मुख्यपृष्ठखबरेंसुशासन बाबू भी सुरक्षित नहीं! सभा स्थल के पास कैसे पहुंचा ‘बम’?

सुशासन बाबू भी सुरक्षित नहीं! सभा स्थल के पास कैसे पहुंचा ‘बम’?

सामना संवाददाता / नालंदा। भाजपा और उसके सहयोगी दलों के गठबंधन वाली सरकार के राज में कानून-व्यवस्था की स्थिति चौक चौबंद होने का काफी ढिंढ़ोरा पीटा जाता है। फिर वह चाहे उत्तर प्रदेश हो, बिहार हो या फिर कोई और राज्य ही क्यों न हो। लेकिन वास्तविक स्थिति इससे बिल्कुल ही अलग है। बात बिहार की करें तो वहां भाजपा-जदयू के गठबंधन वाली सरकार के सीएम नीतीश कुमार ही सुरक्षित नहीं हैं। ऐसा सुशासन बाबू के नाम से लोकप्रिय नीतीश कुमार की नालंदा में आयोजित सभा के दौरान देखने को मिला। सभा स्थल के पास एक बम धमाका होने के बाद पुलिस और प्रशासन में हड़कंप मच गया। हालांकि उक्त बम पटाखा बम था, ऐसी जानकारी सामने आई है लेकिन फिर भी सवाल उठ रहे हैं कि कथित पटाखा बम सभा स्थल के पास पहुंचा वैâसे और यदि वह कोई अलग बम होता तो क्या होता?
बता दें कि मंगलवार को नालंदा में सीएम नीतीश कुमार की जनसभा के पास बम फेंकने की घटना सामने आई थी। इस मामले में पुलिस ने एक व्यक्ति को भी गिरफ्तार किया है। कुछ दिनों पहले ही सीएम नीतीश कुमार के ऊपर एक कार्यक्रम में हमला किया गया था। खबर के मुताबिक, आयोजन के दौरान लोगों से मिल रहे नीतीश कुमार के सामने एक युवक ने धमाका कर दिया, लेकिन वह पटाखा बम था। जो महज सीएम नीतीश कुमार से १५ से १८ फीट की दूरी पर मंच के पीछे फूटा था। धमाके के बाद मौके पर अफरातफरी मच गई। तेज आवाज होने के बाद भगदड़ मच गई। इस मामले में पुलिस ने त्वरित कार्रवाई करते हुए एक आरोपी को दबोच लिया है। आरोपी इस्लामपुर प्रखंड के सत्यारगंज गांव का रहने वाला है। पुलिस ने पटाखा फेंकते देखा था। इसी के आधार पर दबोचा गया है। पूछताछ चल रही है।
पुराना है हमलों का इतिहास
गौरतलब हो कि बिहार में राजनैतिक हिंसा का इतिहास बहुत ही रक्त रंजित रहा है। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर इससे कुछ ही दिन पहले पटना जिले के बख्तियारपुर में एक युवक ने पीछे से हमला किया था। सीएम पर ये हमला उस वक्त हुआ था जब मुख्यमंत्री एक स्थानीय अस्पताल के परिसर में राज्य के एक स्वतंत्रता सेनानी शीलभद्र याजी की प्रतिमा के समक्ष उन्हें श्रद्धांजलि देने जा रहे थे। उस वक्त हमलावर युवक ने जैसे ही हमला किया, सुरक्षा गार्डों ने उसे पकड़ लिया था। वहीं २७ अक्टूबर, २०१३ को पटना के गांधी मैदान में हुए सीरियल धमाकों ने राजधानी को ही नहीं बल्कि पूरे बिहार को हिलाकर रख दिया था। ये धमाके उस समय हुए जब गांधी मैदान में भाजपा की हुंकार रैली थी, जिसमें शामिल होने के लिए मौजूदा प्रधानमंत्री उस समय भाजपा के पीएम पद के उम्मीदवार नरेंद्र मोदी पटना आनेवाले थे।

अन्य समाचार