मुख्यपृष्ठनए समाचारन वाहन, न वैपन! ... `साइकिल और स्कूटर' के सहारे पुतिन की सेना

न वाहन, न वैपन! … `साइकिल और स्कूटर’ के सहारे पुतिन की सेना

•  यूक्रेन को तबाह करते-करते खुद तबाह हो रहा है रूस
एजेंसी / कीव
किसी भी दो देशों के बीच लड़ाई में दोनों देशों को भारी क्षति होती है। इसका खामियाजा आम आदमी से लेकर सेनाओं को भी भुगतना पड़ता है। लाखों लोगों की जान जाती है, साथ ही रोजमर्रा का जीवन भी अस्त-व्यस्त होता है। रूस-यूक्रेन के बीच छिड़ी जंग को लगभग ९ महीने हो गए हैं। इस जंग में लाखों नागरिक एवं सैनिक मारे गए लेकिन लड़ाई खत्म नहीं हुई। इस युद्ध से रूस यूक्रेन को तबाह करना चाहता था लेकिन खुद तबाह हो रहा है। दरअसल, व्लादिमीर पुतिन के सैनिकों के पास न वाहन है, न वैपन है। यहां तक कि रूसी सैनिक कहीं जाने के लिए `साइकिल और स्कूटर का सहारा’ ले रहे हैं।
मिली जानकारी के मुताबिक रूसी सैनिकों को यूक्रेन में जारी जंग के बीच `हमारे पास कोई वाहन नहीं है’ ऐसी शिकायत करते हुए सुना गया है। उनको `साइकिल और स्कूटर’ का उपयोग करते देखा गया है। इसका एक ऑडियो क्लिप जारी किया गया है, जिसमें पूर्वी यूक्रेन के डोनेट्स्क में लाइमैन शहर के पास काम कर रहे सैनिकों को यह कहते हुए सुना जा सकता है कि यहां अब सिर्फ एक टैंक खड़ा है और वही अब हमारे लिए सब कुछ है।
सैनिकों में इसकी कमी से निराशा दिखाई दे रही है। गौरतलब है कि सितंबर के अंत में जब यूक्रेनी सेना ने रूसी सैनिकों पर हमला किया तो उन्हें लाइमैन से भागने पर मजबूर होना पड़ा था। दरअसल रूसी सैनिक इस हमले के लिए तैयार नहीं थे और यूक्रेनी सैनिकों ने अचानक धावा बोल दिया था। लाइमैन में तब एक सिपाही ने रूसी सैनिकों को सूचना दी थी, `यहां कोई वाहन नहीं है। हमारी कंपनी के पास बीटीआर (ब्रोनट्रांसपोर्टर-रूसी बख्तरबंद कार्मिक वाहक) भी नहीं है।’
उसके बाद दूसरे सैनिक ने कहा, ठीक है, फिर तो हम साइकिल और स्कूटर खोजें, जो कुछ भी मिल जाए उसी से चलो। हमसे कोई वादा नहीं किया गया है और ना ही बताया गया है कि गाड़ियां कब तक आएंगी? तब दूसरे सिपाही ने कहा, `यहां सिर्फ एक टैंक खड़ा है और वही अब सब कुछ है। लेकिन आप जानते हैं, यह आग नहीं लगा सकता। हम इसे ड्राइव नहीं कर सकते। यह पूछे जाने पर कि तीसरा टैंक कहां है, सैनिक ने कहा, ‘हमारे पास तो नहीं है।’

अन्य समाचार