मुख्यपृष्ठनए समाचारत्योहारी सीजन में प्याज ‘शतकवीर'! ... खुदरा बाजार में ८० से १०० रुपए...

त्योहारी सीजन में प्याज ‘शतकवीर’! … खुदरा बाजार में ८० से १०० रुपए प्रति किलो पहुंची कीमतें 

• आवक कम होने से थोक बाजार में बिका ५५ से ६० रुपए प्रति किलो   
धीरेंद्र उपाध्याय / मुंबई
त्योहार के सीजन में प्याज की बढ़ती कीमत लोगों की जेब पर भारी पड़ रही है। आवक कम होने से बीते १५ दिन में प्याज तीन गुना महंगी हुई है। व्यापारियों के मुताबिक, प्याज थोक में ५५-६० में बेचा जा रहा है। इसी तरह मुंबई, ठाणे, नई मुंबई और आस-पास के शहरों में स्थित खुदरा बाजारों में यह ८० से १०० रुपए प्रति किलो तक बिक रहा है।  तीन दिन पहले थोक बाजार में प्याज ४० से ५० रुपए प्रति किलो और खुदरा बाजार में यह ७० से ७५ रुपए प्रति किलो बिक रहा था। वहीं मंगलवार को थोक बाजार में प्याज की कीमत ५५ से ६० रुपए और खुदरा बाजार में ८० से १०० रुपए प्रति किलो तक पहुंच गई। सूत्रों के मुताबिक, वाशी कृषि उपज बाजार समिति में कल १६६ गाड़ियां प्याज की आवक हुई है।
१५-२० फीसदी घटी प्याज की आवक
वहीं लासलगांव कृषि बाजार के संचालक चाबुराव जाधव के मुताबिक, यहां आवक १५-२० फीसदी कम है, लेकिन प्याज की कीमत ४५-४८ रुपए ही है। वहीं अब ग्राहकाें को १०० रुपए प्रति किलो बिक रहा है। सरकार को इसकी जांच कर मुनाफाखोरों पर नकेल कसनी चाहिए। असामान्य मानसून की वजह से नासिक और नागपुर में बारिश की कमी के कारण खरीफ प्याज की फसल में देरी हुई है।

दीवाली पर मुंह मीठा करना हुआ महंगा
बढ़ती महंगाई से दीपावली पर इस बार मुंह मीठा कराना लोगों के लिए जरा मुश्किल होगा। मुंह मीठा ही नहीं, नमकीन कराने को भी जेब ज्यादा ढीली करनी होगी। दरअसल, बाजार में साधारण मिठाइयों के दाम भी आसमान छू रहे हैं। मिठाइयों के दामों में करीब १५० से २५० रुपए प्रति किलो तक का इजाफा हुआ है। मिठाई के दाम इसलिए बढ़ गए हैं, क्योंकि, देसी घी और दूध,चीनी के दामों में वृद्धि हुई है। मिठाई की दुकानों में काजू की बर्फी ८००-१,००० रुपए किलो से लेकर १,५०० तक बिक रही है। वहीं, मिक्स फ्रूट बाइट भी ९०० से १००० रुपए किलो, मैंगो बाइट, खजूर बाइट और खरबूजा काजू मिठाइयां ९५० से १,००० रुपए किलो बिक रही हैं। नमकीन के शौकीनों को भी दीपावली पर थोड़ा ज्यादा खर्च करना होगा। शहर में नमकीन के भाव में २० से ५० रुपये प्रति किलो की वृद्धि होने से नमकीन अब १६०-१८० रुपए से ३०० से ३५० किलो के भाव में मिल रही है। तेल-मसाला व अन्य सामग्री महंगी होने के चलते नमकीन के भाव में भी बढ़ोतरी हुई है।

अन्य समाचार

कुदरत

घरौंदा