मुख्यपृष्ठनए समाचारनई मुंबई मेट्रो को अतिथियों का इंतजार! ...मंत्रियों का समय नहीं मिलने...

नई मुंबई मेट्रो को अतिथियों का इंतजार! …मंत्रियों का समय नहीं मिलने से फिर टल सकता है उद्घाटन

सामना संवाददाता / नई मुंबई
नई मुंबई मेट्रो के लिए अतिथियों को समय नहीं मिल पा रहा है, जिसके कारण एक बार फिर उद्घाटन का समय आगे बढ़ाया जा सकता है। इसके कारण नई मुंबई मेट्रो का वर्षों से इंतजार कर रहे नागरिकों को अभी और प्रतीक्षा करनी पड़ सकती है।
सिडको ने नई मुंबई के दक्षिणी भाग में सार्वजनिक परिवहन व्यवस्था को सक्षम करने के लिए चार मेट्रो लाइनों की योजना बनाई है। जिसमें ११ किमी की बेलापुर से पेंधर मेट्रो लाइन का काम मई २०११ को शुरू किया गया है। लेकिन ठेकेदारों की ढिलाई के कारण पहले चार साल में काम पूरा करने की बजाय दस साल बाद अब जाकर आधा काम पूरा हो रहा है। सिडको के प्रबंध निदेशक डॉ. संजय मुखर्जी ने धीमी गति से चलनेवाले इस मेट्रो कार्य को गति देने को प्राथमिकता दी। इस प्रोजेक्ट पर दिल्ली मेट्रो कॉर्पोरेशन की जगह महामेट्रो को देखरेख और असिस्टिंग इंजीनियर के रूप में नियुक्त किया गया है। जिसके कारण खारघर से पेंधर तक के पांच किलोमीटर लंबे मार्ग के पहले चरण का आधा कार्य पूरा हो पाया है। इस मार्ग पर ऑसिलेशन, इलेक्ट्रिकल, सेफ्टी, क्रिटिकल ब्रेक, प्रमाण पत्र के साथ रेलवे सुरक्षा आयुक्त से सेफ्टी टेस्ट सर्टिफिकेट प्राप्त किया गया है। इस रूट पर चलने वाले कोचों को भी हरी झंडी दे दी गई है। लेकिन नई मुंबई में पहली मेट्रो चलने के लिए हरी झंडी दिखाने में अभी वक्त है। इसके उद्घाटन के लिए केंद्र के मंत्रियों के पास समय नहीं होने के कारण इस मार्ग को शुरू करने की तारीखों पर सहमति नहीं बन पा रही हैं। ऐसे में नई मुंबई मेट्रो के लिए नागरिकों को अभी और प्रतीक्षा करनी पड़ सकती है।
महामेट्रो करेगी फेज-१ का संचालन
नई मुंबई में सार्वजनिक परिवहन व्यवस्था को और भी मजबूत करने के लिए सिडको नई मुंबई मेट्रो के तहत ४ एलिवेटेड रूट विकसित कर रहा है। नई मुंबई मेट्रो के प्रथम चरण में बेलापुर से पेंधर तक लगभग ११. १ किमी है, जिसमें ११ स्टेशन और तलोजा में एक कार डिपो है। बेलापुर से पेंधर तक फेज-१ के संचालन का ठेका महामेट्रो को दिया गया। अब तक मेट्रो ने ऑसिलेशन, विद्युत सुरक्षा, आपातकालीन ब्रेक आदि से संबंधित परीक्षण को सफलतापूर्वक पूरा किया है और आरडीएसओ से प्रमाण पत्र प्राप्त किया है। इसके साथ ही अब सिर्फ उद्घाटन का इंतजार हैं।

मुंबई मेट्रो से जोड़ने की योजना
नई मुंबई में तीन मेट्रो रेल नेटवर्क प्रस्तावित हैं। पहली लाइन बेलापुर-तलोजा-कलंबोली-मानसरोवर का निर्माण कार्य चल रहा है। दूसरी लाइन प्रस्तावित नई मुंबई एयरपोर्ट को पनवेल और सीवुड्स सहित उरण से जोड़ेगी। तीसरी लाइन हवाई अड्डे को मानखुर्द में मुंबई की मेट्रो लाइन से जोड़ने की योजना है। एमएमआरडीए के एक वरिष्ठ अधिकारी के अनुसार नई मुंबई मेट्रो को मुंबई मेट्रो से जोड़ने के लिए योजना का प्रस्ताव है परंतु अब तक कोई निर्णय नहीं हुआ है। सिडको के अनुसार दोनों शहरों के बीच मेट्रो संपर्क से यातायात को बढ़ावा मिलेगा।

अन्य समाचार