मुख्यपृष्ठनए समाचारसवाल हमारे, जवाब आपके?

सवाल हमारे, जवाब आपके?

केंद्र सरकार द्वारा पेश किए जानेवाले वित्त बजट २०२३-२४ से आपको क्या अपेक्षाएं हैं?
 आयकर में मिले छूट
केंद्र सरकार द्वारा पेश किए जानेवाले वित्त बजट २०२३-२४ से देश की जनता उम्मीदें जता रही है कि आयकर में मिलने वाली छूट की सीमा बढ़ सकती है। यदि केंद्र सरकार ऐसा करती है तो मध्यम वर्ग के लोगों को सहूलियत होगी। अगर बजट में सरकार इस पर पैâसला लेती है, तो टैक्सपेयर्स को बड़ी राहत मिलेगी। आगामी बजट में केंद्र सरकार को इस पर विचार कर बजट पेश करना चाहिए, जिससे राहत मिल सके।
हरिशंकर पांडेय, कल्याण
 आवंटन हो सुनिश्चित
केंद्र सरकार द्वारा पेश किए जानेवाले वित्त बजट २०२३-२४ से देश की जनता को यह उम्मीद है कि केंद्रीय बजट के माध्यम से सरकार जनता की भलाई के लिए कल्याणकारी योजनाओं पर विशेष ध्यान देकर बजट पेश करेगी। ऐसा करने से देश में सार्वजनिक कल्याण को बढ़ावा मिलेगा। केंद्र सरकार को चाहिए कि वह बजट में कल्याणकारी योजनाओं पर विशेष ध्यान दे। तभी देश में रोजगार से लेकर लघु उद्योगों को बढ़ावा मिलेगा।
अंकित कुमार, ठाणे
 बेरोजगारी कम करने वाला हो बजट
केंद्रीय बजट का उद्देश्य गरीबी को खत्म करना और अधिक से अधिक रोजगार का सृजन करना होना चाहिए। केंद्रीय बजट के माध्यम से सरकार को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि देश के प्रत्येक नागरिक को उचित स्वास्थ्य और शिक्षा की सुविधाएं मिले। इसके साथ ही सरकार को इस बात का भी ध्यान रखना चाहिए कि देश के नागरिक अपने लिए रोटी, कपड़ा और मकान जैसी बुनियादी जरूरतों को पूरा करने में सक्षम हो, तभी जाकर देश की जनता खुशहाल रहेगी।
रूचि कुमारी, मुंबई
 असमानताएं हों कम
केंद्र सरकार द्वारा पेश किए जानेवाला वित्त बजट २०२३-२४ असमानताएं कम करने वाला होना चाहिए। बजट में सरकार को ये सुनिश्चित करने की कोशिश करनी चाहिए कि अमीर वर्ग पर कर की दर और उनकी डिस्पोजेबल आय एक हद में रहे। दूसरी ओर सरकार को निम्न आय वर्ग के लोगों के लिए करों की दर कम रखने की कोशिश करनी चाहिए ताकि उनके पास अपने खर्चे चलाने के लिए पर्याप्त आमदनी बनी रहे और घर में खुशहाली रहे।
सुनील पंढारे, मुंबई
 कीमतों पर हो नियंत्रण
केंद्र सरकार द्वारा पेश किए जानेवाले वित्त बजट २०२३-२४ में आर्थिक उतार-चढ़ाव को नियंत्रित करने पर विशेष ध्यान देना चाहिए। बजट में इस तरह आर्थिक स्थिरता सुनिश्चित करने से सामानों की कीमतों पर नियंत्रण मिल सकता है। केंद्र सरकार को बजट नीतियों को लागू किए जाने पर विशेष ध्यान देना चाहिए।
रामनाथ यादव, मुलुंड
 कर में हो बदलाव
केंद्रीय बजट में देश के प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष करों में संभावित परिवर्तनों को ध्यान में रखकर बजट पेश करना चाहिए। बजट के माध्यम से आयकर दरों और कर में बदलाव लाने की भी घोषणा होनी चाहिए। केंद्रीय बजट का आर्थिक स्थिति पर व्यापक प्रभाव पड़ता है।
रामअकबाल कुशवाहा, अंबरनाथ
————
आज का सवाल?
आगामी वित्तीय बजट में मुंबई की उपनगरीय रेल के लिए केंद्र सरकार को क्या प्रावधान करने चाहिए?
आप क्या सोचते हैं? तुरंत लिखकर भेजें या मोबाइल नं. ९३२४१७६७६९ पर व्हॉट्सऐप करें।

अन्य समाचार