मुख्यपृष्ठनए समाचारमनपा अस्पताल कर्मी हैं बेहाल! ...प्रशासन को लिखा पत्र

मनपा अस्पताल कर्मी हैं बेहाल! …प्रशासन को लिखा पत्र

मुंबई। मनपा अस्पतालों में इस समय अजब कहानी शुरू है। मनपा अस्पतालों में इलाज के लिए आनेवाले मरीजों के साथ उन्हें बेहतर सेवाएं देने के लिए अग्रसर रहनेवाले कर्मचारी बेहाल हैं। विभिन्न संवर्गों में प्रोन्नति के पद रिक्त हैं, जिन्हें भरने का प्रयास नहीं किया जा रहा है। आलम यह है कि काम का अत्यधिक बोझ होने से उन्हें मानसिक तनाव का सामना करना पड़ रहा है। इस सबके बीच अतिरिक्त आयुक्त डॉ. सुधाकर शिंदे को पत्र लिखकर कर्मचारी संगठनों ने मांग की है कि मरीजों की देखभाल को प्राथमिकता देने के साथ-साथ अस्पताल के सभी संवर्गों की समस्याओं पर गौर करते हुए उनका समाधान किया जाना चाहिए। गौरतलब है कि मुंबई मनपा में १९० सामान्य दवाखाना, १६ सामान्य अस्पताल, ३० प्रसूति गृह, १७ अतिरिक्त सूतिका कक्ष, पांच विशेष अस्पताल, २१२ प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र, ५ मेडिकल कॉलेज और अस्पताल हैं। तीन सुपर स्पेशियलिटी अस्पतालों का निर्माण चल रहा है। इन सभी अस्पतालों में बेडों की संख्या १२,४६२ है, लेकिन मरीजों की बढ़ती संख्या की अपेक्षा बेड अपर्याप्त होते जा रहे हैं। मरीजों की बढ़ती संख्या की तुलना में स्वास्थ्य कर्मियों की संख्या नहीं बढ़ी है। ऐसे में कर्मचारियों पर काम का बोझ बढ़ रहा है। विभिन्न संवर्गों में प्रोन्नति पद रिक्त हैं। हालांकि, स्वास्थ्य सेवा बाधित न हो इसलिए कर्मचारी अतिरिक्त पारिश्रमिक लिए बिना ही काम कर रहे हैं।

अन्य समाचार

लालमलाल!