मुख्यपृष्ठखेलआउट ऑफ पैवेलियन : धोनी के फार्महाउस पर केदार की मस्ती

आउट ऑफ पैवेलियन : धोनी के फार्महाउस पर केदार की मस्ती

  • अमिताभ श्रीवास्तव

धोनी के फार्महाउस पर केदार की मस्ती
महेंद्र सिंह धोनी एक रईसी जिंदगी जीते हैं। उनके फार्महाउस की बात ही अलग है। अब देखिए न धोनी के फार्महाउस पर केदार जाधव की चाय की चुस्की कुछ इस प्रकार रही कि केदार अपने अनुभव को बांटने के मोह से न बच सके। इस समय क्रिकेट से दूर एमएस धोनी घर पर समय बिता रहे हैं। खूबसूरत फार्महाउस पर उनके साथ एक दिन केदार जाधव ने भी बिताया और उनके दिन को यादगार बनाया सुनहरी ने। ये सुनहरी कौन? धोनी की अपनी घोड़ी। जी हां, जाधव ने धोनी और सुनहरी के साथ अपनी एक तस्वीर इंस्टाग्राम पर शेयर की और लिखा कि सुनहरी के साथ माही भाई और मैं। फार्महाउस पर बिताया एक अच्छा दिन। धोनी का ये फार्महाउस रांची में है। जाधव ने जो तस्वीर शेयर की, उसमें पूर्व कप्तान के साथ एक घोड़ी भी है और उसका नाम सुनहरी है। बीते दिनों धोनी, जाधव और ऋतुराज गायकवाड़ को ड्राइव पर भी ले जाते हुए नजर आए थे। उन्होंने दोनों स्टार्स को शहर घुमाया था।
फ्रांस को भारी झटका
फुटबाल का विश्वकप कतर में शुरू हो चुका है। टीमें लामबंद हो चुकी हैं और युद्ध के लिए तैयार हैं, वहीं पिछली चैंपियन फ्रांस को फीफा वर्ल्डकप २०२२ की शुरुआत से पहले ही बड़ा झटका लगा है। टीम के स्टार स्ट्राइकर करीम बेंजेमा ट्रेनिंग के दौरान बायीं जांघ में चोट लगने के कारण टूर्नामेंट से बाहर हो गए। बेंजेमा का वर्ल्डकप जीतने का सपना कतर में एक भी मैच खेले बिना ही खत्म हो गया।फ्रांस फुटबॉल महासंघ (एफएफएफ) ने कहा, ‘करीम बेंजेमा विश्वकप से बाहर हो गए हैं। बायीं जांघ की ‘क्वॉड्रीसेप्स’ मांसपेशियों में खिंचाव के बाद रियल मैड्रिड के स्ट्राइकर को वर्ल्डकप से बाहर होना पड़ा।’ यह फ्रांस के लिए बड़ा झटका है। उधर अर्जेंटीना के कप्तान लियोनल मेसी भी अपना पहला मैच नहीं खेल पाएंगे, ऐसी जानकारी मिल रही है। इस बार वैसे भी जिन टीमों पर दांव लगा है उनमें फ्रांस , अर्जेंटीना और ब्राजील का नाम आ रहा है। फ्रांस को ऐसे में अपने स्टार खिलाड़ी के बाहर होने का दु:ख सालेगा।
फुटबॉलर प्रिया की मौत का जिम्मेदार कौन?
यह एक सनसनीखेज मामला है और इस मामले में तमिलनाडु के दो डॉक्टरों सहित पांच लोगों पर आईपीसी की धारा ३०४ (ए) के तहत उनकी लापरवाही के लिए मामला दर्ज किया गया था, जिसके कारण फुटबॉलर प्रिया की मौत हो गई थी। पेरवल्लूर पुलिस ने उन घटनाओं की जांच शुरू की, जिसके कारण प्रिया की मौत हुई। तमिलनाडु स्वास्थ्य विभाग ने उन घटनाओं के क्रम की जांच के लिए एक विशेषज्ञ समिति का गठन किया था, जिसने गुरुवार को रिपोर्ट सौंपी। प्रिया की मौत के लिए ऑपरेटिंग सर्जन, थिएटर एनेस्थेटिस्ट, ड्यूटी मेडिकल ऑफिसर, आर्थोपेडिक सर्जन और पोस्ट-ऑपरेटिव वॉर्ड स्टाफ को जिम्मेदार ठहराया गया था। पेरवल्लूर पुलिस ने प्रिया के पिता रविशंकर की शिकायत के आधार पर मामला दर्ज किया है।
फुटबॉल में फिक्सिंग
एक तो अपने देश में फुटबॉल की लोकप्रियता बढ़ नहीं पा रही है। लाख प्रयास जारी है। ऊपर से फिक्सिंग का मामला उसे और गर्त में ले जाएगा। जी हां, हिंदुस्थानी फुटबॉल में फिक्सिंग का मामला सामने आया है। सेंट्रल ब्यूरो ऑफ इनवेस्टिगेशन ने देश में फुटबॉल की सबसे बड़ी संस्था ऑल इंडिया फुटबॉल फेडरेशन के दरवाजे पर दस्तक दी है। पता चला कि कम से कम पांच देशी फुटबॉल क्लबों को शेल फर्मों के माध्यम से एक अंतरराष्ट्रीय फिक्सर से भारी भरकम पैसे मिले हैं। जिन पांच क्लबों की जांच की जा रही है, वे सभी आई-लीग से जु़ड़े हैं। जो चर्चाएं हैं और खबर छन का बाहर आ रही हैं, उसमें सिंगापुर के मैच फिक्सर विल्सन राज पेरुमल ने लिविंग ३डी होल्डिंग्स लिमिटेड के माध्यम से हिंदुस्थानी क्लबों में निवेश किया है। यह इंटरनेशनल मैच फिक्सर ओलिंपिक, विश्वकप क्वॉलिफायर, महिला विश्वकप और अफ्रीकी कप ऑफ नेशंस सहित सभी स्तरों पर धांधली कर चुका है। पेरुमल को पहली बार १९९५ में सिंगापुर में मैच फिक्सिंग के आरोप में जेल भेजा गया था। वह फिनलैंड और हंगरी में दोषी ठहराए जा चुके हैं।

(लेखक सम सामयिक विषयों के टिप्पणीकर्ता हैं। ३ दशकों से पत्रकारिता में सक्रिय हैं व दूरदर्शन धारावाहिक तथा डाक्यूमेंट्री लेखन के साथ इनकी तमाम ऑडियो बुक्स भी रिलीज हो चुकी हैं।)

अन्य समाचार