मुख्यपृष्ठनए समाचारमुंबई की सुधरी आबोहवा! ... बेखबर हुई मुंबई मनपा

मुंबई की सुधरी आबोहवा! … बेखबर हुई मुंबई मनपा

कृत्रिम बारिश योजना में कर रही देरी
हवा के जहरीली होने का कर रही इंतजार

सामना संवाददाता / मुंबई
मुंबई की आबोहवा में बीते कुछ दिनों से सुधार दिखाई दे रहा है। कल मुंबई के अधिकांश क्षेत्रों में वायु गुणवत्ता सूचकांक ‘अच्छी’ श्रेणी में रहा। शहर की हवा सुधरते ही मनपा पूरी तरह से बेखबर हो गई है कि उसने कृत्रिम बारिश कराने की योजना बनाई है, जिसके क्रियान्वयन में अब देरी हो रही है। मुंबईकर आरोप लगा रहे हैं कि एक बार फिर से मुंबई की हवा में जहर घुलने के बाद मनपा जागेगी और तमाम तरह के उपाय करेगी, लेकिन तब तक देर हो जाती है।
उल्लेखनीय है कि ईडी सरकार में मुख्यमंत्री के आदेश पर मनपा ने कृत्रिम बारिश के माध्यम से वायु प्रदूषण को कम करने के लिए क्लाउड सीडिंग कराने के लिए टेंडर जारी किया था। दिसंबर में बंगलुरु स्थित तीन फर्मों के साथ ही नई मुंबई और कर्नाटक की कंपनियों ने टेंडर भरे थे, हालांकि अभी मनपा द्वारा प्रस्ताव पर अंतिम निर्णय लेना बाकी है। अधिकारी ने कहा है कि एक्यूआई की अनिश्चितता को देखते हुए एहतियात के तौर पर क्लाउड सीडिंग का विकल्प खुला रख रहे हैं।
‘पिछली बार आठ करोड़ हुए थे बर्बाद
क्लाउड सीडिंग एक ऐसी तकनीक है, जिसका उद्देश्य बारिश की संभावना को बढ़ाना है। साल २००९ में पहला क्लाउड सीडिंग प्रयोग तानसा और मोडक सागर जलाशयों में जल स्तर बढ़ाने के लिए किया गया था, जो विफल रहा। इस प्रयोग में ८ करोड़ रुपए पूरी तरह से बर्बाद हो गया था।
क्षमताओं की जांच करने की आवश्यकता है।

 

 

 

अन्य समाचार