मुख्यपृष्ठसमाचारसोलर से चमकेगी मुंबई! ... वहां भी होगी चमक, जहां कभी नहीं पहुंची...

सोलर से चमकेगी मुंबई! … वहां भी होगी चमक, जहां कभी नहीं पहुंची बिजली

•  गार्डन, सड़कें, चौक सहित आदिवासी पाड़े होंगे रोशन
सामना संवाददाता / मुंबई । रात में मुंबई की सड़कों की चकाचौंध बरकरार रखने और बिजली बचाने के प्रयास में मनपा ने कई ठिकानों पर सौर ऊर्जा वाले बिजली के खंभे लगाने का पैâसला किया है। ये सोलर खंभे उन आदिवासी इलाकों में भी लगाए जाएंगे, जहां अब तक बिजली नहीं पहुंच पाई है। साथ ही गार्डन, सड़कें और झोपड़पट्टी इलाकों में सोलर के खंभे लगाए जाएंगे। यह परियोजना मनपा के सामरिक शहरीकरण योजना के तहत शुरू की जा रही है। मनपा इस योजना के तहत कम से कम खर्च और पर्यावरण पूरक संसाधनों का उपयोग कर सार्वजनिक स्थानों को सुशोभित करने के लक्ष्य रखा है।
बिजली की होगी बचत
मनपा के अनुसार लोहे से बने बिजली के खंभे खड़े किए जाएंगे। इन खंभों के सबसे ऊपरी हिस्से में सोलर पैनल होगा। हर खंभे में शाखा बनाकर पांच हाई पावर एलईडी लाइटें लगाई जाएगी। अधिकारियों ने यह भी कहा है कि इन लाइटों में पारंपरिक रोशनी की तुलना में दो गुना अधिक चमक होती है। ये सौर खंभे नियमित बिजली की रोजाना खपत का ३५ प्रतिशत तक बचत होगा। लंबे समय तक यह लाइट काम करेगी। इस कार्य का प्रथम उद्देश्य स्वच्छ और नई ऊर्जा के उपयोग के बारे में लोगों को जागृत करना है।
१२ घंटे का बैटरी बैकअप
मनपा के वरिष्ठ अधिकारियों ने कहा कि प्रत्येक सोलर खंभे में स्वचालित सेंसर और १२ घंटे का बैटरी बैकअप होगा। साथ ही इसे मैन्युअल तरीके से भी चलाया जा सकता है लेकिन इसकी कोई आवश्यकता नहीं है, क्योंकि सेंसर हैं। शुरुआत में सोलर खंभे पश्चिमी उपनगरों के सात प्रमुख स्थलों पर स्थापित किए जाएंगे। जिनमें कुछ प्रमुख उद्यान और चौक शामिल हैं। जैसे मीनाताई ठाकरे गार्डन, श्यामा प्रसाद मुखर्जी उद्यान, जीजामाता चौक और प्रबोधनकार ठाकरे नाट्य गृह के परिसर के भीतर लगाए गए हैं। इसके अलावा मनपा ने संजय गांधी राष्ट्रीय उद्यान के भीतर ८ आदिवासी पाड़ा में भी सौर ऊर्जा बिजली के खंभे लगाए हैं, जहां बड़ी संख्या में लोग रहते हैं और आस-पास आज तक बिजली का कोई स्रोत नहीं है। ऐसी जगह भी लगाए जा रहे हैं।

अन्य समाचार