मुख्यपृष्ठसमाज-संस्कृतिराष्ट्रीय कवि सम्मेलन व पुस्तक विमोचन कार्यक्रम सम्पन्न

राष्ट्रीय कवि सम्मेलन व पुस्तक विमोचन कार्यक्रम सम्पन्न

-दिव्यज्योति साहित्यिक संस्थान रायपुर-छत्तीसगढ़ की तरफ से किया गया आयोजित

सामना संवाददाता / रायपुर

दिव्यज्योति साहित्यिक संस्थान रायपुर, छत्तीसगढ़ के द्वारा श्रीरामनवमी एवं श्री हनुमान जन्मोत्सव पर्व के उपलक्ष्य में 20 अप्रैल 2024 को राष्ट्रीय कवि सम्मेलन एवं पुस्तक विमोचन समारोह का आयोजन किया गया, जिसमें देश भर के अनेक सुप्रसिद्ध साहित्यकारों ने अपनी सुंदर काव्य रचनाएं प्रस्तुत कीं। इस अवसर पर मुख्य अतिथि के रूप में पिलखुवा हापुड़, उत्तर प्रदेश से अशोक गोयल वरिष्ठ कवि एवं साहित्यकार एवं विशिष्ट अतिथि के रूप में मुस्कान केशरी संस्थापक एम.एस. केशरी पब्लिकेशन मुजफ्फरपुर, बिहार से उपस्थित थे। कार्यक्रम की अध्यक्षता डॉ. अनिता गोस्वामी असिस्टेंट प्रोफेसर कोर यूनिवर्सिटी रुड़की उत्तराखंड ने की एवं आभार प्रदर्शन मुकेश कुमार सोनकर संस्थापक दिव्यज्योति साहित्यिक संस्थान रायपुर, छत्तीसगढ़ ने किया। कार्यक्रम का सुंदर मंच संचालन अनिल कुमार जायसवाल बिलासपुर एवं दिव्यांजलि वर्मा अयोध्या ने किया। कार्यक्रम में शामिल कवियों में रविनारायण शुक्ला लालगंज-रायबरेली उत्तर प्रदेश, भेरूसिंह चौहान ‘तरंग’ झाबुआ मध्य प्रदेश, डॉ. नीलम पाण्डेय ‘नीलिमा’ खटीमा उत्तराखण्ड, विशाल जैन ‘पवा’ ललितपुर उत्तर प्रदेश, रमा त्यागी ‘एकाकी’ इंदिरापुरम, गाजियाबाद-उत्तर प्रदेश, बिहारी साहू छूईखदान छत्तीसगढ़, दीपा टाक जोधपुर-राजस्थान, बलराम यादव देवरा-मध्य प्रदेश, अंजना सिन्हा रायगढ़-छत्तीसगढ़, प्रियंका भूतड़ा ‘प्रिया’ बरगढ़ ओडिशा, मदन गोपाल गुप्ता ‘अकिंचन’ ठाणे- महाराष्ट्र, रश्मि अग्रवाल बिलासपुर-छत्तीसगढ़, मुकेश कुमावत ‘मंगल’ टोंक राजस्थान, दिव्यांजली वर्मा अयोध्या-उत्तर प्रदेश, संदीप शर्मा देहरादून, थानू राम साहू मुंगेली-छत्तीसगढ़, सुनील कुमार नकुड़ सहारनपुर-उत्तर प्रदेश, सुनीता प्रयाकर राव ‘वासुनी’ तेलंगाना, अंजली सारस्वत शर्मा लखनऊ-उत्तर प्रदेश, सुमा मण्डल पखांजूर कांकेर- छत्तीसगढ़, बाल कवियत्री हर्षिता शुक्ला रायबरेली-उत्तर प्रदेश आदि सहित सभी साहित्यकारों ने श्रीराम जी एवं श्री हनुमान जी के संबंध में एक से बढ़कर एक भक्तिमय काव्य पाठ किए। कार्यक्रम में संस्थान द्वारा प्रकाशित वसंतोत्सव काव्य संग्रह पुस्तक का विमोचन भी किया गया, जिसमें देश के लगभग सभी राज्यों से कुल 58 सुप्रसिद्ध साहित्यकारों की सुंदर रचनाएं प्रकाशित हैं। सभी सम्माननीय साहित्यकारों को सादर सम्मान पत्र से सम्मानित किया गया।

अन्य समाचार