मुख्यपृष्ठनमस्ते सामनासवाल हमारे... जवाब आपके!

सवाल हमारे… जवाब आपके!

चीन जिस तरह से पूरी दुनिया में अपना दबदबा कायम करना चाहता है। उसी तरह वह अंतरिक्ष में भी अपनी हेकड़ी दिखा रहा है। हाल ही में उसका एक रॉकेट अनियंत्रित होकर हिंदुस्थान के हिंद महासागर में गिरा। यदि यही चीनी रॉकेट हिंदुस्थान के किसी निवासी इलाके में गिरा होता तो काफी जनहानि हुई होती। चीन की इस हेकड़ी पर आप क्या कहेंगे?

  • जवाब दे हिंदुस्थान
    चीन की दबंगई इस कदर बढ़ गई है कि वह किसी भी मर्यादा को पार कर रहा है। जैसे विगत दिनों चीन का एक रॉकेट हिंदमहासागर में गिरा। यह रॉकेट यदि कहीं बस्ती में गिरा होता तो भारी मात्रा में जनहानि होती।
    -सुभाष तिवारी, उल्हासनगर
  • केंद्र  की चुप्पी?
    आखिरकार केंद्र चीन को ठोस जवाब क्यों नहीं दे रहा है यह खोज का विषय है? हिंदुस्थान की चुप्पी को चीन अपनी जीत मानकर चल रहा है। ऐसे में चीन को सबक सीखना ही होगा। यही वक्त की मांग भी है।
    -रेणुका श्रीवास्तव, कल्याण
  • सबक सिखाएं
    चीन अपनी हरकतों से बाज नहीं आ रहा है। हिंदुस्थान का एक बड़ा भूखंड आज भी चीन हथियाकर बैठा हुआ है। केंद्र  को अब बातों से नहीं बल्कि कड़े कदम उठाकर सबक सिखाने की रणनीति अपनानी होगी।
    -जुगल किशोर, डोंबिवली
  • केंद्र  की नीति कमजोर
    चीन की हेकड़ी निकालने में केंद्र सरकार की विदेश नीति कहीं न कहीं कमजोर साबित हो रही है। केंद्र  को इस रॉकेट वाली बात को गंभीरता से लेना होगा। वरना किसी दिन निर्दाेष नागरिकों की बड़े पैमाने पर मौत हो सकती है।
    -करण सिंह, अंबरनाथ
  • सतर्कता की जरूरत
    चीन की विस्तारवादी नीति पूरी दुनिया में उजागर हो गई है। इससे खतरा चीन के सभी पड़ोसी देशों सहित हिंदुस्थान को ज्यादा है। इस पर विश्वस्तरीय ठोस कदम उठाने और खास कर हिंदुस्थान को अत्यधिक सतर्क रहने की जरूरत है।
    -अवनीश चंद्र मिश्र, पटना
  • जैसे को तैसा
    यदि हिंदुस्थान का कोई रॉकेट चीन की सीमा में गिरता तो चीन उसके लिए हिंदुस्थान को बदनाम करता या फिर मुआवजे की मांग करता। उसी प्रकार हिंदुस्थान को भी अंतरराष्ट्रीय स्तर पर चीन को बदनाम करना चाहिए या फिर मुआवजे की मांग करनी चाहिए। जैसे को तैसावाला रुख अख्तियार करने की जरूरत है।
    -दीपा साबले, ठाणे
  •  आज का सवाल?
    केंद्र  और गुजरात दोनों जगह भाजपा का शासन है। गुजरात में शराबबंदी के बावजूद जहरीली शराब पीने से आए दिन लोगों की मौत रही है। साथ ही करोड़ों रुपयों की ड्रग्स पकड़ी जा रही है। इसके बावजूद मोदी सरकार चुप्पी साधे बैठी है। आप क्या सोचते हैं? तुरंत लिखकर भेजें या मोबाइल नं. ९३२४१७६७६९ पर व्हॉट्सऐप करें।

 

अन्य समाचार