मुख्यपृष्ठखेलआउट ऑफ पैवेलियन : इंग्लैंड में ही क्यों हो रहा फाइनल?

आउट ऑफ पैवेलियन : इंग्लैंड में ही क्यों हो रहा फाइनल?

अमिताभ श्रीवास्तव
ये बात सबके मन में कौंधती तो होगी कि विश्व टेस्ट चैंपियनशिप का फाइनल इंग्लैंड में ही क्यों होता है? जबकि यहां अक्सर ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड की टीमों को फायदा होता है। तो क्या इसलिए यहां कराया जाता है फाइनल? नहीं। दरअसल, आईसीसी ने फाइनल का विंडो जून महीने में ही रखा हुआ है। जून के दौरान हिंदुस्थान, श्रीलंका, ऑस्ट्रेलिया और साउथ अप्रâीका जैसे देशों में क्रिकेट नहीं होने की सबसे बड़ी वजह यहां का मौसम है। इस दौरान इन देशों में या तो बारिश का मौसम शुरू हो रहा होता है या बहुत ज्यादा ठंड या गर्मी होती है। लेकिन इंग्लैंड का मौसम इस दौरान साफ रहता है। इंग्लैंड में मई से सितंबर तक गर्मियों का मौसम रहता है। इस समय बड़ी संख्या में पर्यटक इंग्लैंड घूमने आते हैं, जिसका फायदा यहां होनेवाले क्रिकेट मैचों को भी होता है। यही  वजह है, जिससे इंग्लैंड डब्ल्यूटीसी फाइनल को होस्ट करने के लिए फेवरेट बना रहता है। वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप टेस्ट क्रिकेट का वर्ल्ड कप है। टीम इंडिया और ऑस्ट्रेलिया की टीमें २ साल से टेस्ट में सबसे अच्छा प्रदर्शन करते हुए यहां तक पहुंची हैं। वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप का एक सीजन २ साल का होता है।

गंगा आरती में वेंकटेश
ये भी एक संयोग है कि वेंकटेश नाम खिलाडियों में आस्था और श्रद्धा का संचार करता है। अब देखिए न अभी पिछले दिनों ही वेंकटेश अय्यर वेदों का अध्ययन कर रहे छात्रों के साथ एक गुरुकुल में पारंपरिक वेशभूषा पहने क्रिकेट खेलते नजर आए तो अब एक पूर्व खिलाड़ी वेंकटेश प्रसाद काशी के घाट पर आरती करते नजर आए। वाराणसी के दशाश्वमेध घाट पर होनेवाली विश्व प्रसिद्ध मां गंगा की दैनिक आरती में सपत्नी शामिल हुए टीम इंडिया के पूर्व खिलाड़ी वेंकटेश प्रसाद मां गंगा का वैदिक रीति से पूजन किया व आरती देख मंत्रमुग्ध हो गए। आरती के दौरान कभी सेल्फी तो कभी वीडियो बनाते भी वो नजर आए। वेंकटेश प्रसाद का गंगा सेवा निधि के अध्यक्ष सुशांत मिश्रा, कोषाध्यक्ष आशीष तिवारी, सचिव हनुमान यादव ने अंगवस्त्रम मोमेंटो व प्रसाद से स्वागत किया। मां गंगा की आरती में जैसे ही श्रद्धालुओं को पता चला कि हमारे बीच भारतीय टीम के पूर्व खिलाड़ी मौजूद हैं तो तस्वीरें खिंचवाने की होड़ सी लग गई। ३३ टेस्ट मैच में ९६ विकेट झटक चुके वेंकटेश ने १६१ वनडे में १९६ विकेट हासिल किए थे।

स्वान चाहे इंडिया जीते
अमूमन अंग्रेज हिंदुस्थानी टीम को हारते हुए देखना पसंद करते हैं। मगर कल से शुरू हुए विश्व टेस्ट चैंपियनशिप के फाइनल मुकाबले में वो ऑस्ट्रेलिया को हारते देखना चाह रहे हैं। जी हां, इंग्लैंड के पूर्व स्पिनर ग्रीम स्वान ने कहा कि वह जीत के लिए हिंदुस्थानी टीम का पक्ष लेंगे। उन्होंने भविष्यवाणी की है कि एक अंग्रेज होने के नाते वह इंडिया द्वारा ऑस्ट्रेलिया को हराते हुए देखना पसंद करेंगे और इंडिया को आईसीसी ट्रॉफी के १० साल के सूखे को खत्म करते हुए देखना चाहेंगे। स्वान ने कहा, ‘टीम इंडिया के पास कुछ शानदार सीम गेंदबाज भी हैं। इसलिए मुझे लगता है कि इसका जवाब देना मुश्किल है। खेल के लिए मेरी भविष्यवाणी यह ​​है कि मैं एक अंग्रेज हूं, मुझे इंडिया को ऑस्ट्रेलिया को हराते हुए देखना अच्छा लगेगा।’ वैसे भी जब एशेज होता है तो इंग्लैंड की ऑस्ट्रेलियाई टीम के खिलाफ मानसिकता को सब जानते हैं।

(लेखक वरिष्ठ खेल पत्रकार व टिप्पणीकार हैं।)

अन्य समाचार