मुख्यपृष्ठनए समाचारनए साल के जश्न में कोरोना डाल सकता है खलल! ...तेजी से...

नए साल के जश्न में कोरोना डाल सकता है खलल! …तेजी से बढ़ने लगे हैं मरीज

डॉक्टरों की सलाह
भीड़ से रहें दूर बाहर निकलते समय पहनें मास्क

सामना संवाददाता / मुंबई
नए साल के स्वागत के लिए हर जगह तैयारियां चल रही हैं। लेकिन पिछले सप्ताह से राज्य में कोरोना मरीजों की संख्या तेजी से बढ़ रही है। इस बीच कोरोना की रफ्तार को देखते हुए राज्य सरकार की तरफ से भी नागरिकों से सतर्क रहने की अपील की गई है। ऐसे में नए साल के जश्न पर कोरोना के साए का संकट छा गया है। दूसरी तरफ डॉक्टर भी सलाह दे रहे हैं कि महामारी के खतरे को देखते हुए लोग पार्टियों और भीड़भाड़ से दूरी बनाकर रखें। साथ ही घर से बाहर निकलते समय मास्क लगाएं। दूसरी तरफ बीमारी की मौजूदा स्थिति को देखते हुए लोग नए साल के लिए आयोजित समारोहों में भाग लेने से डर रहे हैं।
नए साल के स्वागत के लिए मुंबई और आस-पास के इलाकों में बड़ी संख्या में जोरदार पार्टियों का आयोजन किया गया है। फाइव स्टार होटलों, रिसॉर्ट्स, मॉल्स, कंपनियों, पब्स में स्वागत समारोह की तैयारियां चल रही हैं। समारोह में भाग लेने के लिए बड़े पैमाने पर पंजीकरण भी हुआ है। हालांकि, अब एक बार फिर कोरोना से संक्रमित लोगों की संख्या बढ़ रही है, जिसके नागरिक डरे हुए हैं। इसलिए अब लोग खुद ही डॉक्टरों से पूछ रहे हैं कि पार्टियों में भाग लेना सही होगा या नहीं। दूसरी तरफ डॉक्टर भी भीड़-भाड़, पार्टियों से बचने, मास्क का इस्तेमाल करने की सलाह दे रहे हैं।
सात फीसदी मरीजों की हो रही मौत
डॉक्टरों का कहना है कि वर्तमान में देश में मिल रहे १०० कोरोना रोगियों में से आम तौर पर सात से आठ की मौत हो रही है। इसलिए अभी पार्टी में जाने से बचना चाहिए। अगर जाना ही पड़े तो मास्क का प्रयोग करना बहुत जरूरी है। इसके साथ ही पहले के कोविड दिशानिर्देशों का पालन करना चाहिए।
आयोजकों की ओर से भी सुझाव
पांच सितारा होटल, रिसॉर्ट, मॉल, पब द्वारा आयोजित पार्टियों के लिए ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन किया जा रहा है। इस पंजीकरण के दौरान आयोजकों ने वेबसाइट पर नागरिकों को मास्क का उपयोग, सामाजिक दूरी बनाए रखने जैसे दिशानिर्देशों का पालन करने के सुझाव दिए हैं। नियमों का पालन न करने पर कार्रवाई की चेतावनी दी गई है।
सावधानी बरतने की जरूरत
सेंट जॉर्ज अस्पताल के चिकित्सा अधिक्षक डॉ. विनायक सदावर्ते ने कहा कि मरीजों की बढ़ती संख्या से घबराने की नहीं, बल्कि सावधानी बरतने की जरूरत है। समारोहों में भाग लेते समय मास्क अवश्य पहनना चाहिए। यदि संभव हो तो पार्टियों, समारोहों, भीड़-भाड़ से बचना बेहतर होगा। उन्होंने कहा कि जितना हो सके सावधानी बरतें, क्योंकि यही बचाव का रास्ता है।

खुले मैदानों में आयोजित कार्यक्रम में जाएं
चिकित्सकों का कहना है कि नए साल के स्वागत के लिए बनाए गए कार्यक्रमों को संभव हो तो रद्द कर देना चाहिए। अगर समारोह खुले मैदान में हो तो जाने में कोई परेशानी नहीं हैं। लेकिन यदि कार्यक्रम किसी सभागार या किसी बंद स्थान पर है तो जितना संभव हो सके इससे बचना चाहिए।

अन्य समाचार