मुख्यपृष्ठखेलआउट ऑफ पैवेलियन: जेमिमा हैं एलिट कंपनी का हिस्सा

आउट ऑफ पैवेलियन: जेमिमा हैं एलिट कंपनी का हिस्सा

अमिताभ श्रीवास्तव।  टीम इंडिया की महिला विंग की यह चुलबुली लड़की मगर मैदान पर विरोधी टीम के लिए सिरदर्द बनने वाली खिलाड़ी जेमिमा रोड्रिक्स ने क्यों कहा कि वो धोनी और कोहली के एलिट कंपनी की हिस्सा हैं? दरअसल, जेमिमा रोड्रिग्स ने ट्विटर पर अपनी एक फोटो शेयर की है, जिसमें वो क्रीज पर स्पिट करते नजर आ रही हैं। शानदार बात ये है कि इस तस्वीर में आपको एमएस धोनी और विराट कोहली भी इसी पोजीशन में नजर आएंगे। ये तस्वीर आपको धोनी या कोहली के फिटनेस की याद दिलाती है, जिसके बारे में हर क्रिकेट पैâन अक्सर बात करते नहीं थकता। इस पोस्ट के साथ जेमिमा ने वैâप्शन में लिखा, `लगता है कि मैं अब एलीट कंपनी का हिस्सा हूं।’ मुंबई की इस क्रिकेटर ने द हंड्रेड टूर्नामेंट के अपने फॉर्म को इंग्लैंड में पूरी तरह इस्तेमाल किया। पिछले साल वो नॉर्दन सुपर चार्जर्स के लिए खेली थी। जेमिमा ने कहा था १०० गेंदों वाले टूर्नामेंट में प्रदर्शन से उन्हें कामनवेल्थ में आत्मविश्वास से साथ खेलने में मदद मिली।

कांबली को काम चाहिए
अफसोस होता है ऐसे देखना। क्रिकेट के स्टार रहे विनोद कांबली कभी चर्चा में, विवादों में, फिल्मों में, पार्टियों में दिखाई तो देते रहे हैं मगर ऐसे देखना कई सारे सवाल खड़े करता है। जी हां, बदहाली में जी रहा है ये पूर्व क्रिकेटर। सचिन तेंदुलकर का दोस्त और स्टाइलिश रहने के आदी विनोद कांबली की हालत खराब है। आर्थिक तंगी के दौर से गुजर रहे कांबली को काम चाहिए। वो क्रिकेट के लिए कुछ भी काम करने को तैयार है। फिलहाल स्थिति ये है कि कांबली को कोई पहचान ही नहीं पाएगा कि ये वही है जिसके गले में सोने की चेन हुआ करती थी, शानदार कपड़े पहना करते थे। महंगा चश्मा और कलाई में महंगी घड़ी हुआ करती थी, वो कांबली अब एक बहुत सामान्य से रूप में पिछले दिनों देखे गए। कांबली ने अपनी हालत बयान करते हुए बोर्ड का आभार माना क्योंकि एकमात्र वही हैं, जिसकी पेंशन से उनका जीवन चल रहा है। करीब ३० हजार रुपए ही कांबली को मिल रहे हैं और फिलवक्त जीवनयापन के लिए वही सहारा है। कांबली को काम चाहिए इसके लिए उन्होंने एमसीए को भी कहा है। देखते हैं इस शानदार पूर्व क्रिकेटर के लिए कोई दरवाजा खोलता है या नहीं?

कलाबाजी ने ले ली जान
बहुत दु:खद है ये कि एक होनहार कबड्डी खिलाड़ी कलाबाजी दिखाने के चक्कर में अपनी जान गवां बैठा। तमिलनाडु के तिरुवन्नामलाई जिले के एक कबड्डी खिलाड़ी विनोथ कुमार एक मंदिर उत्सव के दौरान अपनी कलाबाजी का प्रदर्शन कर रहे थे, लेकिन कलाबाजी करते समय उनकी गर्दन में चोट लग गई और वो बुरी तरह से घायल हो गए। इसके बाद उन्हें अरानी तालुक अस्पताल में भर्ती कराया गया। जब वहां, उनकी हालत बिगड़ गई, तो उन्हें वेल्लोर मेडिकल कॉलेज अस्पताल और बाद में चेन्नई के सरकारी अस्पताल ले जाया गया। १५ अगस्त की रात उनकी मौत हो गई। चेन्नई के एक निजी मेडिकल कॉलेज अस्पताल के जनरल फिजिशियन डॉ. शनमुगसुंदरम ने आईएएनएस को बताया, ‘कलाबाजी के दौरान हुई दुर्घटना में वे घायल हो गए थे, जिसके कारण उनके सर्वाइकल स्पाइन में गहरी चोट आई थी।’

दादा नहीं देते भाव
किसे भाव नहीं देते दादा? यानी अपने सौरव गांगुली। दरअसल २८ अगस्त को एशिया कप में टीम इंडिया बनाम पाकिस्तान का मैच है और इसी मैच को लेकर दादा ने कहा कि वो इस मैच को आम मैचों की तरह ही देखते हैं। यानी पाकिस्तान से मुकाबले को कोई भाव नहीं देते। टीम इंडिया की तरफ से कई मुकाबलों में पाकिस्तान के खिलाफ कप्तानी कर चुके गांगुली ने साफ किया कि पाकिस्तान के साथ होने वाले मुकाबले पर ध्यान रहेगा लेकिन यह किसी अन्य मुकाबले की तरह ही होनेवाला है। टीम का असली फोकस एशिया कप की ट्रॉफी जीतने पर रहना चाहिए। गांगुली बोले, `मैं इसको एशिया कप के दौरान होनेवाले एक मैच की तरह से ही देख रहा हूं। मैं किसी भी टूर्नामेंट को हिंदुस्थान और पाकिस्तान के जैसे कभी भी नहीं देखता हूं। जब मैं खेला करता था तो उन दिनों में भी मेरे लिए हिंदुस्थान और पाकिस्तान का मैच किसी अन्य मैच की तरह से ही होता था। टीम इंडिया के पास एक बहुत ही अच्छी टीम है और हालिया दिनों में इस टीम ने बहुत ही अच्छा प्रदर्शन करके दिखाया है। मेरी उम्मीद है कि यह टीम एशिया कप के दौरान भी बहुत ही अच्छा खेल दिखाने वाली है।’

(लेखक सम सामयिक विषयों के टिप्पणीकर्ता हैं। ३ दशकों से पत्रकारिता में सक्रिय हैं व दूरदर्शन धारावाहिक तथा डाक्यूमेंट्री लेखन के साथ इनकी तमाम ऑडियो बुक्स भी रिलीज हो चुकी हैं।)

अन्य समाचार