मुख्यपृष्ठनए समाचारप्याज दे रहा था आंसू अब टमाटर ने फिर किया लाल

प्याज दे रहा था आंसू अब टमाटर ने फिर किया लाल

धीरेंद्र उपाध्याय / मुंबई

आवक हुई कम आसमान पर पहुंची कीमत

दिवाली के बाद अक्सर देखा गया है कि टमाटर की कीमत १० से २० रुपए किलो तक पहुंच जाती है, लेकिन इस साल बारिश के कारण स्थानीय टमाटर उत्पादकों की फसल खराब हो गई। ऐसे में मुंबई और उसके आसपास के क्षेत्रों में टमाटर की खपत को पूरा करने के लिए महाराष्ट्र समेत आंध्र प्रदेश और कर्नाटक से इसका आयात किया जा रहा है। फिर भी आलम यह है कि आपूर्ति की तुलना में आवक कम होने से टमाटर ५० से ६० रुपए किलो में बिक रहा है। शहर में आसमान पर पहुंची कीमत से टमाटर फिर से लाल हो गया है। इसी तरह जनता को प्याज पहले से रुला रहा है और इसे विक्रेता ६० से ७० रुपए किलो बेच रहे हैं।
उल्लेखनीय है कि हर साल नवंबर के महीने में मुंबई समेत आसपास के क्षेत्रों में महाराष्ट्र के विभिन्न जिलों से टमाटर का आयात होता है। अमूमन अक्सर ऐसा देखा जाता रहा है कि इस समय टमाटर का बड़ी तादाद में उत्पादन किया जाता है, जिस कारण टमाटर की कीमतें बहुत कम रहती हैं। ऐसी स्थिति में किसान टमाटर को खेत से तोड़कर बाजार में बिक्री के लिए लाने में लगनेवाली परिवहन लागत भी वहन नहीं कर पाते हैं। कीमत गिरी रहती है कि किसान अक्सर सर्दियों में टमाटर सड़क पर ही फेंक देते हैं। इस वर्ष ऐसा नहीं है, क्योंकि भारी बारिश के कारण टमाटर को नुकसान हुआ है, जिस कारण आपूर्ति की तुलना में आवक कम है। वर्तमान में टमाटर संगमनेर, आंध्र प्रदेश के मदनपल्ली और बंगलुरु से लाया जा रहा है। थोक बाजार में गुणवत्ता के आधार पर प्रति किलोग्राम कीमत २५ से ३५ रुपए है। इसी तरह खुदरा मूल्य पर ५० से ६० रुपए तक बिक रहा है। इसके उलट सब्जियों के दाम कम हैं, जिसमें फूल गोभी ३०, पत्ता गोभी २० और बैंगन १० रुपए प्रति किलो बिक रहा है।
डेढ़ महीने से प्याज के दाम स्थिर
एपीएमसी के संजय पानसरे के मुताबिक, दक्षिण भारत, छत्रपति संभाजीनगर, नगर, सोलापुर, नासिक से रोजाना कई ट्रक आते हैं। गुजरात से सफेद प्याज के ट्रक भी बिक्री के लिए आ रहे हैं। गुणवत्ता के आधार पर थोक बाजार में लाल प्याज की कीमत ४० से ५० रुपए और सफेद प्याज की कीमत ५० से ६० रुपए प्रति किलोग्राम है। ये दरें पिछले डेढ़ महीने से स्थिर हैं, जो दरें बीच में ६० से ७० रुपए प्रति किलो तक पहुंच गई थीं, उनमें अब गिरावट आई है।

आवक बढ़ने पर घटेंगी कीमतें
विक्रेता हरिश्चंद्र गुप्ता ने कहा कि नए प्याज की कीमत २५ से ४५ रुपए है और पुराने प्याज की कीमत कम है। पुराने प्याज की मांग कम है। पुराने प्याज के कारण कीमत वृद्धि नियंत्रण में है। साथ ही नए प्याज की कीमत बढ़ने नहीं दी जा रही है। जिस प्याज की कीमतें बीच में बढ़कर ६० से ७० रुपए तक पहुंच गई थीं, अब वह घटकर ४० से ५० रुपए पर आ गई हैं। उन्होंने कहा कि राज्य के अन्य हिस्सों से प्याज की आवक बढ़ने के बाद ही कीमतें कम होंगी।

 

अन्य समाचार