मुख्यपृष्ठसमाचारसवाल हमारे, जवाब आपके?

सवाल हमारे, जवाब आपके?

केंद्र सरकार ने वाहवाही लूटने के लिए गांधी नगर और मुंबई सेंट्रल के बीच ‘वंदे भारत’ ट्रेन चलाई है लेकिन पटरियों के बगल में सुरक्षा दीवार का इंतजाम नहीं किया। ‘वंदे भारत’ की रफ्तार के आगे आकर मवेशी मारे जा रहे हैं।

• यात्री सुरक्षा पर ध्यान दे केंद्र
ग्रामीण क्षेत्रों से होकर गुजरनेवाली पटरियों के आस-पास सुरक्षा दीवार होना जरूरी है। बात सिर्फ ‘वंदे भारत’ ट्रेन की नहीं, बल्कि यात्रियों की सुरक्षा की है। केंद्र को ध्यान देना ही होगा। लापरवाही बर्दाश्त नहीं होगी।
-सुमित श्रीवास्तव, बस्ती (यूपी)

• सेफ्टी पर ध्यान दे रेलवे
रेल विभाग की सुस्ती बढ़ती जा रही है। जब करोड़ों रुपए खर्च कर वंदे भारत जैसी ट्रेन शुरू की जाती है तो सुरक्षा दीवार पर कुछ खर्च क्यों मंजूर नहीं किया जाता? रेलवे को सेफ्टी पर ध्यान देना होगा।
-रोहित शुक्ला, अंबरनाथ

•हाई स्पीड से काम नहीं चलेगा
देश की आधी से ज्यादा मेल-एक्सप्रेस गाड़ियां ऐसी जगह से होकर गुजरती हैं, जहां मवेशियों का आवागमन रहता है। रेल विभाग इस तरफ ध्यान क्यों नहीं देता। यह जांच का विषय है। हाई स्पीड दौड़ाने से काम नहीं चलेगा। सुरक्षा पर भी ध्यान देना होगा।
-रवि वसीटा, डोंबिवली

• राजधानी रूट पर हुई यही समस्या
बात वंदे भारत ट्रेन की ही नहीं है, राजधानी एक्सप्रेस के मार्ग पर भी यही हालत है। सुरक्षा दीवार न होने से मवेशियों सहित नागरिकों की जान भी खतरे में पड़ जाती है। रेल विभाग को ध्यान देना चाहिए।
-मंशा श्रीवास्तव, प्रसादपुर (यूपी)

• असुरक्षित महसूस कर रहे यात्री
उचित सुरक्षा के बिना किसी भी सुविधा का महत्व नहीं रहता। वंदे भारत ट्रेन हर तरह की सुविधाओं से लैस है। भैंसों के एक झुंड से वंदे भारत ट्रेन के टकराने की खबर सुनकर यात्रियों में एक असुरक्षा की भावना पैठ कर गई है। मोदी सरकार को सबसे पहले सुरक्षा पर ध्यान देना चाहिए।
-दिनेश शुक्ला, ठाणे

•सुरक्षा दीवार पर ध्यान दे रेलवे
वंदे भारत ट्रेन में यात्रा करनेवाले यात्रियों में असुरक्षा को लेकर भय का माहौल पैदा हो गया है। केंद्र सरकार को सबसे पहले रेलवे पटरियों के बगल में सुरक्षा दीवार बनाने पर विशेष ध्यान देना चाहिए। अन्यथा भविष्य में बड़ी दुर्घटना होने की संभावना से इनकार नहीं किया जा सकता।
-डॉ. ज्ञानेश टिपरे, नालासोपारा

•यह रेलवे की लापरवाही रहे
हाई स्पीड ट्रेनों को बिना सुरक्षा दीवार के पटरियों पर उतारना रेल प्रशासन की लापरवाही को उजागर करता है। भविष्य में ऐसी कोई दुर्घटना न घटे, इस पर रेल प्रशासन को पूरा ध्यान देना होगा।
-मोहम्मद मंजूर, नालासोपारा

आज का सवाल?
भाजपा सत्ता काबिज करने के लिए साम, दाम, दंड, भेद की नीति अपना रही है। अब जनता को लुभाने के लिए ‘ईडी’ सरकार ‘दिवाली किट’ के नाम पर १०० रुपए में दाल, चीनी, सूजी और तेल का लालच देने जा रही है, जिसमें ‘बंपर करप्शन’ होने की बात सामने आई है।
आप क्या सोचते हैं? तुरंत लिखकर भेजें या मोबाइल नं. ९३२४१७६७६९ पर व्हॉट्सऐप करें।

अन्य समाचार