मुख्यपृष्ठखेलआउट ऑफ पैवेलियन : द्रविड़ दुख

आउट ऑफ पैवेलियन : द्रविड़ दुख

अमिताभ श्रीवास्तव

द्रविड़ दुख
क्या कोई कोच कभी सोच सकता है कि उसके अभी-अभी शुरू हुए कार्यकाल में ही उसे एक नहीं, दो नहीं, तीन नहीं बल्कि छह-छह कप्तानों के साथ काम करने का मौका मिलेगा? आमतौर पर कोच एक या दो कप्तानों के साथ काम करते हुए अपनी रणनीति को अंजाम देता है। उसके साथ अच्छा सामंजस्य भी बैठ जाता है जैसे रवि शास्त्री और विराट कोहली के मध्य था। अब यदि किसी नए कोच के आते ही उसे लगभग हर टूर्नामेंट में एक नया कप्तान मिलता रहे तो टीम को एकसूत्र में बांधे रखने में उसे परेशानी आती ही है। यही दुःख तो है राहुल द्रविड़ का। द्रविड़ जब से कोच बने हैं उन्होंने बहुत से कप्तानों के साथ काम किया है। पिछले साल जुलाई में श्रीलंका के दौरे में शिखर धवन के अलावा रोहित शर्मा, विराट कोहली, अजिंक्य रहाणे, केएल राहुल और ऋषभ पंत के साथ द्रविड़ ने काम किया है। टीम का इस महीने के अंत में आयरलैंड का दौरा होगा और हार्दिक पांड्या टीम के कप्तान बनाए गए हैं। द्रविड़ ने इस बात को लेकर कहा, ये रोमांचक और चुनौतीपूर्ण भी रहा है। शायद पिछले आठ महीनों में लगभग छह कप्तान रहे हैं, जिनके साथ मुझे काम करना था। जब मैंने पहली बार शुरुआत की थी तो वास्तव में इसकी योजना नहीं थी लेकिन यह२ कोरोना के कारण ऐसा करने पर मजबूर होना पड़ा।
ट्रांसजेंडर तैराक बैन
ये दुखदायी है मगर खेल नियमों में तथा शक्ति के मामले में गलत। जी हां, अमेरिकी तैराक लिया थॉमस पर इंटरनेशनल स्वीमिंग फेडरेशन पर बैन लगाने का फैसला किया है। थॉमस एक ट्रांसजेंडजर तैराक है और वह महिला तैराकों की प्रतियोगिता में हिस्सा लेती थी लेकिन फिना के फैसले के बाद अब वह महिला तैराकों के साथ हिस्सा नहीं ले पाएगी। फिना ने अपने बयान में कहा है कि वह ट्रांसजेंडर तैराकों के लिए एक अलग कैटेगरी बनाने जा रही है, जिसमें थॉमस हिस्सा ले सकती है। वहीं ट्रांसजेंडरों के लिए नए नियमों के तहत एक ट्रांसजेंडर महिला केवल तभी महिलाओं की तैराकी प्रतिस्पर्धा में हिस्सा ले सकती है जब उन्होंने १२ साल की उम्र तक जैविक बदलाव की सभी प्रक्रियाओं को पूरा कर लिया हो। इसके अलावा उन्हें यह भी साबित करना होगा कि वह अपने टेस्टोस्टेरोन के स्तर को लगातार कम कर रहे हों।
कौन है ओरियन कीच सिंह?
एकदम नया नाम है। अचानक सुनकर ऐसा लगता है जैसे कोई विदेशी नाम हो जो बाद में हिंदुस्थान बस गया और सिंह रख लिया। है न। मगर ये अजीब सा नाम कोई विदेशी नहीं बल्कि देसी है। वो भी सिक्सर किंग युवराज सिंह के बेटे का। युवराज सिंह २५ मार्च को पिता बने थे। उनकी अभिनेत्री पत्नी हेजल कीच ने बेटे को जन्म दिया था। अब युवी ने फादर्स डे के मौके पर अपने बेटे का नामकरण किया है। युवी और हेजल ने अपने बेटे का नाम ओरियन कीच सिंह रखा है। उन्होंने सोशल मीडिया पर पोस्ट डालकर अपने बेटे के नाम का खुलासा किया। युवी ने पहली बार दुनिया को अपने बेटे की झलक भी दिखाई। युवराज सिंह ने खुद ही एक इंटरव्यू में ओरियन के नाम का खुलासा किया है। पूर्व भारतीय बल्लेबाज ने बताया, ‘ओरियन एक तारा नक्षत्र है और माता-पिता के लिए, उनका बच्चा उनके लिए सितारा होता है। जब हेजल गर्भवती थी और अस्पताल में सो रही थी, तो मैं कुछ एपिसोड देख रहा था, जहां से नाम मेरे पास आया और हेजल को यह तुरंत पसंद आ गया।’
ब्रेक न सही, ब्रेक फास्ट कमाल का
सचिन पुत्र अर्जुन को आईपीएल में ब्रेक तो मिला मगर डेब्यू नहीं मिला तो वह ब्रेक भी किसी काम का न रहा। मगर ये सब तो होता रहता है क्योंकि अर्जुन के पिता सचिन तेंदुलकर ही उनके लिए पूरी दुनिया है। अपने पिता के लिए यूं तो अर्जुन कई बार ब्रेक फास्ट बना चुके हैं मगर ये विशेष है क्योंकि फादर्स डे पर उन्होंने बनाया। जी हां, सचिन तेंदुलकर के बेटे अर्जुन तेंदुलकर ने फादर्स डे के मौके पर अपने पिता को बेहतरीन सरप्राइज दिया। फादर्स डे के मौके पर अर्जुन तेंदुलकर ने अपने पिता के लिए ब्रेकफास्ट बनाया और इसे पापा और बेटे दोनों ने खूब इंजॉय किया। सचिन ने अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर इसकी फोटो भी शेयर की और मजेदार कैप्शन लिखा। सचिन तेंदुलकर ने अपने ऑफिशियल इंस्टाग्राम अकाउंट पर अपने बेटे के साथ अपनी फोटो शेयर की। इस फोटो को शेयर कर सचिन ने लिखा कि अर्जुन ने आज दुनिया का सबसे बेहतरीन स्क्रैम्बल एग बनाया है। मलाई से ज्यादा भरपूर। उसकी बनावट भी शानदार… प्यार से भरा ब्रेकफास्ट और ज्यादा नहीं मांग सकता। इसके साथ उन्होंने एक लव इमोजी भी बनाई है।

अन्य समाचार