मुख्यपृष्ठनमस्ते सामनासवाल हमारे : जवाब आपके!

सवाल हमारे : जवाब आपके!

देश की आर्थिक राजधानी मुंबई की आबोहवा बिगड़ती जा रही है। बढ़ते प्रदूषण ने मुंबईकरों की चिंता बढ़ा दी है। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) की रिपोर्ट में प्रदूषण के मामले में वैश्विक स्तर के शहरों की सूची में मुंबई पांचवें स्थान पर है। अब देखना होगा कि प्रदूषण के बिगड़ते हालात से शिंदे-फडणवीस सरकार कैसे निपटती है?

  • पर्यावरण संवर्धन की जरूरत
    मुंबई प्रदूषण के मामले में वैश्विक स्तर पर पांचवें स्थान पर पहुंच गई है। विश्व स्वास्थ्य संगठन की यह रिपोर्ट बहुत ही चिंताजनक है। शिंदे-फडणवीस की ईडी सरकार को तो सर्वप्रथम आरे के जंगलों की सुरक्षा पर ध्यान देना चाहिए। साथ ही शहर में प्रदूषण को कैसे कम किया जा सके उसके लिए प्रभावी कदम उठाने चाहिए। पर्यावरण का संवर्धन करना चाहिए।
    डॉ. संत कुमार झा, जोगेश्वरी
  • आरे कॉलोनी को बचाना होगा।
    सरकार की देखरेख में जब तक मुंबई में आरे कॉलोनी जैसे क्षेत्र से पेड़ों का विनाश होता रहेगा। तब तक प्रदूषण को रोकना इतना आसान नहीं रहेगा। पेड़ को बचाकर ही पर्यावरण से प्रदूषण पर नियंत्रण किया जा सकता है।
    डॉक्टर एस. बी.सिंह, उल्हासनगर
  • प्रदूषण पर हो सरकारी नियंत्रण
    पेडों के बचने पर ही प्रदूषण पर नियंत्रण रह सकता है। आरे कॉलोनी के पेड़ों को नष्ट करने से मुंबई में और प्रदूषण बढ़ेगा, जबकि कई सेवा संस्थानों द्वारा बड़े पैमानों पर पर्यावरण को लेकर पेड़ लगाए जाते हैं। देखना है कि मौजूदा राज्य सरकार किस रूप से पर्यावरण से प्रदूषण पर नियंत्रण करेगी ।
    अनिल मिश्र , मुंबई
  • चिंताजनक है डब्ल्यूएचओ की रिपोर्ट
    विश्व स्वास्थ्य संगठन का मुंबई के बारे में दी गई रिपोर्ट चिंताजनक है। वर्तमान राज्य सरकार को बढ़ते प्रदूषण को नियंत्रण करने के उपाय करना चाहिए तथा शहर के आस पास लगे घने जंगलों की सुरक्षा पर भी ज्यादा ध्यान देना चाहिए।
    किरण सिंह, काशीमीरा
  • ईडी सरकार की नीयत में खोट
    प्रदूषण को कम करने के लिए समय-समय पर कई संस्थाओं और वन विभाग द्वारा बड़े पैमाने पर पेड़ लगाए जाते हैं, ताकि पर्यावरण सुरक्षित रहे लेकिन मौजूदा ईडी सरकार की नीयत में खोट है। सरकार आरे कॉलोनी में लगे पेड़ों को नष्ट करने जा रही है। जिससे मुंबई शहर में हो रहे प्रदूषण को कम किया जा सके।
    इस्तेकार खान, नालासोपारा (संतोष भवन)
  • जनता को जागरूक होना चाहिए
    वायु प्रदूषण और ध्वनि प्रदूषण दोनों ही मामलों में आम जनता को जागरूक होना जरूरी है और इस बारे में जनजागृति करना सरकार का काम है, वरना दिन काफी बुरे आने वाले हैं।
    अरविंद मिश्रा, कल्याण
  • ज्यादा से ज्यादा पेड़ लगाएं
    ज्यादा से ज्यादा ऐसे पेड़ लगाने चाहिए जो कि प्राणवायु प्रदान करें, साथ ही ध्वनि प्रदूषण कम करने के लिए कर्कश ध्वनिवाले हॉर्न पूरी तरह से बंद करने चाहिए। ये दोनों कार्य राज्य सरकार कर सकती है।
    प्रदीप गुप्ता, डोंबिवली

आज का सवाल?
रायगढ़ के हरिहरेश्वर में हथियारों के साथ बोट का मिलना और देश की आर्थिक राजधानी मुंबई को फिर से दहलाने का मुंबई की ट्रैफिक पुलिस को एक व्हॉट्सऐप मैसेज मिला है, जिसमें २६/११ जैसे हमले की धमकी दी गई है। यह मैसेज पाकिस्तान से आया है। पाक के इस नापाक हरकत पर केंद्र  को तुरंत कड़ा जवाब देना चाहिए।
आप क्या सोचते हैं? तुरंत लिखकर भेजें या मोबाइल नं. ९३२४१७६७६९ पर व्हॉट्सऐप करें।

अन्य समाचार