मुख्यपृष्ठनए समाचारपीएम की खुशी पर मनपा ने लुटा दिए रु. १० करोड़!

पीएम की खुशी पर मनपा ने लुटा दिए रु. १० करोड़!

• एक लाख से अधिक लोगों के लिए की गई थी व्यवस्था
• बेस्ट-एसटी सहित २,०५० बसें दिनभर लोगों को ढोती रहीं
सामना संवाददाता / मुंबई
गत १९ जनवरी को प्रधानमंत्री मोदी ने मुंबई आकर तमाम योजनाओं का भूमिपूजन किया था। यह अलग बात है कि उन कार्यों की योजना पिछली महाविकास आघाड़ी सरकार ने तय की थी। मविआ सरकार ने मुंबईकरों की सुविधा के लिए जिन योजनाओं पर काम शुरू किया था, उन्हीं कार्यों का पीएम ने भूमिपूजन किया। इस कार्यक्रम को राजनीतिक रूप देने के लिए जनता के पैसे अर्थात मनपा के खजाने से लगभग १० करोड़ रुपए लुटा दिए गए। मनपा अधिकारियों ने स्वीकार किया कि उस कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए मनपा पर पूरा जोर लगाने का दबाव था।
मविआ की योजनाओं पर श्रेय
बता दें पीएम मोदी ने कुल ३,८५० करोड़ रुपए की योजनाओं का लोकार्पण एवं भूमिपूजन किया। लेकिन इन सभी कार्यों को पिछली सरकार ने ही लाने की योजना पर काम शुरू किया था। पूर्व पर्यावरण मंत्री आदित्य ठाकरे की अगुवाई में पिछली महाविकास आघाड़ी सरकार मनपा के २६ हजार करोड़ रुपए के एसटीपी प्लांट को पटरी पर लाई थी। छत्रपति शिवाजी महाराज टर्मिनस के मेकओवर के लिए प्रयास, मेट्रो ७ और मेट्रो २ए आदि को गति देने के लिए कोरोना काल में भी आघाड़ी सरकार ने काम जारी रखा। इन सभी कार्यों का श्रेय लेने का प्रयास भाजपा नेतृत्व वाली केंद्र और राज्य दोनों सरकारों ने किया है।
बसों में भरकर लाए गए लोग
बता दें कि इस कार्यक्रम को सफल बनाने और पीएम मोदी को खुश करने के लिए मनपा ने बेस्ट, एसटी और निजी बसों की सहायता ली थी।
मुंबई मनपा ने इसके लिए बहुत पैसा खर्च किया। भीड़ जुटाने के लिए ५०० बेस्ट की बसों और ३५० एसटी बसों के साथ लगभग १,२०० निजी बसें तैनात की गई थीं। इन बसों के जरिए यहां एक लाख लोगों को लेकर भीड़ जुटाने की कोशिश थी। हालांकि, यहां उतनी संख्या में लोग जमा नहीं हो पाए थे। पुलिस आंकड़ों की मानें तो सिर्फ ५० हजार तक लोग ही जमा हो पाए थे। यहां फेरीवालों को कार्यक्रम में लाने के लिए मनपा ने इन बसों की व्यवस्था की थी। लेकिन फेरीवालों की आड़ में भाजपा के कार्यकर्ताओं को भी इस बस के जरिए भीड़ में लाया गया।
ऐसी थी व्यवस्था
पीएम मोदी के लिए आयोजित सभा में उपस्थित एक लाख लोगों के बैठने तथा सभा में मनोरंजन के लिए कार्यक्रम की व्यवस्था की गई थी। गायक, म्यूजिशियन, लाइटिंग, साउंड सहित तमाम व्यवस्था की गई थी। इतना ही नहीं, अलग से मंच भी बनाया गया था। दूसरी ओर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मंत्रियों के साथ-साथ आमंत्रित लोगों के लिए एक विशेष मंच की व्यवस्था की गई थी। एलईडी स्क्रीनें भी लगाई गर्इं, ताकि मौजूद लोग मंच के नजारे देख सकें। सुरक्षा व्यवस्था के लिए भारी मात्रा में पुलिस व निजी सुरक्षा गार्ड भी उपलब्ध कराए गए।

अन्य समाचार