मुख्यपृष्ठनए समाचारअब `हाथ' को हथियाने की साजिश! कांग्रेसी विधायकों को तोड़ने में जुटी...

अब `हाथ’ को हथियाने की साजिश! कांग्रेसी विधायकों को तोड़ने में जुटी भाजपा

  • फडणवीस और चव्हाण की मुलाकात से चर्चाओं का बाजार गर्म

सामना संवाददाता / मुंबई
दिल्ली और झारखंड में `ऑपरेशन लोटस’ का प्रयास असफल होने के बाद भाजपा यानी कमलाबाई की बुरी नजर अब कांग्रेस पर है। पार्टी की अंदरूनी नाराजगी का फायदा उठाते हुए महाराष्ट्र में कांग्रेस में फूट डालने की कोशिश भाजपा की ओर से की जा रही है। इसी बीच उपमुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस और पूर्व मुख्यमंत्री अशोक चव्हाण की हुई मुलाकात को लेकर राजनीतिक हलकों में चर्चाओं का बाजार गर्म हो गया है कि कांग्रेस में जल्द फूट पड़ सकती है। कमलाबाई यानी भाजपा अब `हाथ’ सफाई करते हुए कांग्रेस विधायकों को तोड़ेगी।
महाराष्ट्र में तोड़फोड़ की राजनीति कर सत्ता में आने के बाद भाजपा ने विपक्षी दल के नाराज विधायकों को गले लगाने की कोशिश शुरू कर दी है। कहा जा रहा है कि कांग्रेस के एक बड़े नेता संपर्क में हैं और जल्द अपने समर्थकों के साथ भाजपा में शामिल हो जाएंगे। राजनीतिक गलियारों में यह भी चर्चा है कि कांग्रेस के कुछ विधायक और पूर्व मंत्री भी भाजपा के संपर्क में हैं। इस बीच कांग्रेस के वरिष्ठ नेता, पूर्व मुख्यमंत्री अशोक चव्हाण और उपमुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस की मुलाकात की जानकारी सामने आई है। भाजपा नेता आशीष कुलकर्णी के आवास पर इन दोनों की १५ से २० मिनट तक चर्चा हुई।
कांग्रेस नेता राहुल गांधी के कभी करीबी रहे आशीष कुलकर्णी फिलहाल भाजपा में हैं। कुलकर्णी को मुख्यमंत्री कार्यालय में समन्वय की जिम्मेदारी सौंपी गई है। इसलिए चव्हाण और फडणवीस की मुलाकात भले ही गणपति दर्शन के उपलक्ष्य में हुई हो लेकिन राजनीतिक गलियारों में तर्क-वितर्क लगाए जा रहे हैं।
सात विधायक टूटेंगे?
फडणवीस और चव्हाण की मुलाकात की कारण कांग्रेस के एक गुट में खलबली मची हुई है। सूत्रों के मुताबिक चव्हाण ही नहीं बल्कि कांग्रेस के सात विधायक भाजपा के संपर्क में हैं। ये सभी जल्द ही भाजपा में प्रवेश करेंगे, ऐसी चर्चा है। पहले से ही ये विधायक भाजपा में प्रवेश के लिए उत्सुक हैं, ऐसा कहा जाता है। इन सब कारणों से ये सात विधायक कौन हैं? इसको लेकर तर्वâ-वितर्वâ लगाए जा रहे हैं।
‘नहीं हुई राजनीतिक चर्चा’
राज्य के उपमुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अशोक चव्हाण की मुलाकात के बाद चर्चाओं का बाजार गर्म है। इस मुलाकात के बाद खुद अशोक चव्हाण ने स्पष्टीकरण देकर चर्चा को पूर्ण विराम लगा दिया है। फडणवीस से मुलाकात के बाद स्पष्टीकरण देते हुए अशोक चव्हाण ने कहा कि भाजपा और शिंदे गुट के समन्वयक नियुक्त किए गए आशीष कुलकर्णी के घर पर गणपति का दर्शन करने के लिए मैं गया था। उस समय मेरी और देवेंद्र फडणवीस की खड़े-खड़े मुलाकात हुई थी। इस मुलाकात में किसी प्रकार की राजनीतिक चर्चा नहीं हुई।
फडणवीस ने हाथ उठाया
भाजपा नेता और उप मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने कहा कि अशोक चव्हाण से मुझसे कहीं मुलाकात नहीं हुई। एक स्थान पर गणपति दर्शन के लिए मैं पहुंचा और वे भी पहुंचे थे। वे दर्शन करके निकल रहे थे, तभी मैं पहुंचा। ऐसा तो होता रहता है। मेरी और उनकी कहीं मुलाकात नहीं हुई थी, ऐसा कहते हुए फडणवीस ने अपना हाथ ऊपर कर लिया।
‘खबर झूठी है’
कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अशोक चव्हाण के संदर्भ में मीडिया में आई हुई खबरें असत्य और खोखली हैं। यह लोगों को भ्रमित करनेवाली हैं। अशोक चव्हाण कांग्रेस के `भारत जोड़ो’ यात्रा के नियोजन में सक्रिय हैं। हम एक साथ मिलकर महाराष्ट्र कांग्रेस को अधिक मजबूत करने के लिए कटिबद्ध हैं। मीडिया से अशोक चव्हाण जैसे वरिष्ठ नेता के संदर्भ में जवाबदारी से खबर प्रसारित करना अपेक्षित है, पिछले कई दिनों से चव्हाण और कांग्रेस के संदर्भ में जान-बूझकर कर संभ्रम निर्माण किया जा रहा है, ऐसा थोरात ने कहा।

अन्य समाचार