मुख्यपृष्ठनए समाचारपाकिस्तान ही पालता है आतंकी! यूएन में शहबाज की शराफत की खोली...

पाकिस्तान ही पालता है आतंकी! यूएन में शहबाज की शराफत की खोली पोल

  • अफगानिस्तान ने उठाया ना‘पाक’ पड़ोसी से पर्दा

    एजेंसी / काबुल
    पाकिस्तान और उसके आका चीन चोर मचाए शोर की तर्ज पर दुनिया में बर्ताव कर रहे हैं। दुनिया में आतंकवाद के पोषक के रूप में कुख्यात हो रहे पाकिस्तान ने कुछ ऐसी हरकत संयुक्त राष्ट्र महासभा (यूएन) में आतंकवाद का मुद्दा उठाकर की थी। इस पर अफगानिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति हामिद करजई ने ट्वीट में पाकिस्तान को आड़े हाथों लिया है। करजई ने कहा कि पाकिस्तान आतंकवाद को पाल रहा है और यह लोगों के खिलाफ उसे इस्तेमाल भी कर रहा है। करजई ने ट्वीट में लिखा कि ‘पाकिस्तान के प्रधानमंत्री शहबाज शरीफ ने संयुक्त राष्ट्र महासभा में अफगानिस्तान में मौजूद आतंकवादी संगठनों का मुद्दा उठाया था, जो कि पूरी तरह से दुखद और गलत है।’ उन्होंने उल्टे पाकिस्तान को कहा कि पाकिस्तान में कई आतंकी संगठन फल-पूâल रहे हैं।
    हामिद ने पाकिस्तान के आरोपों को सिरे से खारिज करते हुए कहा कि ‘इस मामले में तथ्य पूरी तरह से उलट हैं। पाकिस्तान सरकार कई दशकों से अतंकी संगठनों को पाल रही है और अफगानिस्तान के लोगों, संस्कृति और हेरिटेज के खिलाफ इस्तेमाल कर रही है।’ उन्होंने पाकिस्तानी प्रोपेगेंडा में इसे शामिल बताया है। उन्होंने ट्वीट में यह आरोप भी लगाया है कि पाकिस्तान कट्टरता को अफगानिस्तान के खिलाफ इस्तेमाल कर रहा है और यहां के लोगों के जीवन को प्रभावित कर रहा है। उन्होंने लिखा, ‘पाकिस्तान लगातार ही प्रोपेगेंडा और कट्टरता को अफगानिस्तान की जनता के लिए जो भलाई के काम हो रहे हैं, उन्हें कम करने के लिए कर रहा है।’
    अफगानिस्तान ने किया आरोपों को खारिज
    करजई ने एक स्टेटमेंट में कहा कि जो पाकिस्तान ने स्टेटमेंट दिया है, वह बिलकुल गलत है। जबकि अफगानिस्तान आतंकवाद से पीड़ित रहा है और वह आतंकी संगठन पाकिस्तानी सरकार के नियंत्रण में काम कर रहे हैं। इन्हें पाकिस्तान दशकों से अफगानिस्तान के खिलाफ इस्तेमाल कर रहा है, वहीं अफगानिस्तान के विदेश मंत्रालय ने कहा है कि उनके देश पर लगाए गए आरोप बेबुनियाद हैं।
    शहबाज ने क्या कहा था?
    पाकिस्तान के पीएम शहबाज शरीफ ने यूएन में कहा था कि, ‘पाकिस्तान पूरी दुनिया के सामने अफगानिस्तान में पल रहे आतंकी संगठनों से खतरों का मुद्दा उठाना चाहता है। इन आतंकी संगठनों में खासतौर पर इस्लामिक स्टेट-खोरासन, तहरीक-ए-तालिबान, अल कायदा, ईस्ट तरकिस्तान इस्लामिक मूवमेंट, इस्लामिक मूवमेंट ऑफ उजबेकिस्तान आदि शामिल हैं।’

अन्य समाचार