मुख्यपृष्ठसमाचारसवाल हमारे, जवाब आपके?

सवाल हमारे, जवाब आपके?

कट्टरपंथी मुसलमानों के जिहाद की बात पूरी दुनिया के सामने उजागर हो गई है। वो हिंदुओं पर हमले और मंदिरों के सामने आए दिन हंगामा कर रहे हैं। हाल ही में ब्रिटेन में हिंदुओं पर हमला हुआ था। अब फिर मंदिर के सामने हंगामे की खबर आई है। मुसलमानों की इस हरकत की निंदा पूरे विश्व में हो रही है।

• संज्ञान लेने में असमर्थ मोदी सरकार
पूरा विश्व इस्लामिक आतंकवाद से पीड़ित है। कट्टरपंथी मुसलमान ज्यादातर हिंदुओं और मंदिरों को अपना निशाना बना रहे हैं, जिसकी विश्व पटल पर निंदा भी हो रही है लेकिन खुद को हिंदुओं का हितैषी बतानेवाली केंद्र की मोदी सरकार इस पर गंभीर संज्ञान क्यों नहीं लेती।? यह सोचनीय विषय है।
-राज पाटील, भायंदर

• सरकार को आगे आना होगा
कट्टरपंथी जिहादी मुसलमान ऐसी घटनाओं को अंजाम देते हैं, जिनसे हिंदुओं का नुकसान और उनकी भावना दोनों आहत होती है। ब्रिटेन जैसी घटना अन्य मुल्कों में भी हुई है, इससे निपटने के लिए विश्व के सभी देशों को एक मंच पर आना होगा। हमारे देश की केंद्र सरकार को मुख्य भूमिका निभानी चाहिए।
-सतीश सिंह, भायंदर

• अंकुश लगाना जरूरी है
आतंकवाद का कोई धर्म नहीं होता। इनको हिंदू धर्मस्थल पसंद नहीं हैं। सारी दुनिया में इस कौम को शक की नजरों से देखा जाता है। अब एकत्र होकर इनकी हरकतों पर अंकुश लगाना जरूरी है।
-नंदा श्रीवास्तव, कल्याण

• केंद्र सरकार से कुछ नहीं हो सकता
जापान और कई देशों ने इस कौम पर सख्त क़ानून बनाए हुए हैं। नमाज के बाद भड़काऊ भाषण देना रोज की बात है। लंदन में तो इस कौम ने मंदिर पर हमला कर अपनी औकात बता दी है। मोदी सरकार कुछ एक्शन ले या फिर अपनी असमर्थता जाहिर करे। केंद्र में बैठी मोदी सरकार से कुछ नहीं हो सकता है।
-अशोक मास्टर, वडाला

• सामाजिक बहिष्कार किया जाए
अब समय आ गया है कि धर्म के नाम पर दहशत पैâलानेवालों को सबक सिखाया जाए और इस कौम का सामाजिक बहिष्कार किया जाए।
-बरखा सिंह, डोंबिवली

• लगाम लगाने की जरूरत है
समाज और देश दुनिया के लिए कट्टरपंथी मुसलमान एक नासूर बन गए हैं। हर जगह हिंदू खतरे में हैं। हिंदुस्थान के साथ-साथ यूके, कनाडा, बांग्लादेश, पाकिस्तान जैसे कई अन्य देशों के कट्टरपंथी मंदिरों और हिंदुओं को अपना निशाना बनाने लगे हैं। उन पर अंकुश लगा पाने में सभी सरकारें असमर्थ साबित हो रही हैं। समाज की शांति के भस्मासुर बने कट्टरपंथियों पर जल्द से जल्द लगाम लगाने की आवश्यकता है।
-कौशल त्रिपाठी, दिवा, ठाणे

आज का सवाल?
देश में हेट स्पीच के कारण नफरत का वातावरण बढ़ रहा है। अब तो सुप्रीम कोर्ट ने भी मोदी सरकार को इस मामले में फटकारा है। आखिर केंद्र सरकार इस मामले में निष्क्रिय क्यों?
आप क्या सोचते हैं? तुरंत लिखकर भेजें या
मोबाइल नं. ९३२४१७६७६९ पर व्हॉट्सऐप करें।

अन्य समाचार