मुख्यपृष्ठनए समाचारमिशन २०२४ पर निकले नीतिश का बड़ा एलान: भाजपा के साथ अब...

मिशन २०२४ पर निकले नीतिश का बड़ा एलान: भाजपा के साथ अब नहीं करेंगे समझौता!

  • एनडीए में जाने को बताया बड़ी भूल

सामना संवाददाता / पटना
बिहार में एनडीए से बाहर निकलने के बाद आरजेडी की मदद से महागठबंधन की सरकार बनाने वाले नीतिश कुमार अब २०२४ में होनेवाले लोकसभा चुनाव की तैयारियों में जुट गए हैं। विपक्षी दलों को एकजुट करने के इरादे से बिहार के मुख्यमंत्री नीतिश कुमार कल दिल्ली पहुंचे थे। इससे पहले नीतिश कुमार ने राष्ट्रीय जनता दल (राजद) प्रमुख लालू प्रसाद यादव से पटना में उनके आवास पर मुलाकात की। इस दौरान उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव और पूर्व सीएम राबड़ी देवी भी मौजूद थे।
दिल्ली रवाना होने से पहले वे मीडिया से भी मुखातिब हुए। भाजपा पर लगातार हमला कर रहे सीएम नीतिश ने रविवार को ही अपने इरादे स्पष्ट कर दिए थे। उन्होंने जदयू की राष्ट्रीय परिषद की बैठक में कहा था कि जीवन में अब भाजपा के साथ समझौता नहीं करेंगे। जब तक वह हैं, तब तक जदयू किसी भी कीमत पर भाजपा में नहीं जाएगा। जदयू राष्ट्रीय परिषद में मुख्यमंत्री ने बताया कि वह कौन-कौन सी वजहें थीं, जिनकी वजह से जदयू ने एनडीए को छोड़ा। उन्होंने कहा कि भाजपा ने एक साजिश के तहत जदयू को कमजोर करने का फॉर्मूला तैयार किया था। भाजपा ने अपने संगठन प्रभारी रहे राजेंद्र सिंह को विधानसभा चुनाव में लोजपा के टिकट पर लड़ा दिया। ऐसा पहली बार हुआ, जब भाजपा ने अपने संगठन प्रभारी को दूसरे दल के टिकट पर मैदान में उतारा था। चुनाव के बाद जदयू की कम संख्या पर भाजपा के लोग टिप्पणी करते रहे। आरसीपी सिंह को एकनाथ शिंदे बनाए जाने की कोशिश हो रही थी, पर बिहार में यह सफल नहीं हो सका। इस दौरान जदयू की ओर से आरोप लगाया गया है कि केंद्र सरकार सार्वजनिक उपक्रमों को पूंजीपतियों के हाथों बेचकर अपने चहेते उद्योगपतियों को लाभ पहुंचा रही है। कंपनियों की आमदनी बढ़ने के बावजूद उनके कॉर्पोरेट टैक्स को ३० प्रतिशत से घटाकर १८ प्रतिशत कर दिया गया। इससे पिछले तीन सालों में सरकारी खजाने में तीन लाख करोड़ रुपए का नुकसान हुआ है। इतना ही नहीं पिछले पांच साल में सरकारी बैंकों ने १० लाख करोड़ रुपए कर्ज की रकम को बट्टे खाते में डाल दिया। केंद्र सरकार की अग्निवीर भर्ती योजना को देश की सुरक्षा से खिलवाड़ बताया। केंद्र सरकार पर विपक्ष की आवाज दबाने के लिए केंद्रीय जांच एजेंसियों का हथियार के रूप में इस्तेमाल करने की बात भी कही गई।

अन्य समाचार