मुख्यपृष्ठसमाचारयूपी में अफसर बना भक्षक!...गरीबों का ५०० क्विंटल गेहूं मंडी में बेच...

यूपी में अफसर बना भक्षक!…गरीबों का ५०० क्विंटल गेहूं मंडी में बेच डाला

• विपणन निरीक्षक सहित तीन कर्मियों पर केस दर्ज

विक्रम सिंह  / आज़मगढ़ । यूपी में अफसरों का भ्रष्टाचार हदें पार कर रहा है। इन अफसरों के लिए सीएम योगी के फरमान कोई मायने नहीं रखते। भ्रष्ट आचरण में संलिप्त अफसर गरीबों को बंटने आया अनाज ही बाजार में सेठ-साहूकारों को बेच डाल रहे हैं। ताजा वाकया है आजमगढ़ जिले का। जहां पर मार्केटिंग विभाग के इंस्पेक्टर ने तकरीबन ५०० क्विंटल गेंहू बाजार में बेच डाला। पोल खुली तब जब कुछ जागरूक ग्रामीणों ने इसकी शिकायत की और शोर मचाया। फिलहाल महीनों जांच के बहाने मामले को दाबने की कोशिश उच्चपदस्थ अफसर करते रहे। नतीजा सिफर रहा। अब जाकर जिला विपणन अधिकारी की तहरीर पर पुलिस ने जिम्मेदार मार्केटिंग अफसर सहित तीन लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया है।
विवरण के अनुसार, घटना आज़मगढ़ के महराजगंज सरकारी गोदाम की है। यहां के इंचार्ज मार्केटिंग इंस्पेक्टर शेख इफ्तेखार अली की साज़िश से विभिन्न योजनाओं के तहत गरीबों को वितरण के लिये गत दिनों में कई टन अनाज आया था। आरोप है कि सरकारी गेहूं को रजिस्टर में इंट्री न कर कालाबाजारी कर दी गई थी। बीते दिवस हुई जांच में गेहूं की इस कालाबाजारी का खुलासा हुआ। प्रकरण में जिला विपणन अधिकारी नरेन्द्र कुमार ने विपणन (मार्केटिंग) निरीक्षक शेख इफ्तेखार अली सहित तीन के विरूद्ध महराजगंज थाना मे तहरीर दी। आरोप के मुताबिक महराजगंज ब्लाक के गोदाम से ५०७ क्विंटल गेहूं की कालाबाजारी की गई। आखिरकार पुलिस ने सभी आरोपियों के विरूद्ध रिपोर्ट दर्ज  विरूद्ध रिपोर्ट दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।

अन्य समाचार