्या, भारी यातायात, ग्रामीण क्षेत्रों में अवैध निर्माण के कारण बढ़ता शहरीकरण, संकरी और खराब सड़कें, मानसून के दौरान सड़कों पर पानी जमा होने से पिछले कई सालों से भारी ट्रैफिक जाम होने लगा है, जो लोगों के लिए सिरदर्द बन गया है। कुछ वर्षों में भारी शहरीकरण हुआ है और साथ ही वाहनों की संख्या में भी वृद्धि हुई है।

अन्य समाचार