मुख्यपृष्ठनए समाचारनसबंदी को पुरुषों की ना!...५ साल में सिर्फ १,३०७ ने किया स्वीकार

नसबंदी को पुरुषों की ना!…५ साल में सिर्फ १,३०७ ने किया स्वीकार

सामना संवाददाता / मुंबई । जनसंख्या नियंत्रण के लिए सुझाए गए नसबंदी के विकल्प को पुरुषों ने अस्वीकार कर दिया है। ऐसा बीते पांच वर्षों में नसबंदी को लेकर पुरुषों की बेरुखी से स्पष्ट हो गया है। खासकर शहरी महिलाओं की तुलना में पुरुष की नसबंदी प्रमाण बहुत ही मामूली हैं। मुंबई मनपा के स्वास्थ्य विभाग के चिकित्सा विशेषज्ञ इसके लिए पुरुषों में नसबंदी को लेकर हुई गलतफहमी को जिम्मेदार ठहराते हैं।
आंकड़ों की मानें तो बीते पांच वर्षों में महज १,३०७ पुरुषों ने ही नसबंदी कराई है। वहीं इसकी तुलना में इसी कालावधि में करीब ८१ हजार ६१५ महिलाओं की नसबंदी हुई है। अर्थात पुरुषों की तुलना में ९८ फीसदी अधिक महिलाओं ने नसबंदी कराई है। बताया जा रहा है कि पुरुष नसबंदी की प्रक्रिया बेहद सुविधाजनक है और इसमें अधिकतम आधा घंटा लगता है। इतना ही नहीं मुंबई में नसबंदी करानेवाले पुरुषों के खाते में १,४५१ रुपए भी प्रशासन जमा कराता है। जबकि महिलाओं को कुल सौ रुपए ही दिए जाते हैं। इसके अलावा महिलाओं का ऑपरेशन जोखिमभरा और तकलीफदेह भी होता है। फिर भी अप्रैल २०२१ से फरवरी २०२२ के बीच मुंबई में १२ हजार १३८ महिलांओं ने परिवार नियोजन के लिए शस्त्रक्रिया करवाई जबकि पुरुषों की संख्या न के बराबर है। बीते करीब एक वर्ष में सिर्फ ४३ पुरुषों ने नसबंदी कराई।

अन्य समाचार