मुख्यपृष्ठराजनीतियोगी सरकार में अपराधियों का बोलबाला!... 255 विधायकों में से 111 विधायकों पर...

योगी सरकार में अपराधियों का बोलबाला!… 255 विधायकों में से 111 विधायकों पर है क्रिमिनल केस!

मनोज श्रीवास्तव/लखनऊ। उत्तर प्रदेश इलेक्शन वॉच  एसोसिएशन फ़ॉर डेमोक्रेटिक रिफॉर्म ने विधानसभा चुनाव 2022 में सभी 403 विजेता उम्मीदवारों के शपथ पत्रों का विश्लेषण किया है। विजेता उम्मीदवारों द्वारा घोषित आपराधिक मामलों की बात करे तो 403 में से 205 (51%) विधायकों ने अपने ऊपर आपराधिक मामले घोषित किये हैं। विधानसभा चुनाव 2017 में 402 में से 143 (36%) विधायकाें ने अपने ऊपर आपराधिक मामले घोषित किये थे। 158 (39 %) विजेता उम्मीदवारों ने अपने ऊपर गंभीर आपराधिक मामले घोषित किये हैं। जो उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव 2017 में 402 में से 107 (26%) विधायकों ने अपने ऊपर गंभीर आपराधिक मामले घोषित किये थे।

5 विजेता उम्मीदवारों ने अपने ऊपर हत्या (आईपीसी-302) से संबंधित मामले घोषित किये हैं। 29 विजेता उम्मीदवारों ने अपने ऊपर हत्या का प्रयास (आईपीसी-307) से सम्बंधित मामले, 6 विजेता उम्मीदवारों ने महिलाओं के ऊपर अत्याचार से संबंधित मामले, 6 में से 1 विजेता उम्मीदवार ने अपने ऊपर बलात्कार (आईपीसी-376) से संबंधित मामला घोषित किया हैं।
दलवार भाजपा के 255 में से 111(44 %), समाजवादी पार्टी के111 में से 71(64 %),आरएलडी के 8 में से 7 (88 %), सुहेलदेव भारतीये समाज पार्टी के 6 में से 4 (67 %), निर्बल इंडियन शोषित हमारा अपना दल के 6 में से 4 (67%), अपना दल (सोने लाल ) के 12 में से 3 (25%) जनसत्ता दल लोकतान्त्रिक के 2 (100%) काग्रेस के 2 (100% ) और 1 (100%) बहुजन समाज पार्टी के विजेता उम्मीदवारों ने अपने ऊपर आपराधिक मामले घोषत किये हैं। जबकि बीजेपी के 255 में से 90 (35 %), समाजवादी पार्टी के 111 में से 48 (43 %), आरएलडी के 8 में से 5 (63 %), सुहेलदेव भारतीये समाज पार्टी के 6 में से 4 (67 %), निर्बल इंडियन शोषित हमारा अपना दल के 6 में से 4 (67%), अपना दल (सोने लाल ) के 12 में से 2 (17 %) जनसत्ता दल लोकतान्त्रिक के 2 (100%) काग्रेस के 2 (100 % ) और 1 (100%) बहुजन समाज पार्टी के विजेता उम्मीदवारों ने अपने ऊपर  गंभीर आपराधिक मामले घोषत किये हैं।

2022 में 403 में से 366 (91%) विधायक करोड़पति है। जबकि 2017 में 402 में से 322 (80%)  विधायक करोड़पति थे। दलवार बीजेपी के 255 में से 233 (91%), समाजवादी पार्टी के 111 में से 100 (90 %), अपना दल (सोने लाल ) के 12 में से 9 (75 %),  RLD के 8 में से 7 (88 %), सुहेलदेव भारतीये समाज पार्टी के 6 (100 %),  निर्बल इंडियन शोषित हमारा अपना दल के 6 (100%), जनसत्ता दल लोकतान्त्रिक के 2 (100%)  काग्रेस के 2 (100 % ) और 1 (100%) बहुजन समाज पार्टी के विजेता उमीदवार करोड़पति हैं।
2022 में विजेता उम्मीदवारों में 183 (45 % ) की संपत्ति 5 करोड़ या उसके ऊपर हैं 122 (30 % ) की संपत्ति 2 से 5 करोड़ की बीच हैं, 84 (20 % ) ऐसे विजेता हैं जिनकी संपत्ति 50 लाख से 2 करोड़ हैं, 12 (3 % ) उम्मीदवार ऐसे हैं जिनकी संपत्ति 10 लाख से 50 लाख के बीच हैं, वही 2 उम्मीदवार ऐसे भी हैं जिनकी संपत्ति 10 लाख के नीचे की हैं।

विजेता विधायकों में सबसे ज्यादा संपत्ति घोषित करने में पहले स्थान पर मेरठ जनपद के भारतीय जनता पार्टी के उम्मीदवार अमित अग्रवाल है, जिन्होने अपनी संपत्ति 148 करोड़ बतायी है। दूसरे स्थान पर जनपद मुरादाबाद  के मुरादाबाद रूरल विधानसभा सीट से समाजवादी पार्टी के मोहम्द नासिर है जिनकी संपत्ति 60 करोड़ हैं, तीसरे समाजवादी पार्टी के जनपद अम्बेडकर नगर के जलालपुर विधानसभा सीट से राकेश पांडेय है जिन्होने अपनी संपत्ति 59 करोड़ बतायी है। 2022 में विजेता उम्मीदवारों की औसतन संपत्ति रू 8.06 करोड़ है। जो 2017 में विधायको की सम्पत्ति 5.92 करोड़ थी। 74  विधायकों ने 1 करोड़ से ज्यादा अपनी देनदारी घोषित की है। 2022 में 87 (22%)  विजेता उम्मीदवारों ने अपनी शैक्षिक योग्यता 8वीं और 12वीं के बीच घोषित की है। जबकि 305 (76 %) विधायकों ने अपनी शैक्षिक योग्यता स्नातक और इससे ज्यादा घोषित की हैं। 3 उम्मीदवारों ने अपनी शैक्षिक योग्यता डिप्लोमा धारक घोषित की हैं, वहीं 7 उम्मीदवारों ने अपनी शैक्षिक योग्यता साक्षर और 1 उम्मीदवार ने अपनी शैक्षिक योग्यता घोषित नहीं की है।
169 (42%) विधायकों ने अपनी आयु 25 से 50 वर्ष के बीच घोषित की हैं, जबकि 232 (58%) विधाय ने अपनी आयु 51 से 80 वर्ष के बीच घोषित की हैं, 2 उम्मीदवारों ने अपनी आयु 80 वर्ष से अधिक घोषित की हैं। 2022 में 403 में से 47 (12 %) महिला विजेता उम्मीदवार हैंI जबकि 2017 में 402 में से 40 (10 %) महिला विधायक थी

अन्य समाचार