मुख्यपृष्ठनए समाचारसत्ताधारियों के दबाव में निरगुडे ने दिया इस्तीफा

सत्ताधारियों के दबाव में निरगुडे ने दिया इस्तीफा

सामना संवाददाता / नागपुर

नाना पटोले का सरकार पर हमला

राज्य में निरगुडे पिछड़ा वर्ग आयोग पर शिंदे आयोग द्वारा दी गई जानकारी को सच मानने का दबाव था। इसी दबाव के कारण निरगु़ड़े आयोग के सदस्यों ने पहले इस्तीफा दे दिया था। अब आयोग के अध्यक्ष निरगुड़े ने खुद इस्तीफा दे दिया है, यह गंभीर मामला है। सरकार इस मामले में कुछ छिपा रही है। इसलिए सरकार को तुरंत जानकारी देना चाहिए। इस तरह के शब्दों से कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष नाना पटोले ने सरकार पर हमला किया। नाना पटोले ने कहा कि प्राकृतिक आपदाओं से फसलों को पहुंची क्षति से प्रदेश के किसान दिवालिया हो चुके हैं। ऐसे में वे नागपुर के शीतकालीन सत्र से आस लगाए बैठे हैं। भाजपा सरकार की किसान विरोधी मानसिकता के कारण प्रतिदिन १४ किसान आत्महत्या कर रहे हैं। उम्मीद थी कि सरकार कल किसानों के लिए बड़ी मदद का एलान करेगी। लेकिन सरकार ने कल चर्चा में जवाब ही नहीं दिया। कहा गया कि मुख्यमंत्री शुक्रवार को अपनी बात रखेंगे। महाराष्ट्र प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष नाना पटोले ने हमला बोलते हुए कहा कि सरकार ने मदद का इंतजार कर रहे किसानों को निराश किया है। विधान भवन क्षेत्र में मीडिया से बात करते हुए नाना पटोले ने कहा कि सरकार ने किसानों की मदद के लिए मानसून सत्र में की गई घोषणाएं अभी तक पूरी नहीं की हैं।

अन्य समाचार