मुख्यपृष्ठनए समाचारमुंबई में अब ‘दो घंटे की दिवाली’! ...रात ८ से १० के...

मुंबई में अब ‘दो घंटे की दिवाली’! …रात ८ से १० के बीच ही पटाखे जला सकेंगे मुंबईकर हाई कोर्ट ने दिया आदेश

सामना संवाददाता / मुंबई
शिवसेना से घात करके अस्तित्व में आई मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे के नेतृत्ववाली असंवैधानिक ‘घाती’ सरकार की लापरवाही के कारण मुंबई में प्रदूषण से हाहाकार मचा है। लेकिन शिंदे सरकार प्रदूषण के कारण आम जनता को हो रही परेशानियों को गंभीरता से नहीं ले रही है। सरकारी उदासीनता के कारण परेशान जनता की रक्षा के लिए भी अब अदालत को आगे आना पड़ा है। मुंबई उच्च न्यायालय ने मुंबईकरों के स्वास्थ्य की रक्षा के लिए दिवाली पर पटाखे जलाने की पूर्व में अपने ही द्वारा दी गई समय सीमा को और कम कर दिया है। नए आदेश के तहत मुंबईकर दिवाली पर अब सिर्फ दो घंटे ही पटाखे जला सकेंगे। अदालत ने अब पटाखे की समय सीमा को ७ बजे से १० बजे की बजाय अब घटाकर ८ बजे से १० बजे तक कर दिया है।
बता दें कि मुंबई की वायु गुणवत्ता लगातार खराब हो रही है, जिसके मद्देनजर मुंबई और इसके आसपास के इलाकों में पटाखे जलाने की समयसीमा और कम कर दी गई है। मुंबई उच्च न्यायालय ने मुंबईकरों को अब सिर्फ रात ८ बजे से १० बजे के बीच ही पटाखे चलाने की अनुमति दी है। शीर्ष अदालत द्वारा इससे पहले शाम ७ बजे से रात १० बजे तक पटाखे चलाने की इजाजत दी गई थी।
तीन सदस्यों की कमेटी गठित करने का आदेश
मुंबई उच्च न्यायालय ने मुंबई महानगर में प्रदूषण को लेकर तीन सदस्यों की कमेटी का गठन करने का आदेश दिया है। साथ ही मनपा से कहा है कि वह भी इस कमेटी की सहायता करे। एमएमआर (मुंबई मेट्रोपोलिटियन रीजन) क्षेत्र के सभी मनपाओं को उनके क्षेत्र के प्रदूषण और उठाए गए कदमों की रोजाना रिपोर्ट सौंपनी होगी। हाई कोर्ट के आदेश पर गठित कमेटी संबंधित मनपाओं को सुझाव दे सकती है।
कमेटी सौंपेगी साप्ताहिक रिपोर्ट
मनपाओं की दैनिक रिपोर्टों के आधार पर कमेटी अपनी टिप्पणियों के साथ साप्ताहिक रिपोर्ट तैयार करके अदालत को सौंपेगी। हाई कोर्ट ने कहा कि हमारा यह आदेश एमएमआर (मुंबई मेट्रोपोलिटियन रीजन) के सभी मनपाओं, नगर निगम और नगर पंचायत पर लागू होगा। इस बीच मुंबई महानगरपालिका ने मुंबई हाई कोर्ट में अपना हलफनामा दाखिल किया। इस हलफनामे में मनपा ने शहर में एक्यूआई में सुधार के लिए महानगरपालिका द्वारा किए जा रहे उपायों की जानकारी दी।
मुंबई मनपा ने उठाए निम्न कदम
 मनपा मुंबई के ९५ संवेदनशील स्थानों पर युद्धस्तर पर काम कर रही है।
 मनपा के अधिकारी इन स्थानों पर पैनी नजर रखे हुए हैं।
 इसके अलावा मनपा के अधिकारी पूरे शहर भर में निरीक्षण कर रहे हैं।
 ६५० किमी सड़कों की नियमित धुलाई की जा रही है
 मलबे का कोई भी ट्रक पूरी तरह से ढंके बिना नहीं निकल रहा है।
ट्रैफिक पुलिस ने बनाया एक्शन प्लान
मुंबई में बढ़ते प्रदूषण को कम करने के लिए मुंबई ट्रैफिक पुलिस द्वारा एक विशेष अभियान चलाया जा रहा हैं। पिछले तीन दिनों में पीयूसी नियमों का उल्लंघन करने पर २,४६० वाहनों के खिलाफ कार्रवाई की गई है। एग्जॉस्ट कटआउट का उपयोग करने वाले ४४९ वाहनों को जब्त कर लिया गया और १९५ साइलेंसर जब्त कर लिए गए है। गलत तरीके से निर्माण सामग्री को वाहनों से ले जाने के मामले में १००० वाहनों के चालकों पर कार्रवाई की गई है। ऐसे ५९ वाहनों के खिलाफ भी कार्रवाई की गई, जिनका फिटनेस प्रमाण पत्र समाप्त हो गया था। आरटीओ ने २,५०० से ज्यादा ऐसे वाहनों को नोटिस भी जारी किया है, जिनकी पीयूसी खत्म हो गई है। एक रिपोर्ट के अनुसार मंगलवार और गुरुवार के बीच तीन दिनों में, मुंबई ट्रैफिक पुलिस ने पीयूसी (नियंत्रण में प्रदूषण) उल्लंघन के लिए २,४६० वाहनों के खिलाफ कार्रवाई की है। यह कार्रवाई गलत मोटर चालकों पर नकेल कस कर वायु प्रदूषण को रोकने के लिए पुलिस के चल रहे अभियान का एक हिस्सा है। वहीं, आरटीओ ने गुरुवार को २,५०० से अधिक दोपहिया, कार और भारी वाहन मालिकों को नोटिस भेजा है, जिनके वाहन पीयूसी प्रमाणपत्र समाप्त हो गए थे और वे प्रदूषण नियंत्रण मानदंडों के लिए वाहनों का परीक्षण कराने में विफल रहे थे।

अन्य समाचार