मुख्यपृष्ठनए समाचारविपक्षी नेताओं का दावा मोदी सरकार का चुनावी खेला, दबाव में लिया...

विपक्षी नेताओं का दावा मोदी सरकार का चुनावी खेला, दबाव में लिया गया डब्ल्यूएफआई को निलंबित करने का फैसला

सामना संवाददाता / नई दिल्ली

रविवार २४ दिसंबर को मोदी सरकार के खेल मंत्रालय द्वारा भारतीय कुश्ती महासंघ (डब्ल्यूएफआई) को अगले आदेश तक निलंबित कर दिया गया। क्योंकि इस संस्था ने उचित प्रकिया का पालन नहीं किया और पहलवानों को तैयारी के लिए पर्याप्त समय दिए बिना अंडर-१५ और अंडर-२० राष्ट्रीय चैंपियनशिप के आयोजन की ‘जल्दबाजी में घोषणा’ की थी। भले ही मोदी सरकार के इस पैâसले को पहलवानों की जीत बताया जा रहा हो, लेकिन विपक्ष की मानें तो उनका कहना है कि भारतीय कुश्ती महासंघ को निलंबित कर मोदी सरकार लोकसभा २०२४ के लिए एक बड़ा दाव खेल गए हैं। बता दें कि कांग्रेस नेता रंजीत रंजन ने संजय सिंह के चुनाव पर सवाल उठाया। उन्होंने कहा कि जब सिंह को पूर्व डब्ल्यूएफआई प्रमुख का ‘दाहिना हाथ’ माना जाता था, जिनके खिलाफ पहलवानों ने यौन उत्पीड़न की शिकायतें की थीं तो वैâसे चुनाव लड़ने दिया गया। हालांकि, दूसरी तरफ बीजेपी को जाट वोटरों की भी चिंता बीजेपी को थी।

अन्य समाचार