मुख्यपृष्ठनए समाचारस्थानीय लोगों की मांग पर जागी मनपा लंबित पुल योजना फिर होगी...

स्थानीय लोगों की मांग पर जागी मनपा लंबित पुल योजना फिर होगी शुरू! … अंधेरी के यारी रोड -लोखंडवाला का सफर होगा ५ मिनट में पूरा

सामना संवाददाता / मुंबई
अंधेरी-पश्चिम के लोखंडवाला और यारी रोड को जोड़नेवाले पुल की योजना पिछले कई वर्षों से बनी थी, लेकिन राज्य में आयी शिंदे सरकार और मनपा में प्रशासक की निष्क्रियता से यह योजना ठंडे बस्ती में चली गई। इस योजना को पुन: शुरू करने के लिए स्थानीय लोगों ने मनपा को कई बार जगाने का प्रयास किया, लेकिन गहरी नींद में सोई मनपा शायद अब जागी है। मनपा की यह योजना अब एक बार फिर पटरी पर लाई जा सकती है, ऐसा दावा अधिकारियों की ओर से किया जा रहा है।
४२ करोड़ रुपए होगा खर्च
अंधेरी-पश्चिम का इलाका बहुत बड़ा है यहां लोखंडवाला एक तरफ है तो यारी रोड दूसरी तरफ है और इन दोनों इलाकों के बीच में खाड़ी है। इस खाड़ी के बीच से यारी रोड और लोखंडवाला को कनेक्ट करने के लिए योजना मनपा की ओर से प्रस्तावित थी, लेकिन पिछले कई दिनों से वर्षों से इस योजना को नजरअंदाज किया जा रहा था। अब जब लोगों ने कड़ी नाराजगी जताई है तो मनपा ने इस पर विचार कर काम शुरू किया है। यारी रोड जंक्शन और लोखंडवाला बैक रोड पर वाहन पुल के निर्माण के लिए ४२ करोड़ रुपए का टेंडर जारी किया गया है। माना जा रहा है कि यह पुल बनाने के बाद ३५ मिनट यात्रा का समय घटकर पांच मिनट होने की उम्मीद है।
१८ महीने में पूरा होगा काम
स्थानीय लोगों ने कहा कि पुल की यह योजना दो दशकों से बन रही है, लेकिन लंबे समय से चले आ रहे कानूनी विवादों के कारण इसका क्रियान्वयन बाधित हो रहा था। लोखंडवाला ओशिवरा सिटीजंस एसोसिएशन के धवल शाह ने कहा कि यह पुल यारी रोड और वर्सोवा निवासियों के लिए उत्तर की ओर यात्रा के लिए आवागमन के समय को कम कर देगा तथा वर्सोवा-बांद्रा समुद्री लिंक बनने पर क्षेत्र व्यस्त हो जाएगा, तब यह एक वैकल्पिक सड़क के रूप में काम करेगा। परियोजना का कार्य १८ महीने में पूरा होगा। मनपा के अनुसार, पुल पहली बार २००२ में प्रस्तावित किया गया था और २०१४ में एक निविदा जारी की गई थी। उस समय परियोजना की लागत १६ करोड़ रुपए आंकी गई थी और एक ठेकेदार नियुक्त किया गया था। हालांकि, कानूनी अड़चनों के कारण यह आगे नहीं बढ़ पाया।
मनपा परियोजना प्रभावित वृक्षों का स्थानांतरण करेगी
मनपा अधिकारी ने अब इस परियोजना को पर्यावरण के अनुकूल बताते हुए कहा कि यह पुल लोखंडवाला और वर्सोवा के बीच एक खाड़ी के बीच से होकर दो घनी आबादी वाले स्थान को जोड़ रहा है। साथ ही इसके बनने से यात्रा का समय अब ​​३५ मिनट से घटाकर पांच मिनट हो जाएगा। इससे यातायात की भीड़ कम होगी और ईंधन की खपत भी कम हो जाएगी। मनपा ने लोगों को आश्वासन दिया है कि पेड़ दोबारा लगाए जाएंगे और कहा कि वह वन विभाग की मंजूरी का इंतजार कर रही है, क्योंकि यहां अन्य अनुमतियां लेनी जरूरी है।

 

 

अन्य समाचार