मुख्यपृष्ठनमस्ते सामनासवाल हमारे...जवाब आपके!

सवाल हमारे…जवाब आपके!

पिछले कुछ दिनों से देश में लव जिहाद के मामले लगातार बढ़ रहे हैं, जिससे समाज में तमाम तरह की बुराइयां पैदा हो रही हैं और द्वेष बढ़ रहा है। इसे रोकने के लिए केंद्र सरकार को तत्काल सख्त कदम उठाना चाहिए। लेकिन केंद्र इससे अनजान बना हुआ है।

अकुंश लगाना जरूरी
लव जिहाद के बढ़ते मामलों में केंद्र को ध्यान देना चाहिए। इस तरह के मामलों से समाज में द्वेष फैलता है। इस पर अंकुश लगाना जरूरी है।
– अशोक श्रीवास्तव, वडाला

सख्त कानून की जरूरत
केंद्र इस मामले में जो उदासीनता दिखा रहा है, वह ठीक नहीं है। ऐसे मामलों के लिए सख्त कानून बनाने की जरूरत है।
– सुनील शुक्ला, डोंबिवली

केंद्र की चुप्पी हैरान करनेवाली
केंद्र की मोदी सरकार की चुप्पी हैरान करनेवाली है। श्रद्धावाले मामले में केंद्र को बयान देना चाहिए मगर कोई भी कदम नहीं उठाया गया, जिससे एक विशेष धर्म को बढ़ावा मिल रहा है।
– अभय पांडेय, कल्याण

प्यार के नाम पर कत्ल बंद हो
देश में लव जिहाद बंदी पर केंद्र सरकार को कठोर कानून बनाने की जरूरत है। ‘श्रद्धा कांड’ यह पहला कांड नहीं है। इस तरह, ‘लव जिहाद’ का शिकार हो रही हैं।
– सूरज मिश्रा, उल्हासनगर

युवतियों को सबक लेने की जरूरत है
श्रद्धा कांड से हिंदू युवतियों को सबक लेने की जरूरत है। प्यार में पागल होकर या झांसे में आकर माता-पिता, भाई-बहन, नाते-रिश्तेदार के प्रेम को भूलकर भाग जाती हैं। प्यार में पागल सिरफिरे इस तरह की घटना को अंजाम दे देते हैं। श्रद्धा के साथ घटी घटना ने देश को झकझोर कर रख दिया है। केंद्र सरकार को मौन रहने की बजाय ‘लव जिहाद’ को रोकने के लिए कठोर कानून बनाने की जरूरत है। इतना ही नहीं इस घटना से युवतियों को सबक लेने की जरूरत है।
– संजीव पाटील, कल्याण

तो सामाजिक तनाव पैदा होगा
‘लव जिहाद’ नासूर की तरह सभ्य समाज में नफरत का बीज बो रहा है। केंद्र की मोदी सरकार को इस पर अंकुश लगाने के लिए सख्त कानून बनाने और उस पर अमल करने की आवश्यकता है, नहीं तो देश की बहू-बेटियों की सुरक्षा के साथ-साथ प्रेम, भाईचारा, शांति भी खतरे में पड़ जाएगी और सांप्रदायिक तनाव निर्माण होगा।
– मनोज उपाध्याय, नालासोपारा

केंद्र विशेष कदम उठाए
लव जिहाद के कई मामले सामने आ रहे हैं। कुछ दिन पहले दिल्ली में महाराष्ट्र की बेटी का बड़ी क्रूरता से कत्ल कर दिया गया। यदि यह लव जिहाद का मामला है तो केंद्र सरकार को लव जिहाद के मामलों को लेकर विशेष कदम उठाने की आवश्यकता है।
दीपा साबले (ठाणे)

आज का सवाल?
महाराष्ट्र के राज्यपाल द्वारा छत्रपति शिवाजी महाराज पर दिए गए बयान की चौतरफा निंदा हो रही है। सिर्फ निंदा ही नहीं, बल्कि अब उन्हें महाराष्ट्र से वापस बुलाने की मांग भी केंद्र सरकार से हो रही है। महाराष्ट्र की जनता की भावनाओं को ध्यान में रखते हुए केंद्र को तत्काल उन्हें वापस बुला लेना चाहिए। आप क्या सोचते हैं? तुरंत लिखकर भेजें या मोबाइल नं. ९३२४१७६७६९ पर व्हॉट्सऐप करें।

अन्य समाचार