मुख्यपृष्ठखेलआउट ऑफ पैवेलियन : सिंधु को झटका

आउट ऑफ पैवेलियन : सिंधु को झटका

अमिताभ श्रीवास्तव। अपने पहले ही मैच में हारकर बाहर हो जाना पीवी सिंधु के लिए बड़ा झटका है। महिला बैडमिंटन खिलाड़ी पीवी सिंधु को इंडोनेशिया ओपन सुपर १०० बैडमिंटन टूर्नामेंट के पहले ही दौर में हार का सामना करना पड़ा है। सिंधु को चीन की ही बिंग जियाओ  ने महिलाओं के एकल वर्ग के पहले दौर में २१-१४, २१-१८ से हराकर टूर्नामेंट से बाहर कर दिया। दोनों खिलाड़ियों के बीच यह मुकाबला ४७ मिनट तक चला। आगामी बर्मिंघम कॉमनवेल्थ गेम्स से पहले सिंधु की तैयारियों को तगड़ा झटका लगा है। सातवीं वरीयता प्राप्त दो बार की ओलिंंपिक मेडलिस्ट पीवी सिंधु के खिलाफ चीनी खिलाड़ी ने अपना रिकॉर्ड १०-८ कर लिया है। उधर, पुरुषों के एकल वर्ग के पहले दौर में बी साई प्रणीत का मुकाबला डेनमार्क के हैंस क्रिस्टियन सोलबर्ग विंटिंग्स से था। इस मुकाबले में भी हिंदुस्थानी खिलाड़ी को हार नसीब हुई। विटिंग्स ने बी साई प्रणीत को २१-१६, २१-१९ से हराकर उन्हें बाहर कर दिया।

बीच मैच में उतारने लगी कपड़े
ऐसा कई बार हुआ है। कई स्पर्धाओं में बीच मैच में दर्शकों द्वारा अनाप-शनाप हरकतें हुई हैं, जिन्होंने सुर्खियां बटोरी हैं। एक बार फिर एक मैच में महिला दर्शक द्वारा ऐसी हरकत की गई, जो न केवल अश्लील थी बल्कि उसने सुर्खियां भी खूब बटोरी। हालांकि उसे ऐसा करना भारी पड़ गया। हुआ यूं कि अमेरिका में बेसबॉल मैच चल रहा था, ज्यादा जोश में आकर एक महिला ने अपने कपड़े उतारना चालू कर दिया। इसके बाद सिक्योरिटी गार्ड्स ने उसे पकड़कर बाहर का रास्ता दिखा दिया। वैâलिफोर्निया के डोजर्स स्टेडियम में लॉस एंजिल्स डोजर्स और शिकागो वाइट सॉक्स के बीच बेसबॉल का मैच खेला जा रहा था। इस दौरान एक महिला अपनी कुर्सी से उठ गई और स्टैंड्स में खड़े होकर अपना बॉडी पार्ट दिखाने लगी। महिला नशे की हालत में थी, जो अपने पैरों पर ठीक तरीके से खड़े भी नहीं हो पा रही थी, जिसके चलते ५ सिक्योरिटी गार्ड्स ने उसे सहारा दिया और स्टेडियम से बाहर ले गए। उसकी इस हरकत को देखकर वहां मौजूद लोग भी आपत्ति जताने लगे।

रिकॉर्ड तोड़ा पर फिसला सोना
ये भी होता है कि रिकॉर्ड टूट जाता है मगर फिर भी स्वर्ण नहीं जीत पाते। ऐसा ही हुआ। मौजूदा ओलिंंपिक चैंपियन भाला फेंक एथलीट नीरज चोपड़ा ने पावो नुरमी गेम्स २०२२ में ८९.०३ मीटर का थ्रो कर सिल्वर मेडल अपने नाम किया। इस प्रतियोगिता का स्वर्ण पदक फिनलैंड के ओलिवर हेलांडर ने जीता। ओलिवर ने ८९.८३ मीटर दूर भाला फेंका। नीरज के लिए यह प्रदर्शन अगले महीने होने वाले वर्ल्ड चैंपियनशिप के लिए टॉनिक का काम करेगा। नीरज चोपड़ा का टोक्यो ओलिंपिक के बाद यह पहला टूर्नामेंट था। वो १० महीने बाद किसी प्रतियोगिता में उतरे हैं। इस दौरान उन्होंने अपना पूरा फोकस ट्रेनिंग और रिकवरी पर किया। नीरज चोपड़ा ने अपने पहले प्रयास में ८८.०७ मीटर का थ्रो किया। हीट में वो पांचवें नंबर पर थे। फाइनल्स में उन्होंने ८६.९२ मीटर थ्रो के साथ शुरुआत किया। पहले राउंड में यह उनका बेस्ट प्रयास था। २४ वर्षीय नीरज चोपड़ा ने दूसरे प्रयास में ८९.३० मीटर दूर भाला फेंककर अपना ही नेशनल रिकॉर्ड तोड़ दिया। नीरज ने टोक्यो ओलिंपिक में ८८.०७ मीटर थ्रो कर स्वर्ण पदक जीता था। नीरज चोपड़ा ने पहली बार ८९ मीटर के मार्क को छुआ है। इससे पहले उनका बेस्ट थ्रो ८८.०७ मीटर रहा था, जो उन्होंने पिछले साल पटियाला में इंडियन जीपी के दौरान बनाया था।

जॉनी यहां हमारी हुकूमत चलती है
किसी फिल्म का ये डायलॉग इंग्लैंड बनाम न्यूजीलैंड के टेस्ट मैच में जॉनी बेयरस्टो पर पूरा फिट बैठता है क्योंकि जॉनी ने धमाकेदार बल्लेबाजी कर अपनी टीम को भी जितवाया और अपना रिकॉर्ड भी बनाया। इंग्लैंड टेस्ट सीरीज के दूसरे मुकाबले में न्यूजीलैंड को ५ विकेट से हराया। इस जीत के हीरो जॉनी बेयरस्टो रहे। बेयरस्टो ने इंग्लैंड के लिए दूसरा सबसे तेज टेस्ट शतक लगाया, जिससे उनकी टीम ने रिकॉर्ड लक्ष्य का पीछा करते हुए न्यूजीलैंड के खिलाफ सीरीज को २-० से अपने नाम कर लिया। इंग्लैंड को जीत के लिए पांचवें दिन २९९ रन का लक्ष्य मिला था और दो सत्र के करीब खेल बचा था। इंग्लैंड ने ५० ओवर में लक्ष्य हासिल कर लिया। बेयरस्टो ने ९२ गेंद में १३६ रन बनाए। उनकी पारी में १४ चौके और ७ छक्के शामिल थे। तो यहां जॉनी की हुकूमत चलती है, कीवियों की नहीं।
(लेखक सम सामयिक विषयों के टिप्पणीकर्ता हैं। ३ दशकों से पत्रकारिता में सक्रिय हैं व दूरदर्शन धारावाहिक तथा डाक्यूमेंट्री लेखन के साथ इनकी तमाम ऑडियो बुक्स भी रिलीज हो चुकी हैं।)

अन्य समाचार