मुख्यपृष्ठनए समाचारमुंबईकरों को रास नहीं आया मोदी का गुजरात प्रेम! ...सिर्फ गुजराती बहुल...

मुंबईकरों को रास नहीं आया मोदी का गुजरात प्रेम! …सिर्फ गुजराती बहुल क्षेत्र घाटकोपर में किया रोड शो

प्रधानमंत्री ने बाकी समुदायों के क्षेत्र की नहीं ली सुध
सामना संवाददाता / मुंबई
महाराष्ट्र में पांचवे चरण के लोकसभा चुनाव को लेकर सरगर्मियां तेज हो गई हैं। घाटकोपर में २ दिन पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सभा हुई, लेकिन इस सभा में मोदी का गुजरात प्रेम मुंबईकरों के लिए चर्चा का विषय बन गया है। गुजराती बहुल क्षेत्र में हुई मोदी का रोड शो मुंबईकरों को रास नहीं आया है। मुंबईकरों का कहना है कि इस महानगर में सभी प्रदेश व समुदाय के लोग रहते हैं, ऐसे में मोदी को सिर्फ अपने प्रदेश के लोगों को तवज्जो देना सही नहीं है।
बता दें कि मुंबई महानगर में देश के हर प्रांत व समुदाय के लोग रहते हैं। मुंबई में रहनेवालों को मुंबईकर कहा जाता है और इसमें मराठी, हिंदीभाषी, गुजराती, मारवाड़ी, तमिल, मुस्लिम, जैन, बौद्ध आदि सभी समाज के लोग रहते हैं। घाटकोपर पूर्व और पश्चिम क्षेत्र में मोदी का रोड शो विशेष रूप से गुजराती इलाकों से होकर गुजरा। घाटकोपर में मोदी के इस रोड शो से किसी को आपत्ति नहीं है लेकिन जो गुजरात प्रेम है वह मुंबईकरों को नाराज कर रहा है कि वे बाकी समुदायों को दूर क्यों कर रहे हैं। इस बारे में मुंबईकर नंदलाल पांडे का कहना है कि भाजपा यहां भेदभाव कर रही है। मुंबईकर हमेशा एक साथ रहे। वे दुख-सुख में एकसाथ नजर आते हैं। इस बारे में सुरेश जाधव का कहना है कि मोदी के गुजरात प्रेम से हमें कोई आपत्ति नहीं है, लेकिन वे महाराष्ट्र द्वेष क्यों कर रहे हैं? ऐसा करके वे पक्षपात कर रहे हैं। पहले ही महाराष्ट्र के हिस्से के कई उद्योग-धंधे गुजरात ले जा चुके हैं। चाहे वह वेदान्ता फॉक्सकॉन हो, मेडिकल हब हो, फाइनेंसियल हब हो या हीरा बाजार, सब गुजरात लेकर जा रहे हैं। महाराष्ट्र के हिस्से क्या आया, इसका जवाब मोदी कब देंगे? इस बारे में मुंबईकर नितिन तोरस्कार ने कहा कि मुंबईकरों के साथ इस तरह की गंदी राजनीति करना प्रधानमंत्री को शोभा नहीं देता है।
एनसीपी सुप्रीमो शरद पवार ने भी उनके गुजरात प्रेम पर सवाल उठाया है। मोदी पर पहले से ही गुजरात प्रेम को लेकर आरोप लग रहे थे कि मोदी महाराष्ट्र के हिस्से का उद्योग गुजरात लेकर जा रहे हैं। महाराष्ट्र के युवाओं को बेरोजगार बना रहे हैं।

अन्य समाचार