मुख्यपृष्ठनमस्ते सामनासवाल हमारे... जवाब आपके!

सवाल हमारे… जवाब आपके!

रायगढ़ के हरिहरेश्वर में हथियारों के साथ बोट का मिलना और देश की आर्थिक राजधानी मुंबई को फिर से दहलाने का मुंबई की ट्रैफिक पुलिस को एक व्हॉट्सऐप मैसेज मिला है, जिसमें २६/११ जैसे हमले की धमकी दी गई है। यह मैसेज पाकिस्तान से आया है। पाक के इस नापाक हरकत पर केंद्र को तुरंत कड़ा जवाब देना चाहिए।

  • करारा जवाब देना चाहिए
    हिंदुस्थान एक शांतप्रिय देश है। यहां के लोग पाकिस्तान की तरह खून-खराबे में विश्वास नहीं रखते। यही कारण है कि हिंदुस्थान विकसित देशों की दौड़ में है और पाकिस्तान भुखमरी के कगार पर है। उनके देश मे गृहयुद्ध जैसी स्थिति निर्माण हो गई है। हिंदुस्थान सरकार को धमकियों का करारा जवाब देना चाहिए।
    -सुभाष सिंह, उल्हासनगर
  •  किसी बड़ी साजिश का संकेत
    पाकिस्तान शुरू से हिंदुस्थान में आतंकवादी गतिविधियों में संलिप्त रहा है। मुंबई से सटे रायगढ़ जिले में हथियारों से भरी बोट का मिलना, मुंबई ट्रैफिक पुलिस को २६/११ की पुनरावृत्ति करने की धमकी देना, किसी बड़ी साजिश की ओर संकेत देता है। इसे गंभीरता से लेकर केंद्र  सरकार को कठोर निर्णय लेना चाहिए और पाकिस्तान को मुंहतोड़ जवाब देना चाहिए।
    – मो. उमर कपूर, मीरा रोड
  • कड़ा रुख अपनाए केंद्र 
    केंद्र  सरकार को इस मामले में कड़ा रुख अपनाना होगा। इस साजिश का जवाब देना ही होगा। २६/११ के बाद इस तरह की घटना की पुनरावृत्ति की धमकी का आना गंभीर विषय है, मोदी सरकार को पाकिस्तान को जवाब देना होगा।
    – संजय पांडेय, कल्याण
  • यह मुद्दा काफी संवेदनशील है
    यदि इस विषय पर केंद्र सरकार चुप रहती है तो गलत संदेश जाएगा। यह मुद्दा काफी संवेदनशील है। मामले की तहकीकात जरूरी है।
    -रोहित शुक्ला, कल्याण
  • पाकिस्तान कुछ नहीं बिगाड़ पाएगा
    इस मुद्दे पर केंद्र और राज्य सरकार दोनों की गंभीरता जरूरी है। बार-बार हिंदुस्थान को टारगेट कर पाकिस्तान खुद चर्चा में बना रहना चाहता है। पाकिस्तान परस्त भारतीय लोगों को भी ढूंढ़ना होगा। पाकिस्तान जैसे मुट्ठी भर देश की औकात ही क्या है, जो वह हिंदुस्थान का कुछ बिगाड़ सके।
    -माधवी अहिरे, अंबरनाथ
  • यह गीदड़भभकी है
    पाकिस्तान बीच-बीच में ऐसी गीदड़भभकियां देता रहता है। उसकी हैसियत नहीं है कि वह हिंदुस्थान को ललकार कर हमला करे। किंतु  सरकार को इसे गंभीरता से लेना होगा क्योंकि यह सुरक्षा का मामला है।
    -सनी दुबे, वडाला
  • आज का सवाल?
    केंद्र सरकार की नीयत के बारे में अब लोग शंका व्यक्त कर रहे हैं। स्थानीय लोगों के विरोध के बावजूद कोकण में रिफाइनरी लगाने की जिद केंद्र सरकार क्यों कर रही है?
    आप क्या सोचते हैं? तुरंत लिखकर भेजें या मोबाइल नं. ९३२४१७६७६९ पर व्हॉट्सऐप करें।

अन्य समाचार