मुख्यपृष्ठनए समाचारबाप रे! कक्षा ९ की बच्ची बन गई मां! ...कर्नाटक के सरकारी हॉस्टल में कारनामा 

बाप रे! कक्षा ९ की बच्ची बन गई मां! …कर्नाटक के सरकारी हॉस्टल में कारनामा 

वार्डन समेत दो को किया गया सस्पेंड
सामना संवाददाता / बंगलुरु 
कर्नाटक के एक सरकारी हॉस्टल में ऐसा कारनामा सामने आया है, जिसे सुनकर हर कोई हैरान है। यहां के चिक्काबल्लापुर में कक्षा ९वीं में पढ़नेवाली नाबालिग लड़की ने एक बच्चे को जन्म दिया है। लड़की वैâसे प्रेग्नेंट हुई, इसके पीछे कौन जिम्मेदार है, इसका अभी तक पता नहीं चला है। न तो लड़की और न ही उसके माता-पिता आरोपी के बारे में कुछ बता रहे हैं, लेकिन इस मामले में हॉस्टल के वार्डन समेत दो को सस्पेंड कर दिया गया है। वार्डन की भूमिका संदिग्ध बताई जा रही है। पुलिस ने पॉक्सो एक्ट के तहत मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।
पेट में दर्द उठने से हुआ खुलासा
मिली जानकारी के अनुसार, ९वीं में पढ़ने वाली १४ साल की छात्रा कर्नाटक के तुमकुरु जिले के एक सरकारी आवासीय विद्यालय के छात्रावास में रहकर पढ़ाई करती थी। वह लगातार हॉस्टल में नहीं रहती थी। वह नियमित रूप से अपने रिश्तेदारों के पास जाती थी। पिछले साल अगस्त में मेडिकल चेकअप के लिए हॉस्पिटल गई थी। उस वक्त लड़की की प्रेग्नेंसी का खुलासा नहीं हुआ। एक दिन जब उसके पेट में दर्द उठा तो घरवाले उसे अस्पताल ले गए, जहां डॉक्टरों ने पाया कि लड़की ८ महीने की गर्भवती है। जिसके बाद उन्होंने लड़की को अस्पताल में भर्ती कराया। जिसके बाद ९ जनवरी को एक बच्चे को जन्म दिया।
पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच की शुरू
पुलिस ने भारतीय दंड संहिता की धारा ३७६ (बलात्कार) और यौन अपराधों के खिलाफ बच्चों के संरक्षण अधिनियम की अन्य संबंधित धाराओं के तहत मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। अधिकारियों ने कहा कि तुमकुरु जिला प्रशासन ने छात्रावास वार्डन को निलंबित कर दिया है। हमने मामले में केस दर्ज कर लिया है, लेकिन घटना के संबंध में अभी तक कोई गिरफ्तारी नहीं की है। हम यह पता लगाने के लिए उन सभी से पूछताछ कर रहे हैं कि कौन जिम्मेदार था।
नाबालिग लड़के का नाम आया सामने
लड़की के नाबालिग होने पर अस्पताल ने इस बात की सूचना पुलिस को दी। पुलिस ने इस बारे में लड़की से जब पूछा तो उसने एक सीनियर छात्र का नाम बताया, जो नाबालिग था। हालांकि, पूछताछ में लड़के ने इससे इनकार कर दिया। सूत्रों के अनुसार, बताया जाता है कि लड़की एक साल पहले ही हॉस्टल में रहने आई थी। उस वक्त वह क्लास ८ में पढ़ती थी। वहीं लड़की का संबंध क्लास १० के एक लड़के से था। दोनों एक ही स्कूल में पढ़ते थे। हालांकि, १०वीं तक की पढ़ाई के बाद लड़का बंगलुरु चला गया।

अन्य समाचार