मुख्यपृष्ठनए समाचारनवजात को मिली नई जिंदगी! दुर्लभ अनुवांशिक रोग से था पीड़ित

नवजात को मिली नई जिंदगी! दुर्लभ अनुवांशिक रोग से था पीड़ित

  • देश में पहली बार दिल के ट्यूमर का इलाज
  • १० लाख में से एक शिशु होता है ग्रसित

सामना संवाददाता / मुंबई
हिंदुस्थान में पहली बार २९ दिन के एक नवजात शिशु को दिल के ट्यूमर से मुक्ति दिलाकर चिकित्सकों ने उसे नई जिंदगी दी है। बच्चा ट्यूबरस स्क्लेरोसिस नामक अनुवांशिक रोग से पीड़ित था। चिकित्सकों ने ट्यूमर को सिकोड़ने के लिए जीवनरक्षक दवा से शिशु का सफलतापूर्वक इलाज किया। फिलहाल अब बच्चे की सेहत में सुधार है। साथ ही उसका वजन बढ़कर २.८ किलो हो गया है।
जन्म लेने के बाद नवजात के न रोने से चिंतित परिवारवालों ने स्थानीय चिकित्सकों को दिखाया। फिर उस मुंबई के वाडिया अस्पताल में भर्ती कराया गया। अस्पताल में वरिष्ठ चिकित्सक डॉ. जयश्री मिश्रा ने कहा कि जिस समय बच्चे को अस्पताल में लाया गया था, उस समय उसके दिल की हालत काफी नाजुक थी। ईसीजी जांच में बच्चे के हृदय की गति (२३० बीपीएम) तेज होने का पता चला। ६ दिन की उम्र में ३ सेमी बाय ३ सेमी मापनेवाले कई ट्यूमर पाए गए। उन्होंने कहा कि अनियंत्रित हृदय गति के कारण बच्चे के हृदय की गति थम सकती थी। बच्चे के दिल में कई बड़े और छोटे ट्यूमर दिखाई दिए।

 

अन्य समाचार

ऊप्स!