मुख्यपृष्ठनए समाचारट्रेन में सिलिंडर पर सवाल : क्या सो रही थी रेल पुलिस!...

ट्रेन में सिलिंडर पर सवाल : क्या सो रही थी रेल पुलिस! … लखनऊ से रामेश्वरम जाने वाली ट्रेन में लगी आग

•  १० यात्रियों की मौत, २० से अधिक घायल
सामना संवाददाता / तमिलनाडु
तमिलनाडु के मदुरै रेलवे स्टेशन के पास लखनऊ से रामेश्वरम जाने वाली ट्रेन में कल आग लगने से हड़कंप मच गया। मदुरै में रेलवे अधिकारियों के मुताबिक, इस घटना में १० लोगों की मौत, जबकि २० से अधिक यात्री झुलस गए। झुलसे लोगों को अस्पताल में भर्ती कराया गया और उनका इलाज जारी है। दक्षिणी रेलवे के मुताबिक, इस ट्रेन हादसे के मृतकों के परिवार को १०-१० लाख रुपए मुआवजे का एलान किया गया है। बताया जा रहा है कि ट्रेन में आग गैस सिलिंडर की वजह से लगी। इस दुर्घटना के बाद रेलवे की सुरक्षा व्यवस्था पर भी सवाल खड़े हो रहे हैं कि क्या रेल पुलिस सो रही थी।
मिली जानकारी के अनुसार, तीर्थ यात्रियों को लेकर लखनऊ से रामेश्वरम जा रही ट्रेन के स्पेशल कोच में ६३ यात्री सवार थे, जिनमें से कुछ लोग के पास गैस सिलिंडर था। अंदाजा लगाया जा रहा है कि ट्रेन के स्पेशल कोच में आग इसी गैस सिलिंडर की वजह से लगी, जिसे अवैध तरीके से ले जाया जा रहा था।
ज्वलनशील वस्तुएं और विस्फोटक ले जाना अपराध है
गौरतलब है कि गैस सिलिंडर, पटाखे, एसिड, मिट्टी का तेल, पेट्रोल, थर्मिक वेल्डिंग, स्टोव आदि जैसे ज्वलनशील सामान और विस्फोटक ले जाना रेलवे अधिनियम १९८९ की धारा ६७,१६४ और १६५ के तहत दंडनीय अपराध है। रेलवे मैनुअल के पैरा ९ के अनुसार, निजी पर्यटक दलों को एक लिखित घोषणा देनी होगी कि वे अपनी यात्रा के दौरान कोई भी ज्वलनशील वस्तु नहीं ले जाएंगे। कल मदुरै यार्ड में स्थित एक प्राइवेट पार्टी टूरिस्ट कोच में हुई। अग्नि दुर्घटना में प्राइवेट पार्टी ने भी इस आशय की घोषणा की थी, फिर भी निजी पक्ष ने अवैध रूप से गैस सिलिंडर, स्टोव और अन्य ज्वलनशील वस्तुएं ले जार्इं, जिसके कारण भीषण आग लग गई।

अन्य समाचार