मुख्यपृष्ठसमाचारगोरखपुर में नफीसा गैंग की दहशत! ...रेप के फर्जी मुकदमों में फंसाता...

गोरखपुर में नफीसा गैंग की दहशत! …रेप के फर्जी मुकदमों में फंसाता है गिरोह


रेप के फर्जी मुकदमों में फंसाता है गोरखपुर का नफीसा गैंग !

•शिकार को शिकंजे में लाने के लिए गैंग की शातिर महिलाएं दर्ज कराती हैं फर्जी केस
• दर्जनों पीड़ितों से हो चुकी है २५ लाख रुपयों तक वसूली
•गैंग के सदस्यों की शिनाख्त कर अब  गोरखपुर पुलिस लगाएगी गैंगस्टर!
विक्रम सिंह / गोरखपुर
यदि आप सीएम योगी आदित्यनाथ की कर्मस्थली गोरखपुर से ताल्लुक रखते हैं या वहां जा रहे हैं तो जरा संभल कर! गोरखपुर में इस वक़्त सक्रिय है नफीसा गैंग। ये कोई मामूली अपराध में संलिप्त अपराधी महिलाओं का गिरोह नहीं है। इस गिरोह की तकरीबन डेढ़ दर्जन महिलाएं दुष्कर्म और छेड़खानी के फर्जी आरोप लगाकर पीड़ित व्यक्तियों के खिलाफ न सिर्फ कोर्ट के जरिए मुकदमे दर्ज कराती हैं बल्कि सुलह समझौते की एवज में लाखों की रकम भी वसूलती हैं। ये खेल यहां वर्षों से संचालित है। जिसमें कई काले कोट वाले और सफेदपोश भी शामिल हैं। फिलहाल इस नफीसा गैंग के खुलासे के बाद अब पुलिस ने इस पर शिकंजा कसना शुरू कर गैंग में शामिल सदस्यों पर गैंगस्टर की कार्रवाई करने की तैयारी कर रही है।

वर्षों से चल रहे इस खेल का राजफाश वास्तव में तब हुआ जब कैंट थाने में कैम्पियरगंज निवासी खालिद ने छह महिलाओं सिद्धार्थनगर जिला निवासी नफीसा व गोरखपुर जिले की बिंद्रावती, सोनी, आरती, इंद्रावती, तारा चौहान व एक वकील के खिलाफ रंगदारी वसूली सहित अनेक गंभीर धाराओं में तहरीर देकर केस दर्ज कराया। खालिद ने तहरीर में आरोप लगाया कि, कोर्ट में प्रार्थनापत्र/ परिवाद के जरिये दुष्कर्म गैंगरेप व अनुसूचित जाति जनजाति उत्पीड़न निवारण अधिनियम आदि की गंभीर धाराओं में फर्जी साक्ष्य व झूठी गवाही के जरिए केस दर्ज कराकर ये लोग धन उगाही कर रहे हैं। ये गैंग रफाकत, सलीम, सरफराज, शहनवाज, विजय, शमीम व सुभाष यादव आदि के खिलाफ दर्जनों फर्जी केस दर्ज करा चुका है। साथ ही केस करने का डर दिखाकर २५ लाख रुपए की वसूली भी कर चुका है। गैंग की सरगना है नफीसा। जो कि आए दिन लोगों को ब्लैकमेल कर वसूली करती रहती है। फिलहाल, गोरखपुर पुलिस अब इन सभी गैंग के सदस्यों के आपराधिक रिकार्ड तलाश इनके खिलाफ गैंगस्टर की तैयारी में है।

अन्य समाचार