मुख्यपृष्ठस्तंभअब होगी ‘भारत न्याय यात्रा'

अब होगी ‘भारत न्याय यात्रा’

दिल्ली से
योगेश कुमार सोनी
राहुल गांधी `भारत जोड़ो यात्रा’ की सफलता के बाद अब मणिपुर से मुंबई तक `भारत न्याय यात्रा’ की तैयारी कर रहे हैं। अगले महीने यानी १४ जनवरी से कांग्रेस पार्टी की `भारत न्याय यात्रा’ शुरू होगी, जिसमें राहुल गांधी मणिपुर से मुंबई तक का सफर तय करेंगे। बताया जा रहा है कि कांग्रेस के इस आयोजन में पार्टी के सभी छोटे-बड़े नेता भी शामिल होंगे व यह भारत जोड़ो की तर्ज पर ही होगी। यह बताया जा रहा है कि मणिपुर से १४ जनवरी को शुरू होकर यह यात्रा २० मार्च को खत्म होगी। कांग्रेस महासचिव केसी वेणुगोपाल ने बताया कि यात्रा के दौरान युवाओं, महिलाओं और हाशिए पर मौजूद लोगों से बातचीत करने का प्रयास किया जाएगा। उन्होंने कहा कि कई प्रदेशों से गुजरी इससे पहले `भारत जोड़ो यात्रा’ के बाद राहुल गांधी और कांग्रेस के पास बड़ा अनुभव है। वेणुगोपाल ने यह भी बताया कि `भारत न्याय यात्रा’ ६,२०० किलोमीटर की दूरी तय करेगी। मणिपुर से शुरुआत के बाद राहुल गांधी नागालैंड, मेघालय, पश्चिम बंगाल, असम, बिहार, झारखंड, ओडिशा, छत्तीसगढ़, यूपी, राजस्थान, मध्य प्रदेश और गुजरात भी जाएंगे। सबसे अंत में भारत न्याय यात्रा महाराष्ट्र पहुंच कर मुंबई में २० मार्च को खत्म होगी। राहुल गांधी की `भारत जोड़ो यात्रा’ के दौरान भारत के मानचित्र में चल रही समस्याएं उजागर हुर्इं थीं। कई वर्षों बाद देश में रह रहे नागरिकों में कांग्रेस के प्रति सम्मान व प्यार का पता चला। चूंकि मीडिया ने कांग्रेस के प्रति नकारात्मकता पैâला रखी थी, जिसका भ्रम `भारत जोड़ो यात्रा’ से टूटा था। बीते वर्ष कांग्रेस ने कई उपलब्धियां हासिल की। हर चुनाव में बेहतर प्रदर्शन किया। हिमाचल, कर्नाटक व तेलंगाना में पूर्ण बहुमत के साथ सरकार बनाई है व सभी राज्यों में सर्वश्रेष्ठ वोट प्रतिशत भी रहा। कांग्रेस के प्रति लोगों का झुकाव, प्यार व सम्मान लगातार देखने को मिल रहा है, जिससे भारतीय जनता पार्टी विचलित भी नजर आ रही है। देश की जनता को धीरे-धीरे भाजपा की नकली व बनावटी बातें समझ में आने लगी हैं। राहुल गांधी की मोहब्बत की दुकान से जिस तरह भाजपा का नफरत का बाजार बंद होने लगा है उससे विरोधियों की परेशानी बढ़ती नजर आ रही है। आज राहुल गांधी की आक्रामक व आकर्षक शैली से लोगों ने उन्हें प्यार दिया है। जनता ने एक बार यह साबित कर दिया कि वह कांग्रेस का समर्पण व त्याग भूली नहीं है। गांधी परिवार ने इंदिरा गांधी, संजय गांधी व राजीव गांधी की कुर्बानी दी हैं। यदि सत्ता का लालच होता तो इस तरह उनकी जान न जाती। आज कोई कुछ कह देता है लेकिन हकीकत जो जानता है वो कांग्रेस को मानता है। `भारत जोड़ो यात्रा’ में जब उनका पसंदीदा नेता जमीन पर उतरकर उनसे मिला तो एहसास जुड़े और तमाम बुजुर्गों ने राहुल को उनके पिता व दादी के संबंधों को बताते हुए आर्शीवाद दिया। इस बार यात्रा का नाम `भारत न्याय यात्रा’ रखा गया, जिसका उद्देश्य भारत के उन लोगों को न्याय मिले, जो सत्ताधारियों के शोषित हैं। भाजपा ने केवल एक ही वर्ग का ठेका ले रखा है और देश की लगभग आधी से अधिक जनसंख्या के साथ अन्याय हो रहा है। अन्याय से कई तरह के अभिप्राय हैं। सबसे पहले आर्थिक परेशानी व दूसरा महिला सुरक्षा और इसके अलावा योजनाओं का सुचारू रुप से न मिलना। देश परिवर्तन चाहता है, जिसका उत्तर २०२४ के लोकसभा चुनावों में दिया जाएगा। राहुल की `भारत न्याय यात्रा’ में कांग्रेस में एक अलग ही तरह की लहर है। एक बार फिर राहुल गांधी अपने प्रशंसकों के बीच होंगे व देश की जमीनी स्थिति से जनता को रूबरू कराएंगे।

अन्य समाचार