मुख्यपृष्ठस्तंभमनपा शिक्षा बजट : खाली खजाने से खोखले वादे

मनपा शिक्षा बजट : खाली खजाने से खोखले वादे

धीरेंद्र उपाध्याय
देश की सबसे अमीर महानगरपालिका का बजट पेश किया गया। बजट में शिक्षा के लिए खजाना खोलने का खोखला वादा किया गया। इस बार ३,४९७.८२ करोड़ का शिक्षा बजट पेश किया गया, जबकि पिछले साल ३,३४७.१३ करोड़ रुपए का बजट था, वहीं पिछले साल के मुकाबले इस साल मामूली १५६.६९ करोड़ रुपए की बढ़ोतरी की गई है। वित्त वर्ष २०२४-२५ के लिए राजस्व आय और खर्च ३,१६७.६३ करोड़ रुपए अनुमानित किया गया है। इसी तरह पूंजीगत निवेश खर्च ३२० करोड़ रुपए है। पिछले सत्र का प्राथमिक शिक्षा के लिए मनपा का ४,७७९.४८ रुपए और माध्यमिक शिक्षा के लिए १,१६६.८२ करोड़ रुपए का अनुदान राज्य सरकार से नहीं मिला है। बता दें कि अतिरिक्त आयुक्त अश्विनी भिड़े ने शिक्षा विभाग का बजट प्रशासक डॉ. इकबाल सिंह चहल को सौंपा।
उल्लेखनीय है कि मनपा के नगरसेवकों का कार्यकाल मार्च २०२० में खत्म हो गया था। ऐसे में बजट को दूसरी बार मनपा आयुक्त प्रशासक डॉ. इकबाल सिंह चहल ने पेश किया। बता दें कि मनपा के ९४३ प्राथमिक स्कूलों में २,४४,१५२ और २४८ माध्यमिक स्कूलों में कुल ४३,०४० बच्चे शिक्षा ग्रहण कर रहे हैं। इनके भविष्य को उज्ज्वल बनाने की जिम्मेदारी ९,०४८ अध्यापकों के कंधों पर है, वहीं शहर में बालवाड़ी के ९००, एपीएस के ११०, सीबीएसई, आईसीएसई, आईबी और वैंâब्रिज बोर्ड के ८७ समेत कुल १,०९७ कक्षाओं में ४२,९१९ बच्चे शिक्षा प्राप्त कर रहे हैं।
इन शिक्षा बोर्डों को मनपा स्कूलों में मिल रहा अच्छा प्रतिसाद
साल २०२३-२४ में सीबीएसई बोर्ड के १४, आईसीएसई, आईजीसीएसई और आईबी बोर्ड १७ स्कूल संचालित हैं। इन स्कूलों में नर्सरी से लेकर नौवीं तक ४,००४ लड़के और ३,५०७ लड़कियों समेत कुल ७,५११ विद्यार्थी शिक्षा ग्रहण कर रहे हैं। शिवसेना नेता व युवासेनाप्रमुख आदित्य ठाकरे की संकल्पना से शुरू की गर्इं सीबीएसई और आईसीएसई बोर्ड के स्कूलों में दूसरा सत्र किया जाएगा। बजट में बताया गया है कि तीन मुंबई पब्लिक स्कूल शुरू किए गए हैं, जबकि सीबीएसई चार शुरू किए जाने की तैयारी है।
खगोलशास्त्रीय ज्ञान के लिए छात्रों में उत्सुकता पैदा करने के साथ ही उनमें निरीक्षण, एकाग्रता और आकलन की क्षमता को बढ़ाने के लिए कुल ५४ खगोलीय प्रयोगशालाओं को कार्यान्वित किया गया है। इस साल इसके लिए १.७५ करोड़ रुपए प्रावधान किया गया है। इसी तरह छात्रों के लिए ओलंपियाड परीक्षा के लिए ३१ लाख, प्रज्ञाशोध के लिए पांच लाख, चित्रकला प्रतियोगिता के लिए ७० लाख, संगीत अकादमी के लिए २० लाख, कार्यानुभव के लिए २५ लाख, शारीरिक शिक्षा के लिए ७० लाख, स्काउट व गाइड उपक्रम के लिए २० लाख, संकल्प संपूर्ण स्वास्थ्य और श्री छत्रपति शिवाजी महाराज पारंपरिक क्रीडा महाकुंभ के लिए भी बजट में निधि का प्रावधान किया गया है।
आधुनिक शिक्षा पर जोर
शिक्षा के क्षेत्र में नई तकनीक को ध्यान में रखते हुए खेल के माध्यम से शिक्षा की संकल्पना पर आधारित गेमिफाइड लर्निंग ऐप की सुविधा शुरू की जा रही है। इसके जरिए मनपा के माध्यमिक स्कूलों में पढ़नेवाले छात्रों को १९,४०१ टैब में उपलब्ध कराए जाएंगे। इसी तरह मनपा के २५ माध्यमिक स्कूलों में इंटरनेट सुविधा के साथ ई लाइब्रेरी शुरू की गई है। उसी तर्ज पर मनपा के ५० प्राथमिक स्कूलों में यह सुविधा शुरू करने के लिए ९५ लाख रुपए का प्रावधान किया गया है। मनपा के ७,९३४ कक्षाओं में से २,५१४ कक्षाओं को डिजिटल किया गया है। १,३०० और कक्षाओं का डिजिटाइजेशन शुरू है। इसके लिए २५.३३ करोड़ का प्रावधान किया गया है। इस शिक्षा बजट में ऑर्गेनिक फॉर्मिंग, मॉडर्न स्कूल डिक्शनरी, विज्ञान प्रदर्शनी, नाविन्यपूर्ण गणित और विज्ञान केंद्र निर्माण, ओपन जिम आदि कई नई योजनाएं और उपक्रम शुरू किए गए हैं।

अन्य समाचार

कुदरत

घरौंदा