मुख्यपृष्ठटॉप समाचारन मैतेयी को विश्वास, न कुकी को है भरोसा, फिर भी मुख्यमंत्री...

न मैतेयी को विश्वास, न कुकी को है भरोसा, फिर भी मुख्यमंत्री बने बैठे हैं एन. बीरेन! कांग्रेसी सांसद गौरव गोगोई का यक्ष मुद्दा, हथियारों की बरामदगी के बिना राज्य में स्थापित नहीं हो सकती शांति

सामना संवाददाता / नई दिल्ली
करीब १०० दिन हो चुके हैं पर पूर्वोत्तर का प्रमुख राज्य मणिपुर अभी भी सुलग रहा है। वहां शांति के आसार नजर नहीं आ रहे हैं। जैसे ही लगता है कि राज्य में तनाव कम हो रहा है, वैसे ही हिंसा फिर भड़क जाती है। अब कांग्रेस सांसद गौरव गोगोई ने कहा है कि सीएम पर न मैतेई को विश्वास है और न कुकी को भरोसा है फिर भी एन. बीरेन सिंह मुख्यमंत्री बने बैठे हैं।
कांग्रेसी सांसद गोगोई ने मणिपुर की हालत पर पत्रकारों से बात करते हुए कहा कि जब तक लूटे गए छह हजार हथियार बरामद नहीं हो जाते, तब तक मणिपुर में शांति नहीं हो सकती है। गोगोई ने कहा कि हथियारों के अलावा छह लाख राउंड गोला-बारूद भी लूटे गए और उनकी बरामदगी बहुत जरूरी है। बता दें कि राज्य में गत तीन मई से हिंसा जारी है। वहां सुरक्षा बलों से हथियार और गोला-बारूद लूटे गए। अब इन हथियारों का इस्तेमाल राज्य के आम लोगों के खिलाफ किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि राज्य में शांति और सामान्य स्थिति वैâसे होगी, जब दोनों पक्षों के बीच सुलह पर कोई बातचीत ही नहीं हुई है।
सीएम के कारण शांति वार्ता विफल
कांग्रेस नेता ने दावा किया कि मैतेई और कुकी दोनों मुख्यमंत्री एन. बीरेन सिंह से नाखुश हैं। यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि गृह मंत्री अमित शाह ने संसद में मुख्यमंत्री का पूरा समर्थन किया। उन्होंने कहा कि शांति समितियों में सीएम की मौजूदगी के कारण शांति वार्ता विफल हो गई है। कालियाबोर से सांसद गोगोई ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लाल किले से देश को गुमराह किया है। जब तक हथियार बरामद नहीं हो जाते, तब तक राज्य में शांति नहीं आ सकती। बता दें कि राज्य में अब तक की हिंसा में कम से कम १६० से अधिक लोगों की जानें जा चुकी हैं और हजारों लोग विस्थापित हुए हैं।

अन्य समाचार