मुख्यपृष्ठधर्म विशेषगणेश चतुर्थी के दिन: शुभ मुहूर्त में करें बाप्पा की पूजा

गणेश चतुर्थी के दिन: शुभ मुहूर्त में करें बाप्पा की पूजा

हिंदू पंचांग के अनुसार हर साल भाद्रपद मास में शुक्ल पक्ष की चतुर्थी तिथि पर गणेश चतुर्थी का पावन पर्व मनाया जाता है। इस साल गणेश चतुर्थी ३१ अगस्त को पड़ रही है। इस पर्व को बड़े ही धूम-धाम से मनाया जाता है। इसी दिन से १० दिनों तक चलने वाले गणेश महोत्सव की शुरुआत भी हो जाती है। गणेश चतुर्थी के दिन लोग घरों में गणपति की प्रतिमा की स्थापना करते हैं। लोग १० दिन के लिए घर में गणपति को विराजमान करते हैं। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार भगवान गणेश की कृपा से सभी मनोकामनाएं पूरी हो जाती हैं और जीवन आनंदमय हो जाता है।
पीतल की सुंदर सजावट के साथ
गणेश चतुर्थी एक शुभ (मंगलमय) हिंदू त्योहार है जिसे देशभर में पूरे जोश के साथ मनाया जाता है। यह परिवार और दोस्तों के साथ अपने घर को आनंद और हर्ष के साथ सजाने का समय है। त्योहार की चमक से प्रेरित होकर, जायपोर ने अपना फेस्टिव कलेक्शन पेश किया है जिसमे कपड़ों के साथ ही घर की सजावट के सामानों का एक शानदार सेट शामिल है, जो त्योहार से जुड़ी आपकी सभी जरूरतों के लिए इसे वन स्टॉप शॉप बनाता है। शानदार रंगों, बारीक डिजाइनों और अनूठी अद्वितीय सिल्हूट के साथ यह कलेक्शन फेस्टिव सीजन के लिए आइडियल है। अपने पैट्रंस के लिए सभी कैटेगरीज में कलेक्शन में पैक्ड बेस्ट बुनाई, कढ़ाई और डिजाइन को क्यूरेट करने के लिए जयपोर लेबल कारीगरों और शिल्पकारों के साथ काम करता है। किंवदंती है कि सबसे पहले नारायणपेट बुनकर छत्रपति शिवाजी महाराज के दल के साथ इस क्षेत्र में आए थे। घरों में पीतल के सकारात्मक प्रभाव और इसके फायदों को चैनलाइज करने की परंपरा है। जयपोर खूबसूरत पीतल से सजा कलेक्शन पेश करता है। ‘धातु’ में पीतल की आकर्षक गणेश मूर्तियों के साथ दक्षिण भारत से बहुत कुछ है।
उपवास के साथ उत्साह से लें आनंद
त्योहार का यह महीना बेहद महत्वपूर्ण है और इसके आगमन पर लोगों में खुशियां आती हैं। भगवान गणेश की कृपा पाने के लिए इस अवधि को बेहद पवित्र माना जाता है और इसी महीने से पूजा-पाठ, उपवास और त्योहारों के मौसम की शुरुआत होती है। लोग उपवास रखते हैं और इस दौरान अपने खान-पान का बेहद खास ख्याल रखते हैं। उपवास के इस महीने की परंपरा को निभाते हुए मदर्स रेसिपी ने स्वादिष्ट आलू और साबूदाना पापड़ बाजार में उतारे हैं। उपवास में खाने के लिए और तलने के लिए तैयार मदर्स रेसिपी के पापड़ वाकई बेहद स्वादिष्ट नाश्ता हैं। साबूदाना पापड़ को खास तौर पर उपवास के लिए बनाया जाता है, जिसमें साधारण नमक के बजाय सेंधा नमक का इस्तेमाल किया जाता है।
पूजा- विधि
इस दिन सुबह जल्दी उठकर स्नान करके घर के मंदिर में दीप प्रज्वलित करें। गणपित भगवान का गंगा जल से अभिषेक करें। गणपति की प्रतिमा की स्थापना करें। भगवान गणेश को पुष्प अर्पित करें। भगवान गणेश को दूर्वा घास भी अर्पित करें। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार दूर्वा घास चढ़ाने से भगवान गणेश प्रसन्न होते हैं। भगवान गणेश को सिंदूर लगाएं।गणेश जी को भोग भी लगाएं। आप गणेश जी को मोदक या लड्डूका भोग भी लगा सकते हैं।
३०० साल बाद दुर्लभ संयोग में होगी स्थापना
३१ अगस्त को आ रही गणेश चतुर्थी कई मायनों में बहुत खास है। अकेले चतुर्थी ही शुभ नहीं है, बल्कि ३१ अगस्त से ९ सितंबर के बीच ७ दिन अच्छे योग भी बन रहे हैं। विद्वानों ने इन १० दिनों के वो ७ शुभ मुहूर्त बताए हैं, जो आपके लिए खास हो सकते हैं। पहला कारण तो ये है कि इस साल वो सारे योग-संयोग बन रहे हैं, जो गणेश जी के जन्म पर बने थे। दिन बुधवार, तिथि चतुर्थी, नक्षत्र चित्रा और मध्याह्न काल यानी दोपहर का समय। ये ही वो संयोग था जब पार्वती जी ने मिट्टी के गणेश बनाए थे और शिव जी ने उसमें प्राण डाले थे। इसके अलावा भी कुछ दुर्लभ और शुभ योग बन रहे हैं जो ३१ अगस्त से ९ सितंबर तक गणेश उत्सव के दौरान रहेंगे।

अन्य समाचार