मुख्यपृष्ठखबरेंआउट ऑफ पैवेलियन :  माली बने सचिन

आउट ऑफ पैवेलियन :  माली बने सचिन

अमिताभ श्रीवास्तव। क्रिकेट के बादशाह रहे सचिन तेंदुलकर अब माली बन गए हैं। वो सब्जियां उगा रहे हैं। आपको आश्चर्य होगा मगर ये खुद सचिन ने अपने सोशल मीडिया पर बताया कि वो सब्जियां उगा रहे हैं। वैसे भी सचिन तेंदुलकर सोशल मीडिया पर भी खूब एक्टिव रहते और आए दिन अपने फोटो से वीडियो शेयर करते रहते हैं। इस बीच उन्होंने अपना एक वीडियो इंस्टाग्राम पर शेयर किया, जिसमें वह क्रिकेट खेलते नहीं बल्कि अपने घर के आंगन में सब्जियां तोड़ते नजर आ रहे हैं। उन्होंने बताया कि ये सब्जियां उन्होंने खुद उगाई हैं। इसके साथ ही उन्होंने वीडियो को शेयर करते हुए मजेदार वैâप्शन भी लिखा कि इन सब्जियों के नाम इस्तेमाल करके आप कितने वाक्य बना सकते हैं? मैंने बनाया- उम्मीद है कि हमारे बल्लेबाज दूसरी टीमों के गेंदबाजों का भुर्ता बनाते रहें।

कंगारू करेंगे हमला
ऑस्ट्रेलिया को टीम इंडिया से भिड़ना है और अपनी टीम की घोषणा भी कर दी है। हिंदुस्थानी पिचों के आकलन के मद्देनजर उन्होंने टीम इंडिया पर ठीक उसी तरह का हमला करने की मंशा बनाई है, जो टीम इंडिया की अपनी पिचों पर ताकत रहती है। जी हां स्पिनर। कंगारुओं ने टेस्ट टीम का एलान कर दिया है। घर में साउथ अप्रâीका को रौंदने के बाद ही कंगारू कप्तान ने ये दम भरा था कि उनके लिए असली चैलेंज इंडिया है। उस चुनौती पर खरे उतरने का असर ऑस्ट्रेलिया के टीम चयन पर साफ दिखा है। िंहदुस्थान आनेवाली ऑस्ट्रेलिया की टेस्ट टीम की खास बात यह है कि इसमें ४ स्पिनर शामिल हैं। साफ है कि ऑस्ट्रेलिया के टीम सेलेक्टर्स ने ये पैâसला हिंदुस्थानी के पिचों को ध्यान में रखकर लिया है। ऑस्ट्रेलिया ने अपनी टीम में जिन चार स्पिनर्स को शामिल किया है, उनमें नाथन लियॉन, एश्टन एगर और मिचेल स्वेपसन तो होंगे ही, इन तीनों के अलावा विक्टोरिया के उभरते स्पिनर टॉड मर्फी भी शामिल हैं। मतलब मर्फी उनके छुपे रुस्तम साबित हो सकते हैं, जिन्हें खेलने का हिंदुस्थानी बल्लेबाजों को अनुभव नहीं है।

शर्माजी ने लगवाया शनाका का शतक
अब अगर यह कहें कि रोहित शर्मा ने श्रीलंका के कप्तान दासुन शनाका का शतक लगवाया तो गलत नहीं होगा। क्योंकि यही हुआ जब वो आउट थे और रोहित ने अंपायर से अपनी अपील वापस ले ली। इसे अब खेल भावना कहो या कुछ भी मगर शर्माजी की उदारता ने शनाका का शतक बनवा दिया। दरअसल, आखिरी ओवर में टीम इंडिया मैच जीत चुका था और श्रीलंका के कप्तान दासुन शनाका अपने शतक से महज २ रन दूर ९८ पर बल्लेबाजी कर रहे थे। यह ओवर तेज गेंदबाज मोहम्मद शमी डाल रहे थे। शमी ने चौथी गेंद पर नॉन स्ट्राइक एंड पर खड़े शनाका को मांकडिंग आउट कर दिया, जिसके बाद कप्तान रोहित शर्मा ने अपील वापस ले ली और उन्हें बल्लेबाजी करने दिया। अंपायर ने यह पैâसला तीसरे अंपायर को सौंप दिया था। वैसे भी शनाका आउट ही थे, पर रोहित की उदारता काम आई और उन्हें खेलने दिया गया।

मरे का निधन
क्रिकेट के तूफानी दौर में अचानक किसी क्रिकेटर के निधन की खबर स्तब्ध कर देती है। ऐसा ही हुआ जब न्यूजीलैंड के क्रिकेटर के निधन की खबर आई। न्यूजीलैंड के पूर्व क्रिकेटर ब्रूस मरे का ८२ वर्ष की उम्र में निधन हो गया है। ब्रूस मरे दाएं हाथ के सलामी बल्लेबाज थे, जिन्होंने फरवरी १९६८ में टेस्ट क्रिकेट में डेब्यू किया था। उन्होंने न्यूजीलैंड के लिए १३ मैचों में २३.९२ की औसत से ५९८ रन बनाए, जिसमें पांच अर्धशतक शामिल थे। ब्रूस मरे का बेस्ट स्कोर ९० रहा था, जो उन्होंने  १९६९ में लाहौर में बनाया था। ब्रूस मरे ने पाकिस्तान के खिलाफ कम स्कोरवाले मैच में १२७ रनों की निर्णायक पहली पारी की बढ़त हासिल करने में मदद की थी। न्यूजीलैंड ने उस टेस्ट मैच को पांच विकेट से जीत लिया था। आखिरकार, न्यूजीलैंड की टीम ने इन तीन मैचों की सीरीज को १-० से अपने नाम किया था, जिससे यह जीत उनकी पहली टेस्ट-सीरीज जीत भी थी। वहीं १९६८ में वेलिंगटन में तीसरे टेस्ट के दौरान िंहदुस्थान के खिलाफ एक ओवर फेंकने और सलामी बल्लेबाज सैयद आबिद अली को आउट करने के दौरान ब्रूस मरे केवल तीन इंटरनेशनल क्रिकेटरों में से एक थे, जिन्होंने एक विकेट लिया और कोई रन नहीं दिया था।

(लेखक सम सामयिक विषयों के टिप्पणीकर्ता हैं। ३ दशकों से पत्रकारिता में सक्रिय हैं व दूरदर्शन धारावाहिक तथा डाक्यूमेंट्री लेखन के साथ इनकी तमाम ऑडियो बुक्स भी रिलीज हो चुकी हैं।)

अन्य समाचार