मुख्यपृष्ठनमस्ते सामनासवाल हमारे...जवाब आपके!

सवाल हमारे…जवाब आपके!

केंद्र सरकार तमाम सामान को जीएसटी के दायरे में लाकर देश के नागरिकों पर महंगाई का बोझ बढ़ाने में लगी है। दूसरी तरफ विदेशी पर्यटकों के लिए जीएसटी रिफंड  की योजना बना रही है, जिसके तहत हिंदुस्थान में शॉपिंग के दौरान उनसे ली गई जीएसटी बाद में उन्हें क्लेम के जरिए वापस मिल जाएगी। आखिर ये भेदभाव क्यों?

  • हिंदुस्थान बनेगा विदेश!
    भाजपा सरकार हिंदुस्थान को विदेश बनाने की सोच रखते हुए हर सामान पर टैक्स लगा रही है। भाजपा ऐसा कुछ करना चाह रही है कि गरीब और गरीब हो जाए। विदेशी पर्यटकों को शॉपिंग के दौरान जीएसटी वापस करेगी, वहीं स्वदेशियों से जीएसटी लिया जा रहा है। इसे विडंबना ही कहेंगे न!
    -राजन आंबवने, उल्हासनगर
  •  अपनों पर सितम…
    देशवासियों पर जीएसटी का सोंटा और विदेशियों को जीएसटी की वापसी। यह तो `अपनों पर सितम-गैरों पर रहम’ वाली कहावत हो गई। केंद्र सरकार की गैर जिम्मेदाराना नीतियों की वजह से देश की जनता महंगाई, बेरोजगारी से जनता त्रस्त हो गई है।
    -प्रकाश पाटील, भायंदर
  • दोमुंहा रवैया
    केंद्र सरकार एक तरफ सभी सामान पर जीएसटी लगा रही है, वहीं विदेशी पर्यटकों द्वारा सामान खरीदने पर लगे जीएसटी को वापस करेगी। सरकार का यह दोमुंहा रवैया बहुत ही निंदनीय है। विदेशी पर्यटकों की तरह हिंदुस्थानी नागरिकों से ली जा रही जीएसटी भी कम करना चाहिए।
    -इनामुलहक (पप्पू खान), नालासोपारा
  • परेशान जनता
    देश में भाजपा ने गरीब आदमी, छोटे राजनीतिक दल को खत्म करने का बीड़ा उठाया है। हिंदुस्थान की जनता तमाम तरह के टैक्स भरने में परेशान है। जीएसटी तो ऐसा भूत (पिशाच) साबित हो रहा है, जो केवल सत्ताधारी नेता को छोड़ सभी को खाने में लगा है।
    -शैलेश बड़नेरे, बदलापुर
  • धोखेबाज सरकार
    केंद्र सरकार में बैठी मोदी सरकार ने केंद्र में सत्ता स्थापित करने के पहले गरीबी दूर करने का वादा किया। सत्ता में आने के बाद सरकार गरीबों पर महंगाई का बोझ डाल रही है। केंद्र सरकार को धोखेबाज कहना गलत नहीं होगा।
    -किशोर साबले, ठाणे
  • बिल्कुल गलत है
    देश में महंगाई को कम करने के लिए केंद्र सरकार को आवश्यक कदम उठाना होता है। लेकिन केंद्र सरकार महंगाई बढ़ाने का काम कर रही है। इतनी महंगाई में जीएसटी का बोझ आम जनता पर डालना बिल्कुल गलत है।
    -ऋषिकेश धादवड़, ठाणे
    आज का सवाल?
    रात ११.१३ मिनट की दादर से चर्चगेट-विरार सामान्य लोकल के बाद एक एसी लोकल है। उसके बाद ११.५४ की विरार साधारण लोकल है। इस बीच नायगांव, वसई, विरार के रहने वाले यात्रियों को सेकेंड शिफ्ट की ड्यूटी कर लौटने में दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। रेलवे के इस अनियोजित टाइम टेबल पर आप क्या सोचते हैं? तुरंत लिखकर भेजें या मोबाइल नं. ९३२४१७६७६९ पर व्हॉट्सऐप करें।

अन्य समाचार