मुख्यपृष्ठनमस्ते सामनासवाल हमारे... जवाब आपके!

सवाल हमारे… जवाब आपके!

इस साल केंद्र  सरकार ने गेहूं के लिए ‘ओपन मार्केट  सेल स्कीम’ की घोषणा नहीं की, जिसका असर बेकरी प्रोडक्ट पर पड़ा है। कंपनियों  कोे ब्रेड की कीमतों में ५ रुपए बढ़ाने पड़े और यह महंगा हो गया। जनवरी के बाद इस साल दूसरी बार ब्रेड की कीमतें बढ़ी हैं।

निराश किया है
ओपन मार्केट  सेल स्कीम की घोषणा न करने से भले ही सरकार को फायदा दिख रहा हो, लेकिन आम व्यक्ति जो पाव और ब्रेड खाकर दिन निकालता है, उसे बढ़ी हुई कीमतों ने निराश किया है। केंद्र  को अपनी नीतियां लागू करने से पहले समुचित विचार करना चाहिए।
-रेणुका श्रीवास्तव, कल्याण

मध्यम वर्ग पर असर
स्कीम की घोषणा न होने से बेकरी प्रोडक्ट बनाने वालों को कोई फर्क  नहीं पड़नेवाला क्योंकि वे तो कीमतें बढ़ाकर अपनी जेबें भर ही लेंगे। असर तो हर हाल में मध्यम वर्ग पर ही पड़ेगा। केंद्र को इस बारे में सोचना चाहिए।
-अशोक सिंह, अंबरनाथ

भूखा मरेगा गरीब
केंद्र  की गलत नीतियों के कारण व्यावसायियों ने बेकरी उत्पाद की कीमतें बढ़ा दी हैं। इस कारण गरीबों की आर्थिक स्थिति और बिगड़ेगी। काफी लोग बेकरी उत्पाद पर आश्रित हैं। उनकी हालत खराब होगी।
-एन. सी. तिवारी, उल्हासनगर

आम नागरिक परेशान
केंद्र सरकार भले ही आम लोगों को फायदा पहुंचाने का दावा कर रही हो लेकिन गेहूं से बननेवाले खाने-पीने के सामान पाव, ब्रेड, खारी के दाम महंगे होने से आम नागरिक परेशान है।
-दीपक बोरा, नालासोपारा

गरीब प्रभावित होंगे
बेकरी प्रोडक्ट महंगे हो गए, जिससे वे गरीब लोग प्रभावित होंगे, जिनके दिन की शुरुआत पाव व ब्रेड से होती है। केंद्र  सरकार को तुरंत ध्यान देना चाहिए।
-सूर्यकांत उपाध्याय, दहिसर

महंगाई का बोझ बढ़ा
गेहूं के ओपन मार्केट  सेल स्कीम न करने से रेट में बढ़ोतरी हुई है। ब्रेड, बिस्किट, पाव या केक की कीमतों में बढ़ोतरी होने से आम जनता के ऊपर महंगाई का बोझ बढ़ा है। केंद्र  सरकार ने ऐसा क्यों किया यह तो पता नहीं लेकिन आम जनता को ज्यादा पैसे देकर ब्रेड और बिस्किट खरीदने पड़ रहे हैं, ये तो साफ दिखाई दे रहा है।
-अरविंद तिवारी, विरार

खामियाजा भुगतना पड़ेगा
केंद्र सरकार की गलत नीतियों का खामियाजा एक बार फिर आम आदमी को भुगतना पड़ेगा। ब्रेड और पाव की कीमत बढ़ने से गरीब जनता, जिनका जीवन ब्रेड और वड़ापाव खाकर चलता है, उनका क्या होगा? केंद्र सरकार को एक बार अवश्य ही इस मुद्दे पर सोचना चाहिए।
-राजकुमार शुक्ला, नालासोपारा

अन्य समाचार