मुख्यपृष्ठखबरेंसवाल हमारे, जवाब आपके?

सवाल हमारे, जवाब आपके?

आजादी के अमृत महोत्सव के अंतर्गत पीएम नरेंद्र मोदी ने तिरंगे के सम्मान में हर घर तिरंगा फहराने का फरमान तो जारी कर दिया। लेकिन १५ अगस्त के बाद सड़कों पर कचरे के रूप में तिरंगा मिलेगा, वो सम्मान होगा या अपमान और उसका कौन जिम्मेदार होगा?

•  सख्त कानून बने
केंद्र को इस बारे में सख्त कानून बनाने की जरूरत है। तिरंगा का अपमान न हो इसके लिए कुछ बंदोबस्त करना ही होगा। खासकर प्लास्टिक के झंडों को पूरी तरह से प्रतिबंधित करना चाहिए।
-अजीत श्रीवास्तव, कल्याण

• ख्याल रखना होगा
पीएम ने भले ही आजादी के अमृत महोत्सव पर देशवासियों से आह्वान किया है कि १३ से १५ अगस्त तक हर घर तिरंगा फहराएं। लोगों को देश की आन, बान, शान के प्रतीक तिरंगे के बारे में इतना जरूर ख्याल रखना होगा कि उसका अपमान न हो। तिरंगे को कहीं पर भी न फेंके। तिरंगे झंडे के अपमान होने पर दंडित भी हो सकते हैं।
-दीनानाथ भंडारी, शहद

• निजी जायदाद नहीं
तिरंगा का अपमान न हो इसके लिए हर नागरिक को सजग रहना होगा, क्योंकि तिरंगा पीएम मोदी की निजी जायदाद नहीं है। हर नागरिक को इस बात का ध्यान रखना होगा कि तिरंगा का अपमान न हो।
-धन्वी विशाल कांबले, कल्याण

• विशेष ध्यान देने की जरूरत
आजादी के अमृत महोत्सव अभियान के तहत बड़ी संख्या में घरों तथा दुकानों पर झंडा फहराए जाएंगे। अंदेशा है कि बाद में वही झंडे कचरे में फेंक दिए जाएंगे। झंडे का अपमान न हो, इसके लिए स्थानीय निवासियों, सामाजिक संगठनों तथा सरकारी एजेंसियों को इस बात पर विशेष ध्यान देने की आवश्यकता है।
-डॉ. सुशील शुक्ला, दिवा-ठाणे

• निर्णय गलत
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के इस अभियान के चलते तिरंगे का अपमान भी हो सकता है। देशभक्तों को चाहिए कि तिरंगे का अपमान न हो इसके लिए सतर्क रहें। १५ अगस्त के बाद भी झंडा कचरे में न दिखाई दे, इस बारे में भी जनजागृति की जानी चाहिए। सिर्फ हर घर झंडा लगाने का आह्वान किया जा रहा है, यह निर्णय गलत है।
-महेंद्र यादव, उल्हासनगर

• जनजागृति की जरूरत
आजादी के अमृत महोत्सव अभियान के तहत बड़ी संख्या में घरों तथा दुकानों पर झंडा फहराए जाएंगे। ऐसे में सड़कों, दुकानों या घरों के बाहर झंडे गिरे हुए मिल सकते हैं। झंडों को सही जगह लगाया जा सके, उसका अपमान न हो इसके लिए भी प्रशासन को नागरिकों में जनजागृति करने की जरूरत है।
-दीपक दुबे, दिवा

आज का सवाल?
केंद्र की सरकार आजादी का महोत्सव मनाने में मगन है। उधर पाकिस्तान कश्मीर में आतंकी हमलों को अंजाम दे रहा है। लेकिन मोदी सरकार का ध्यान उस पर नहीं जा रहा है।
आप क्या सोचते हैं? तुरंत लिखकर भेजें या मोबाइल नं. ९३२४१७६७६९ पर व्हॉट्सऐप करें।

अन्य समाचार